अमृतसर दशहरा उत्सव हादसे की वजह से सतर्कता:ट्रेनों की गति 15 किमी, पटरी किनारे बाउंड्री को भी दूर तक ढंकेंगे टेंट से

रायपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

डब्ल्यूआरएस मैदान में शुक्रवार को रावण दहन का आयोजन किया जाएगा। यह मैदान भी रायपुर-महासमुंद ट्रैक के किनारे है और चार साल पहले हुए अमृतसर हादसे के बाद यहां दशहरा उत्सव के दौरान सतर्कता लगातार बढ़ाई जा रही है। अमृतसर हादसे के बाद रेलवे ने पटरी और मैदान को अलग करने के लिए दूर तक बाउंड्री बनाई थी।

इस बार इस बाउंड्री को कवर करने के लिए उतनी ही दूरी तक करीब 9 फीट ऊंचा टेंट लगाया जा रहा है ताकि मैदान पर मौजूद लोग किसी भी स्थिति में पटरी के आसपास नहीं पहुंच सके। यही नहीं, रेलवे ने दशहरा उत्सव के दौरान दोपहर 3 बजे से रात 8 बजे तक यहां से गुजरनेवाली ट्रेनों की अधिकतम गति 15 किमी प्रतिघंटा रखने का काॅशन जारी कर दिया है। रावण दहन के दौरान ट्रैक से कई ट्रेनें व मालगाड़ी गुजरती हैं, इसलिए दोपहर से देर शाम तक ट्रैक के किनारे आरपीएफ के 100 सिपाही तैनात रहेंगे।

ट्रैक के किनारे पहले ही सीमेंट की बाउंड्री बना दी गई थी, अब इसे और घेरने के लिए लकड़ी के मजबूत फ्रेम पर टेंट का एक और घेरा बनाया जा रहा है। अफसरों ने बताया कि रावण दहन कार्यक्रम के दौरान रेलवे के डीआरएम से लेकर विभिन्न विभागों के अफसरों और आरपीएफ के जवानों को चौकस रहने के लिए कहा गया है। ट्रेनों के काॅशन आर्डर का पालन सख्ती से करवाया जाएगा।

खबरें और भी हैं...