पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

ऐसे में कैसे रूकेगा कोरोना, टीका लगाने वाला कोई नहीं:एक हफ्ते के ब्रेक के बाद युवाओं को टीका, कई जगह देर से पहुंचे स्टाफ

रायपुर17 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
बीटीआई ग्राउंड में स्टाफ की लापरवाही के कारण लोग परेशान होते रहे। 2 घंटे देर से शुरू हुआ टीकाकरण। - Dainik Bhaskar
बीटीआई ग्राउंड में स्टाफ की लापरवाही के कारण लोग परेशान होते रहे। 2 घंटे देर से शुरू हुआ टीकाकरण।

मई के अंत में वैक्सीन खत्म होने के बाद रुका युवाओं (18 प्लस) का टीकाकरण राजधानी में रविवार को सुबह काफी बदइंतजामी के बाद शुरू हुआ। बीटीआई के वैक्सीन बूथ पर सुबह से ही नौजवानों की कतार लगी, लेकिन वहां टीका लगाने वाले देर से पहुंचे। पं. नेहरू मेडिकल कालेज के ग्राउंड फ्लोर पर सुबह अचानक टीके लगने लगे तो सब चकित हो गए, क्योंकि पोर्टल और सीएमएचओ की सूची में इस सेंटर का उल्लेख ही नहीं था।

शहर में यह मामला दिनभर चर्चित रहा और कहा गया कि यह सेंटर कुछ वीआईपी के लिए अलग से बनाया गया था। हालांकि बाद में स्पष्ट हुआ कि अस्पताल स्टाफ और परिजन के लिए वैक्सीनेशन की अनुमति सुबह मिली, इसलिए सेंटर बनाकर टीके लगाए गए। राजधानी के बीटीआई के वैक्सीनेशन बूथ में रविवार को युवा सुबह से ही टीका लगाने के लिए पहुंचे। सभी ने स्लॉट बुकिंग शनिवार देर रात को ही करवा ली थी। टीकाकरण सुबह 9 बजे से शुरू होना था, लेकिन स्टाफ 11 बजे पहुंचा। इस तरह की शिकायतें कुछ और सेंटरों से भी मिलीं। अफसरों का कहना है कि टाइमिंग को लेकर कुछ संशय हुआ होगा, इसलिए देरी हुई।

बहरहाल, कई दिन बाद बीटीआई के केंद्र पर इस तरह की स्थिति बनी है। पहले भी यहां टीके को लेकर विवाद हो चुका है। वहां मौजूद युवाओं ने बताया कि सीजी टीका पोर्टल को लेकर अभी भी परेशानी बनी हुई है। ज्यादातर युवा वैक्सीन की शेड्यूलिंग और स्लॉट बुक नहीं कर पा रहे हैं। या ज्यादातर मामलों में शाम 7 बजे के बाद आसानी से शेड्यूल स्लॉट मिल रहा है। ऐसे में पोर्टल पर स्लॉट बुक करने के लिए वक्त तय करना जरूरी है।

सीएमओ कार्यालय की शनिवार की लिस्टम और सीजी टीका पोर्टल में नेहरु मेडिकल कालेज में ग्राउंड फ्लोर पर सेंटर का जिक्र नहीं था, वहां फिर भी टीके लगे। भास्कर की पड़ताल में यह बात सामने आई कि इससे पहले भी रविवार को यहां दो-तीन बार अचानक सेंटर बनाकर 360 से युवाओं का वैक्सीनेशन किया जा चुका है। वैक्सीनेशन नोडल डॉ. ओंकार खंडवाल के मुताबिक कॉलेज ने कलेक्टर से अंबेडकर अस्पताल के स्टाफ और परिजनों को टीके लगाने के लिए अनुमति मांगी थी। रविवार को 120 डोज की अनुमति मिली और वही लगे, वीआईपी सेंटर की बात गलत है।

खबरें और भी हैं...