निगम ने सख्त कदम उठाया:अंत्येष्ठि के लिए दबाव डालकर या बख्शीश मांगने वालों को चेतावनी, एक फोन पर होगी कार्रवाई

रायपुर5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कोरोना से मरने वालों के अंतिम संस्कार के दौरान कहीं दबाव डालकर तो कहीं बख्शीश के नाम पर पैसे मांगे जा रहे हैं। लगातार शिकायतों के बाद निगम ने इस पर सख्त कदम उठाया है। शहर के लगभग सभी श्मशान घाट में चेतावनी भरा बोर्ड लगाकर उसमें जोन अफसरों के मोबाइल नंबर लिख दिए गए हैं।

बोर्ड में साफ लिखा गया अगर किसी ने अंतिम संस्कार के लिए पैसे मांगे तो अफसर के मोबाइल पर कॉल करें, तुरंत ही कार्रवाई की जाएगी। जोन अफसरों को भी निर्देश जारी कर दिया गया है कि श्मशान घाट से पैसे मांगने से संबंधित कॉल आने पर उसी समय पहुंचकर कार्रवाई करें। शहर के लगभग सभी श्मशान घाट में कोरोना मरीजों का अंतिम संस्कार निगम की ओर से निशुल्क किया जा रहा है। इसके लिए सिस्टम बनाया गया है। सरकारी अस्पताल से शव एंबुलेंस से श्मशान घाट पहुंचाया जाता है। होम आईसोलेशन में निधन होने पर भी एंबुलेंस से ही शव श्मशान घाट पहुंचाया जाता है।

वहां निगम कर्मियों को ड्यूटी में तैनात किया गया है। वही अंतिम संस्कार करते हैं। पिछले कुछ दिनों से परिजनों की ओर से यह शिकायतें आ रहीं थी कि अंतिम संस्कार के लिए कुछ लोग पैसे की मांग कर रहे हैं। पैसे नहीं देने पर दबाव डाला जाता है। मृतक के परिजन शोक की वजह से कुछ बोल नहीं पाते। इस वजह से कुछ कर्मचारी मनमानी कर रहे हैं। इस शिकायत के बाद ही निगम मुख्यालय से सभी जोन को निर्देश दिया गया कि वे अपने-अपने क्षेत्र के श्मशानघाटों में यह नोटिस चस्पा करें कि अंतिम संस्कार की पूरी प्रक्रिया निगम की ओर से निशुल्क की जा रही है।

इसके लिए किसी को भी पैसे देने की जरूरत नहीं। इसके बावजूद यदि कोई पैसे की मांग करता है तो परिजन संबंधित नंबरों पर शिकायत कर सकता है। जारी किए गए नंबरों पर शिकायत मिलते ही अफसर तत्काल मौके पर पहुंचकर कार्रवाई करेंगे। इसके तहत संबंधित व्यक्ति को चेतावनी दी जाएगी और स्थिति देखकर एफआईआर भी दर्ज करायी जा सकती है।

सभी सामान निशुल्क
निगम अफसरों के अनुसार अंतिम संस्कार के लिए लकड़ी, घी के अलावा रायल समेत सभी सामान पूरी तरह से निशुल्क उपलब्ध कराया जा रहा है। इसके लिए भी किसी को भी पैसे या दान देने की जरूरत नहीं है। निगम की ओर से दान के रूप में भी पैसे नहीं लिए जा रहे हैं।

खबरें और भी हैं...