राहत भरी खबर / अगले 33 दिनों में तीन ग्रहण, इस बीच शुक्र और गुरु हो रहे हैं मार्गी; ज्योतिषियों का दावा- अब दूर होंगे संकट

Three eclipses in the next 33 days, meanwhile Venus and Guru are becoming Margie; Astrologers claim - now the crisis will be removed
X
Three eclipses in the next 33 days, meanwhile Venus and Guru are becoming Margie; Astrologers claim - now the crisis will be removed

  • 5 जून और 5 जुलाई को चंद्रग्रहण, 21 जून को सूर्यग्रहण

दैनिक भास्कर

Jun 02, 2020, 06:40 AM IST

रायपुर. साल 2020 में कुल 6 ग्रहण हैं। इनमें से तीन ग्रहण अगले 33 दिनों में लगने वाले हैं। 1 सूर्य ग्रहण होगा और 2 चंद्रग्रहण। इसी बीच शुक्र और देवगुरु बृहस्पति मार्गी भी हो जाएंगे। ज्योतिषी इस घटना को महत्वपूर्ण बता रहे हैं। कई भविष्यवाणियां भी की जा रहीं हैं जिनके मुताबिक ग्रहों का यह फेर कई मामलों में राहत देने वाला होगा। देश-दुनिया में जो भी संकट है वह धीरे-धीरे दूर होने लगेंगे। हालांकि, राशियों पर इसका प्रभाव सकारात्मक और नकारात्मक, दोनों तरह का होगा। 
साल का पहला ग्रहण 10 जनवरी को लग चुका है। अब 5 जून से 5 जुलाई के बीच लगातार तीन ग्रहण पड़ेंगे। पहला ग्रहण 5 जून को होगा जो चंद्रग्रहण है। इसके बाद 21 जून को सूर्यग्रहण है। फिर 5 जुलाई को तीसरा ग्रहण है जो चंद्रग्रहण होगा। इस बीच शुक्र देव 25 जून और देवगुरु बृहस्पति 29 जून को मार्गी होंगे। ज्योतिषियों का कहना है कि इन 2 ग्रहों का मार्गी होना काफी हद तक राहत देने वाला साबित होगा। वो इसलिए क्योंकि अभी ये ग्रह वक्री हैं। यानी उल्टी चाल चल रहे हैं। मार्गी होने के साथ ही इनकी चाल सीधी हो जाएगी जिससे कि संकट धीरे-धीरे कम होने लगेंगे। खास तौर पर वर्तमान में जो देश-दुनिया के हालात हैं, उसमें सकारात्मक परिवर्तन की बात कही जा रही है। 
औषधि पर शुक्र का आधिपत्य देते हैं सुख और समृद्धि
वक्री स्थिति: 13 मई-25 जून 
ज्योतिषियों के मुताबिक शुक्र वृषभ राशि में वक्री चल रहे हैं। जो 30 मई से अस्त चलने के साथ ही अब 8 जून को उदित होंगे। इनके मार्गी होते ही औषधि विज्ञान के क्षेत्र में बड़ी सफलता मिलने अवसर बन सकते हैं। इसके अलावा जिनकी तबियत लंबे वक्त से खराब है, उन्हें इस दाैरान स्वास्थ्य लाभ मिलेगा।

बृहस्पति ज्ञान, धर्म और मांगलिक कार्यों के प्रभावी 
वक्री स्थिति: 14 मई-29 जून 
बृहस्पति अभी मकर राशि में वक्री हैं। जो 29 जून को मकर राशि से धनु में प्रवेश करेंगे। ज्योतिषियों का कहना है कि धनु में बृहस्पति के इस गोचर का प्रभाव सभी राशियों पर पड़ेगा। बता दें कि जून में शादियों के लिए 8 मुहूर्त भी हैं। हालांकि, लॉकडाउन के चलते अभी सीमित लोगों की मौजूदगी में शादी करनी हाेगी।

ऐसे गुजरेगा ग्रहण
5 जून (चंद्रग्रहण)
प्रवेश - रात 11.15
मोक्ष - रात 2.34 
अवधि - 3 घंटे 19 मिनट

21 जून (सूर्यग्रहण)
प्रवेश - सुबह 9.15
मोक्ष - दोपहर 3.03 
अवधि - 5 घंटे 48 मिनट

5 जुलाई (चंद्रग्रहण)
प्रवेश - सुबह 8.37
मोक्ष - सुबह 11.22 
अवधि - 2 घंटे 45 मिनट

"तीन ग्रहण में 21 जून का सूर्यग्रहण सबसे महत्वपूर्ण है। इस दौरान 6 ग्रह वक्री रहेंगे जिसके सकारात्मक और नकारात्मक, दोनों तरह के परिणाम दिखेंगे। आने वाले एक महीने में महामारी का संक्रमण काफी हद तक कम होगा। हालांकि, आर्थिक स्थिति से पूरा विश्व जूझेगा। जुलाई के अंत तक स्थितियां सुधरने लगेंगी।"
-डॉ. दत्तात्रेय होस्केरे, ज्योतिषाचार्य

ग्रहों का गोचर और ग्रहण राशियों पर डालेगा ये प्रभाव 

  • मेष - सफलता के संकेत। धन लाभ। 
  • वृष - धन की हानि। संतान कष्ट।
  • मिथुन - दुर्घटना की आशंका। लाभ।
  • कर्क -  संपत्ति में हानि। व्यय न करें।
  • सिंह - कहीं से लाभ मिलने के संकेत।
  • कन्या - ग्रहण लाभकारी है। सुख प्राप्ति।
  • तुला - अपयश। वाणी पर नियंत्रण रखें। 
  • वृश्चिक - ग्रहण ठीक नहीं। कष्ट होगा।
  • धनु - स्त्री पीड़ा के योग हैं। लाभ।
  • मकर - पदोन्नति के योग बन रहे हैं।
  • कुंभ - चिंता बढ़ सकती है। सुख।
  • मीन - चिंता बढ़ेंगी। तबियत पर ध्यान दें।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना