• Hindi News
  • Local
  • Chhattisgarh
  • Raipur
  • Chhattisgarh Assembly Winter Session Begins; Chhattisgarh Assembly Will Pay Tribute To CDS Bipin Rawat And Martyred Army Personnel On The First Day

छत्तीसगढ़ विधानसभा कल तक के लिए स्थगित:CDS रावत, दुर्घटना में शहीद सैन्य कर्मियों और दिवंगत नेताओं को श्रद्धांजलि देने के बाद स्थगित हुई बैठक

रायपुर7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

छत्तीसगढ़ विधानसभा का शीतकालीन सत्र का पहला दिन दिवंगत सैन्य कर्मियों और नेताओं की स्मृतियों के नाम रहा। सदन ने हेलिकॉप्टर क्रैश में शहीद हुए चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत, उनकी पत्नी और 11 अन्य सैन्य कर्मियों के साथ मानसून सत्र से इस सत्र के बीच दिवंगत हुए जनप्रतिनिधियों और पूर्व सांसदो-विधायकों को श्रद्धांजलि दी। इसके बाद सत्र की कार्यवाही मंगलवार सुबह 11 बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई।

सुबह सभागार में पहुंचते ही विधायकों ने विधानसभा अध्यक्ष डॉ. चरणदास महंत को जन्मदिन की बधाई दी। औपचारिक शुरुआत के बाद विधानसभा अध्यक्ष डॉ. महंत ने खैरागढ़ विधायक देवव्रत सिंह, पूर्व सांसद गोंदिल प्रसाद अनुरागी, पूर्व मंत्री राजिंदर पाल सिंह भाटिया, पूर्व संसदीय सचिव युद्धवीर सिंह जूदेव, अविभाजित मध्य प्रदेश में मंत्री रहे मूलचंद खंडेलवाल और अविभाजित मध्य प्रदेश में विधायक रहे मनुराम कच्छ के निधन का उल्लेख किया। उन्होंने 8 अक्टूबर को हेलिकॉप्टर दुर्घटना में शहीद हुए देश के पहले चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत, उनकी पत्नी और 11 अन्य सैन्य कर्मियों की सेवाओं का उल्लेख करते हुए उन्हें श्रद्धांजलि दी।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने देवव्रत सिंह से अपनी बात शुरू करते हुए सभी दिवंगत नेताओं के साथ अपनी स्मृतियां साझा कीं। उनके मानवीय गुणों और क्षमताओं का उल्लेख किया। जनरल बिपिन रावत के निधन को उन्होंने देश के लिए अपूर्णीय क्षति बताया।

नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने श्रद्धांजलि व्यक्तव्य में गोंदिल प्रसाद अनुरागी, युद्धवीर सिंह जूदेव, राजिंदर पाल सिंह भाटिया और मूलचंद खंडेलवाल की स्मृतियों पर बात की। उन्होंने कहा, जनरल बिपिन रावत ने एक साधारण गांव से निकलकर देश के सर्वोच्च सैन्य अधिकारी तक का सफर तय किया। उनका जाना एक बड़ा नुकसान है।

सभी दलों के विधायकों ने बारी-बारी से अपनी शाब्दिक श्रद्धांजलि दी। बाद में विधानसभा अध्यक्ष डॉ. चरणदास महंत ने कहा, दिवंगतों के सम्मान में सदन की कार्यवाही मंगलवार सुबह 11 बजे तक के लिए स्थगित की जाती है।

कार्यमंत्रणा समिति की बैठक से बाहर आते विधानसभा अध्यक्ष, मुख्यमंत्री, नेता प्रतिपक्ष और प्रमुख नेता।
कार्यमंत्रणा समिति की बैठक से बाहर आते विधानसभा अध्यक्ष, मुख्यमंत्री, नेता प्रतिपक्ष और प्रमुख नेता।

सदन में आने से पहले हुई बैठक

सदन में आने से ठीक पहले विधानसभा के समिति कक्ष में कार्य मंत्रणा समिति की बैठक हुई। इसमें विधानसभा अध्यक्ष के साथ मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक, संसदीय कार्यमंत्री रविंद्र चौबे, पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह आदि शामिल हुए। मुख्यमंत्री ने विधानसभा परिसर में नेता प्रतिपक्षा के नए कक्ष का लोकार्पण भी किया।

प्रश्नकाल और ध्यानाकर्षण नहीं हो पाया

पहले दिन श्रद्धांजलि की वजह से प्रश्नकाल नहीं हो पाया। प्रश्नों के लिखित उत्तर जरूर सामने आ गए हैं। सोमवार को ध्यानाकर्षण सूचनाओं के लिए समय तय हुआ था, लेकिन वह भी नहीं हुआ। ध्यानाकर्षण में रायपुर शहर में प्रदूषण को लेकर सवाल होने थे। वहीं गरियाबंद जिले में मिनी राइस मिल लगाने और कृषि यंत्रों की खरीदी में अनियमितता का मुद्दा उठने वाला था।

इस सत्र में पांच बैठकें प्रस्तावित

शीत कालीन सत्र 13 दिसंबर से 17 दिसंबर तक प्रस्तावित है। इसमें कुल पांच बैठकें होनी है। इस बीच सरकार अनुपूरक बजट पेश करेगी। वहीं छत्तीसगढ़ माल एवं सेवा कर (GST) संशोधन विधेयक और राज्य पिछड़ा वर्ग आयोग (संशोधन) विधेयक भी पेश करने वाली है। इधर विपक्ष ने सरकार को घेरने की पूरी तैयारी कर रखी है। इसमें धान खरीदी में बारदाना संकट, धर्मांतरण, धार्मिक विवाद और आपराधिक घटनाओं का मामला प्रमुखता से उठेगा। मादक द्रव्य की तस्करी, शराब, जमीनों पर कब्जे के मामलों को लेकर भी विपक्ष हमलावर है।

आज विधायक दल की बैठक

भाजपा विधायक दल की बैठक विधानसभा परिसर स्थित नेता प्रतिपक्ष के कक्ष में ही होगी। इस बैठक में भाजपा अगले चार दिनों में सरकार को घेरने की रणनीति बनाएगी। इस दौरान सत्र के दौरान उठाए जाने वाले मुद्दों का क्रम भी तय होगा। वहीं कांग्रेस विधायक दल की बैठक शाम को मुख्यमंत्री निवास में प्रस्तावित है। इस दौरान विपक्ष के हमलों का जवाब देने की रणनीति बनेगी।