चुनाव से ठीक पहले खैरागढ़ का हाल:कांग्रेस के जिला बनाने के वादे का माहौल, भाजपा के पास अभी कोई तोड़ नहीं, JCCJ को लेकर खामोशी

रायपुर/ खैरागढ़10 महीने पहलेलेखक: मिथिलेश मिश्र

खैरागढ़ उपचुनाव की गहमागहमी अब चरम की ओर है। यह क्षेत्र पहली बार राजनीतिक रूप से इतना महत्वपूर्ण होता दिख रहा है। कांग्रेस ने इस उपचुनाव में बाकायदा घोषणापत्र जारी कर जीत के 24 घंटों के भीतर जिला बनाने का वादा किया है। इस वादे ने क्षेत्र के वर्षों से पल रही उम्मीदों को पंख दे दिया है। जनता कांग्रेस का भी यही वादा है। इस परसेप्शन की काट के लिए भाजपा सरकार के पिछली बार घोषित चार जिलों के हश्र की याद दिलाकर अपने मतदाताओं को साधे रखने की कोशिश में है।

खैरागढ़ विधानसभा की सीमा से बाहर के पहले गांव मारूटोला कला में मिले गैंदराम वर्मा ने बताया, उनके गांव से ठीक पहले खैरागढ़ की सीमा खत्म होती है, लेकिन खैरागढ़ को जिला बनाने की घोषणा से उनके गांव में भी उत्साह है। उन लोगों को उम्मीद है कि प्रस्तावित खैरागढ़-छुईखदान-गंडई जिले में उनका गांव भी आएगा। वर्मा उत्साहित होकर बताते हैं कि अगर ऐसा हुआ उन लोगों को जिला मुख्यालय के किसी काम के लिए दूर राजनांदगांव जाने का झंझट ही खत्म हो जाएगा। सारे काम नजदीक के खैरागढ़ में होने लगेंगे। अभी यहां तहसील और न्यायालय ही है। जिला बनने के बाद कलेक्टर, एसपी भी बैठेंगे। गैंदराम वर्मा का कहना है, भाजपा प्रत्याशी कोमल जंघेल और कांग्रेस की यशोदा वर्मा दोनों ही उनके समाज के हैं। दोनों सामाजिक रूप से सक्रिय हैं, लेकिन सरकार की घोषणा से गांव में कांग्रेस की ही चर्चा हो रही है।

मारूटोला के गेंदराम वर्मा चुनावी वादों से काफी उत्साहित नजर आए।
मारूटोला के गेंदराम वर्मा चुनावी वादों से काफी उत्साहित नजर आए।

खैरागढ़ तहसील का बागमुड़ा मुख्य सड़क से अलग हटकर है। दोपहर में तेज धूप की वजह गांव में सन्नाटा सा पसरा हुआ था। खेतों में भी किसान नहीं थे। गांव के थोड़ा भीतर घुसते ही मंदिर है। सीढ़ियों पर ही कुछ युवा बैठकर बातचीत में व्यस्त मिले। नए लोगों को देखकर कुछ लड़के इधर-उधर हो गए। घर से कुछ अन्य लोग बाहर निकल आए। बात शुरू हुई तो चुनाव पर चर्चा शुरू हो गई।

गांव के रघुवीर यादव बताते हैं कि अब तक कांग्रेस के ही लोग पांच बार वोट मांगने आए हैं। भाजपा या अन्य दलों से कोई पहुंचा ही नहीं। गांव में भी कांग्रेस का ही माहौल दिख रहा है। उनके पड़ोसी खुमन वर्मा ने नई बात बताई। उनका कहना था, 2018 के चुनाव तक वे खुद भाजपा के वोटर रहे हैं। जब कांग्रेस ने कर्जमाफी और 2500 रुपए क्विंटल धान की बात कही तो उन्होंने पहली बार उसे वोट दिया। कर्ज भी पट गया, दाम भी मिल रहा है। अब जिले का वादा हुआ है। यह हो गया तो हम जैसों के लिए बड़ी सुविधा हो जाएगी।

बागमुड़ा गांव के रघुवीर यादव और खुमन वर्मा ने माहौल पर खुलकर चर्चा की है।
बागमुड़ा गांव के रघुवीर यादव और खुमन वर्मा ने माहौल पर खुलकर चर्चा की है।

भाजपा की भी एक लहर मौजूद
खैरागढ़ में इंदिरा कला एवं संगीत विश्वविद्यालय से निकलते हुए मिलते हैं एक सीनियर सिटीजन। रिकॉर्ड पर बात करने से इनकार कर दिया। कहा, दोनों तरफ अपने ही लोग हैं। बताते हैं, मुकाबला एकतरफा दिख जरूर रहा है, लेकिन आसान नहीं है। यहां भाजपा के पक्ष में भी एक लहर मौजूद है। इसे 2023 का रिहर्सल बताकर कार्यकर्ताओं को उत्साहित किया जा रहा है।

गांवों-शहरों में दूसरे तरह की मोर्चेबंदी लगी है। वहीं छुई खदान में मिले विमल साहू की बातों से इसकी तस्दीक होती है। विमल का कहना था, केवल जिला बनाने से ही सब कुछ नहीं होगा। यहां लोगों की दूसरी भी तकलीफे हैं। सामाजिकता है। वोट देने से पहले उसको भी ध्यान में रखना पड़ता है।

छुईखदान क्षेत्र के गांवों में नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ग्रामीणों की छोटी-छोटी सभाएं कर रहे हैं।
छुईखदान क्षेत्र के गांवों में नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ग्रामीणों की छोटी-छोटी सभाएं कर रहे हैं।

