• Hindi News
  • Local
  • Chhattisgarh
  • Raipur
  • Tikait Told BJP Dimagi Bukhar; Said The Medicine Will Be Given Everywhere In The Same Way As Was Given In Bengal, The Disease Will Be Completely Cured In Three Years

टिकैत ने BJP को बताया दिमागी बुखार:कहा- जैसी दवाई बंगाल में दी थी वैसी ही हर जगह दी जाएगी, 3 साल में ठीक हो जाएगी बीमारी

रायपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
राकेश टिकैत दिल्ली रवाना होने से पहले रायपुर प्रेस क्लब में प्रेस से बात कर रहे थे। - Dainik Bhaskar
राकेश टिकैत दिल्ली रवाना होने से पहले रायपुर प्रेस क्लब में प्रेस से बात कर रहे थे।

संयुक्त किसान मोर्चा के नेता राकेश टिकैत ने भाजपा को दिमागी बुखार बताया है। टिकैत ने कहा, भाजपा दिमागी बुखार जैसी बीमारी है। किसान उसका इलाज करने के लिए ही दिल्ली की सीमाओं पर बैठे हैं। जैसी दवाई इन्हें बंगाल में दी गई, वैसी ही दवाई हर जगह दी जाएगी। तीन साल में यह पूरी तरह ठीक हो जाएगी।

टिकैत बुधवार शाम रायपुर प्रेस क्लब में पत्रकारों से बात कर रहे थे। भाजपा पर सीधा हमला बोलते हुए उन्होंने कहा, पिछले सात साल से विकास रुका हुआ है। पिछली सरकारों ने जो संपत्तियां और संस्थान बनाए थे, यह सरकार उसे बेच रही है। केंद्र सरकार तानाशाह की तरह व्यवहार कर रही है। किसान पिछले 10 महीनों से दिल्ली की सीमाओं पर बैठे हैं। वे अब पक चुके हैं। उनको बदनाम करने की कोशिश हुई। आरोप लगाए गए, लेकिन तीनों कानूनों की वापसी के बिना किसान लौटेंगे नहीं।

उन्होंने कहा, सभी फसलों और फल-सब्जी और दूध के भी न्यूनतम समर्थन मूल्य की गारंटी के बिना किसान को लाभ नहीं होगा। जब तक सरकारें सपोर्ट नहीं करतीं किसान का भला नहीं हो पाएगा। राकेश टिकैत ने कहा, जिस प्रस्ताव को 2012 में भारी विरोध के बाद वापस ले लिया गया हो उसे बिना बहस के पारित करा देना संसद के साथ धोखा है। तीन कृषि कानूनों को लेकर मोदी सरकार ने यही किया है। राकेश टिकैत, 28 सितंबर को राजिम में आयोजित किसान महापंचायत में शामिल होने छत्तीसगढ़ आए थे। बुधवार को उन्होंने प्रदेश के कई जिलों में अलग-अलग बैठकें की।

टिकैत ने दिया ट्रैक्टर, टैंक और ट्विटर का फॉर्मूला:राजिम मंडी में कहा, कानून वापस नहीं हुए तो दिल्ली बनाएंगे हर प्रदेश; योगेंद्र बोले- अब यह किसान की इज्जत का आंदोलन

किसान कंडिशनल बातचीत नहीं करेगा
उन्होंने कहा, किसान संगठन सरकार से बातचीत के लिए हमेशा तैयार है, लेकिन सरकार कह रही है कि वह कानून वापस नहीं लेगी और कुछ कहना हो तो चर्चा हो सकती है। तो फिर चर्चा किस बात पर होगी। किसान ऐसी कोई कंडिशनल बातचीत नहीं करेगा। सरकार को बात करनी है तो बिना शर्तों के टेबल पर आए।

धर्म की अफीम चटाने से देश नहीं चलता
भारतीय किसान यूनियन के महासचिव युद्धवीर सिंह ने कहा, धर्म की अफीम चटाने से देश नहीं चलता। देश चलता है आर्थिक उत्थान से। दिल्ली की सरकार ने लोगों को गुमराह करने की कोशिश की है। समाधान की कोई कोशिश नहीं की है। सरकार का एजेंडा पूंजीवाद स्थापित करना है। यह कमाने वाले और लुटेरों के बीच की लड़ाई है।

2012 में जो कानून काला था, वह 2020 में सफेद कैसे हो गया
चौधरी युद्धवीर सिंह ने कहा, 2012 में जब भाजपा विपक्ष में थी तब इस कानून का ड्राफ्ट संसद में आया था। उसका भारी विरोध हुआ। संसद में भाजपा ने इसे काला कानून कहा। सरकार ने उसे वापस ले लिया। 2020 में भाजपा ने उसी ड्राफ्ट को कानून बना दिया। जब वह कानून काला नहीं था तो उसका विरोध क्यों किया। अगर वह काला था तो आज सफेद कैसे हो गया। भाजपा देश को इसका जवाब दे दे।

खबरें और भी हैं...