सुविधा / कई इलाकों में वाटर मीटर लगना शुरू, जितना खर्च उतना ही बिल

Water meter started to be installed in many areas, the amount spent
X
Water meter started to be installed in many areas, the amount spent

दैनिक भास्कर

May 24, 2020, 07:07 AM IST

रायपुर. राजधानी के गुढ़ियारी, खमतराई, पंडरी सहित कई इलाकों में नगर निगम ने आटोमेटिक वाटर मीटर लगाना शुरू कर दिया है। अमृत मिशन योजना के तहत इन इलाकों में 24 घंटे वाटर सप्लाई के लिए नई पाइपलाइन बिछाया गया है। गुढ़ियारी राम नगर टंकी भी शुरू हो चुकी है। अब इन इलाकों में दिनभर नल चलेगा और जितना पानी लोग उपयोग करेंगे उतना ही बिल देना पड़ेगा। नगर निगम अभी पूरे शहर में जलकर सामान्य रूप से आवासीय के लिए 2400 रुपए सालाना ले रहा है। एक परिवार को रोज औसत एक हजार लीटर पानी की जरूरत होती है। इसलिए महीने में 30 हजार और साल में 3.60 लाख लीटर पानी की जरूरत होती है। प्रतिदिन पानी पर एक सामान्य परिवार को करीब साढ़े छह रुपए खर्च करने पड़ रहे हैं। खपत की मात्रा औसत ली गई है। हो सकता है कोई परिवार एक दिन में एक हजार लीटर से ज्यादा पानी की खपत कर रहा है और कोई बहुत कम। मीटर लगने के बाद जो लोग पानी की ज्यादा खपत कर रहे हैं उन्हें अब ज्यादा बिल देना पड़ेगा और जो कम खर्च कर रहे हैं उन्हें पानी का कम भार लगेगा। मीटर लगना उन लोगों के लिए नुकसानदेह है जो पानी की खपत तो ज्यादा कर रहे हैं लेकिन सालाना टैक्स सिर्फ 2400 रुपए दे रहे हैं। अमृत मिशन के अफसरों का कहना है कि पूरे शहर में अमृत मिशन के तहत पाइपलाइन बिछाने और उसके बाद लोगों को कनेक्शन देकर नलों में मीटर लगाने का काम किया जा रहा है। लगभग तीन लाख घरों मंे मीटर लगाया जाना है। इसे फेज वन और फेज टू में पूरा किया जा रहा है। मीटर लगने का काम शुरू ही हुआ है। इसमें पूरा करने में 30 महीने का वक्त है। सभी जगह मीटर लगने के बाद एक साथ बिलिंग का काम शुरू होगा। इसके लिए नगर निगम की ओर से वाटर चार्ज तय किया जाएगा और उसी दर से वसूली होगी। 
पहले लगाया बाहर, अब भीतर
अफसरों के अनुसार ठेकेदार ने मीटर घरों के बाहर लगा दिए हैं। इससे मीटर के साथ छेड़छाड़ होने या उसे नुकसान पहुंचाए जाने की आशंका है। मीटर को घर के भीतर लगाया जाना है। इसलिए ठेकेदार ने जिन घरों के बाहर मीटर लगा दिया है उन्हें मीटर को भीतर करने के लिए कहा गया है। अमृत मिशन का काम पिछले सालभर से चल रहा है। तीन साल के भीतर योजना के तहत काम पूरा करना है। योजना में 24 घंटे पानी सप्लाई के साथ नई टंकियां बनाना, पाइपलाइन बिछाना, फिल्टर प्लांट में 80 एमएलडी का नया वाटर ट्रीटमेंट प्लांट लगाना आदि शामिल है। अमृत मिशन योजना के तहत रायपुर में लगभग डेढ़ डेढ़ सौ करोड़ रुपए की योजना पर काम चल रहा है।
"अभी अमृत मिशन योजना के तहत पाइपलाइन बिछाने का काम कुछ हिस्सों में पूरा हुआ है। कुछ हिस्सों में चल रहा है। सभी जगह पाइपलाइन बिछने और उसके बाद मीटर लगाने का काम पूरा होने के बाद ही एक साथ वाटर चार्ज तय कर रीडिंग से वसूली की जाएगी।"
- यूके राठिया, ईई अमृत मिशन योजना

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना