जोगी कांग्रेस और भाजपा के बीच जुगलबंदी के आसार:महापौर के लिए पर्यवेक्षक मन टटोल रहे, 300 पार्षदों को होटलों में पहुंचाया

रायपुर5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
रिपोर्ट दर्ज कराने पहुंचे जोगी कांग्रेस समर्थक। - Dainik Bhaskar
रिपोर्ट दर्ज कराने पहुंचे जोगी कांग्रेस समर्थक।

निकाय चुनाव में एकतरफा जीत के बाद अब महापौर चयन की कवायद तेज हो गई है। राजनीतिक दलों ने अपने-अपने पार्षदों की घेराबंदी कर रखी है। रायपुर, दुर्ग और राजनांदगांव के 300 पार्षदों को रायपुर, महासमुंद से लगे टूरिस्ट रिजॉर्ट और होटलों में रखे जाने की खबर है। पार्षद ही मेयर चुनेंगे, इसलिए पार्षदों की घेराबंदी की जा रही है।

सभी दलों के वरिष्ठ नेताओं की निगरानी में अलग-अलग जगहों पर इन पार्षदों को रखा गया है। महापौर चुनाव की अधिसूचना जल्द जारी हो सकती है। इसको देखते हुए कांग्रेस ने सभी नगर निगमों और पालिकाओं के लिए पर्यवेक्षक नियुक्त कर दिए हैं। पर्यवेक्षकों ने कमान भी संभाल लिया है। वे नेताओं को टटोलने में जुट गए हैं। बताया जा रहा है कि भिलाई में देवेंद्र यादव और बीरगांव में सत्यनारायण शर्मा ने महापौर प्रत्याशी को लेकर अपना मन बना लिया है। दूसरी तरफ, भाजपा भी कांग्रेस को वॉक ओवर देने के मूड में नहीं है।

पार्टी के रणनीतिकार बीरगांव सहित कई निकायों में कांग्रेस का खेल बिगाड़ने की जुगत में हैं। जोगी कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अमित जोगी और भाजपा के रणनीतिकार बृजमोहन अग्रवाल के बीच मुलाकात होने की बात सामने आ रही है। इसके अलावा बीरगांव में उलटफेर के लिए भाजपा जातिगत समीकरण का सहारा लेने की भी कोशिश में है। भाजपा नेता जोगी कांग्रेस के शहर अध्यक्ष ओम प्रकाश देवांगन को साथ लेकर बाजी पलटने की कोशिश में है। पार्टी नेताओं का दावा है कि कांग्रेस के कई पार्षदों से उनकी बातचीत चल रही है। भाजपा की रणनीति को देखते हुए कांग्रेस ने भी अपने पार्षदों में सेंध को रोकने के लिए पुख्ता तैयारी की है। बताया जा रहा है कि भिलाई के पार्षदों को नवा रायपुर के एक रिसॉर्ट में रखा गया है। जिन पार्षदों को खुफिया ठिकानों पर रखा गया है उनमें रायपुर के बीरगांव, दुर्ग जिले के चरौदा, रिसाली और खैरागढ़ के पार्षद शामिल हैं।

जोगी कांग्रेस के विजय जुलूस पर पथराव हारे प्रत्याशी और समर्थकों पर रिपोर्ट दर्ज

बीरगांव में जोगी कांग्रेस पार्षद के विजय जुलूस में रविवार दोपहर 1 बजे पथराव हो गया। चुनाव में हारे हुए निर्दलीय प्रत्याशी और उनके समर्थकों पर जुलूस के दौरान पत्थर फेंकने का आरोप लगा है। जुलूस में भगदड़ मच गई। उसके बाद लोगों ने हंगामा शुरू कर दिया। पार्षद और उनके समर्थकों ने उरला थाना का घेराव कर दिया। दोषियों पर कार्रवाई की मांग करने लगे।

पुलिस ने निर्दलीय प्रत्याशी तनवीर उसके समर्थकों के खिलाफ मारपीट का केस दर्ज किया है। पुलिस ने बताया कि जोगी कांग्रेस के पार्षद डॉ. शकील ने रविवार को अपना विजय जुलूस निकाला था। भारी संख्या में उनके समर्थक वहां इकट्ठा हुए थे। जुलूस जब कैलाश नगर पहुंचा तो उनसे चुनाव हारे निर्दलीय प्रत्याशी तनवीर और उसके समर्थक विरोध करने लगे। उन्होंने जुलूस पर पत्थर फेंकना शुरू कर दिया। इसमें कई लोगों को चोट आई है। भीड़ ने थाने का घेराव कर दिया। पुलिस ने आरोपियों पर केस दर्ज कर लिया है। उनकी तलाश की जा रही है।

निर्दलीय कांग्रेस के साथ आए
इससे पहले गुरुवार को नतीजों के 5 घंटे बाद ही बीरगांव के 6 में से दो और शुक्रवार को एक और निर्दलीय ने कांग्रेस का दामन थाम लिया था। वार्ड 13 पंडित रविशंकर शुक्ल वार्ड से नवनिर्वाचित पार्षद अश्वनी यादव ने शुक्रवार को रायपुर जिला सहकारी बैंक के अध्यक्ष पंकज शर्मा की मौजूदगी में कांग्रेस की सदस्यता ली थी। 3 निर्दलीयों के भी कांग्रेस के समर्थन में आने की बात सामने आ रही है। हालांकि, भाजपा का दावा है कि बीरगांव में निर्दलीयों के साथ ही कांग्रेस के कुछ पार्षद भी उनके संपर्क में हैं।

खेल बिगाड़ने में जुटी भाजपा
खैरागढ़, बीरगांव और भिलाई की निगमों में हार का सामना करने वाली भाजपा और जनता कांग्रेस की कोशिश है कि किसी तरह वे कांग्रेस के खेमे में सेंध लगा सकें। इसके लिए भाजपा ने रणनीति भी तैयार कर रखी है। वरिष्ठ नेताओं को निर्दलीयों के माध्यम से या कांग्रेसी खेमे में सेंध लगाकर कांग्रेस का खेल बिगाड़ने की जिम्मेदारी दी गई है। भाजपा, कांग्रेसी पार्षदों के साथ ही निर्दलीय पार्षदों से संपर्क साधने की कोशिश में लगातार जुटी हुई है।

खबरें और भी हैं...