राजपरिवार समर्थक और साल्हेवारा अभी अबूझ पहेली
खैरागढ़ विधानसभा पर 1951 में हुए पहले आम चुनाव से लेकर आगे 9 बार तक राजपरिवार का ही कब्जा रहा है। 2018 के चुनाव में राजपरिवार के ही देवव्रत सिंह चुनाव जीते थे। जीवन भर कांग्रेसी रहे देवव्रत ने 2018 का चुनाव जनता कांग्रेस सिंबल पर लड़ा और जीता था। नवंबर 2021 में उनके निधन के बाद खाली सीट पर उपचुनाव हो रहा है। राजपरिवार का कोई मैदान में नहीं है। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ ने देवव्रत सिंह के बहनोई नरेंद्र सोनी को उतारा है, लेकिन राजपरिवार के दूसरे सदस्यों ने किसी के समर्थन या विरोध पर चुप्पी साध रखी है। साल्हेवारा का आदिवासी बहुल इलाका खैरागढ़ राजपरिवार का स्ट्रॉन्गहोल्ड माना जाता है। नया जिला बनने से उनसे जिले की दूरी बेहद कम हो जाएगी, लेकिन कांग्रेस, भाजपा और जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ तीनों में से कोई उन वोटों पर खुला दावा करने की स्थिति में नहीं दिख रहा है।

जकांछ अध्यक्ष रेणु जोगी और अमित जोगी ने भी खैरागढ़ में मोर्चा संभाल लिया है।
जकांछ अध्यक्ष रेणु जोगी और अमित जोगी ने भी खैरागढ़ में मोर्चा संभाल लिया है।
वॉल राइटिंग में नये जिले का वादा ही केंद्र।
वॉल राइटिंग में नये जिले का वादा ही केंद्र।

कांग्रेस के प्रचार अभियान में भी 'जिला' ही केंद्र
खैरागढ़ बस अड्‌डे के पास कांग्रेस ने एक बड़ी होर्डिंग लगा रखी है। स्पष्ट संदेश 16 अप्रैल को कांग्रेस का विधायक बनेगा। 17 अप्रैल को खैरागढ़-छुईखदान-गंडई जिला बनेगा। मुख्य सड़क किनारे भुलाटोला गांव के एक कच्चे मकान पर छत्तीसगढ़ी की चुटीली बोलचाल वाले अंदाज में एक नारा लिखा है। 'डोंट फिकर, नाट शंशो, 17 के जिला बनही खैरागढ़'। मतलब कोई फिक्र नहीं, कोई संदेह नहीं। 17 को खैरागढ़ जिला बन जाएगा। कांग्रेस के नेता भी इस वादे को प्राथमिकता से उठा रहे हैं।

वोटरों को लुभाने के हथकंडे शुरू:खैरागढ़ उपचुनाव के पहले गाड़ियों में मिला कैश और साड़ियां; BJP बोली- कांग्रेस बांट रहीं साड़ियां

पूर्व मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने नये जिले को सरकार का शिगूफा बताया है।
पूर्व मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने नये जिले को सरकार का शिगूफा बताया है।

सरकार की नीयत पर सवाल उठा रही है भाजपा
भाजपा के चुनावी रणनीतिकार और राज्य सरकार में पूर्व मंत्री बृजमोहन अग्रवाल सरकार की नीयत पर सवाल उठा रहे हैं। अग्रवाल कहते हैं, सरकार को खैरागढ़ की इतनी चिंता थी तो तीन साल की सरकार में जिला क्यों नहीं घोषित कर दिया। छह महीने पहले जिन चार जिलों की घोषणा हुई थी उसका गठन क्यों नहीं हो पाया। बृजमोहन अग्रवाल ने कहा, 'मैं तो मतदाताओं से कहना चाहता हूं कि वे कांग्रेस को हराएं। अगर वे कांग्रेस को हराएंगे तो 2023 के आम चुनाव के लिए उन्हें हर हाल में जिला स्टेब्लिश करना पड़ेगा।' बृजमोहन अग्रवाल का दावा है कि सरकार की कोशिशों के बावजूद भाजपा यहां से जीतेगी।

कांग्रेस प्रवक्ता आरपी सिंह भाजपा और रमन सिंह को खैरागढ़ विरोधी बता रहे हैं।
कांग्रेस प्रवक्ता आरपी सिंह भाजपा और रमन सिंह को खैरागढ़ विरोधी बता रहे हैं।

कांग्रेस ने रमन सिंह को बताया खैरागढ़ विरोधी
कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता आरपी सिंह ने जिला गठन को लेकर भाजपा के रुख को पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह का रुख बताया। उन्होंने कहा, रमन सिंह खैरागढ़ क्षेत्र के विरोधी हैं। जिला तो दूर की बात है फरवरी 2018 में उनकी सरकार के समय गंडई के लोगों ने अलग तहसील की मांग की थी। रमन सिंह ने लाठीचार्ज कराया और लोगों को अपराधियों की तरह जेल में ठूंस दिया गया। सरकार बदली 2020 में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के सामने यह मांग आई और एक महीने के भीतर तहसील की घोषणा हो गई थी। आरपी सिंह ने कहा, लोगों को यकीन है कि 16 अप्रैल को खैरागढ़ में कांग्रेस का विधायक बनेगा और 17 अप्रैल को खैरागढ़-छुईखदान-गंडई नया जिला बन जाएगा।

खैरागढ़ में सबसे बड़ी चुनावी सरगर्मी:हर तीन किमी पर सीएम की सभा;मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री,केंद्रीय मंत्री तक का जनसंपर्क अभियान जारी

खबरें और भी हैं...