नियम का पालन / क्वारेंटाइन सेंटरों में 2776 मजदूर परिवारों ने पूरे किए 14 दिन, घर जाने की अनुमति दी गई

2776 working families completed 14 days in quarantine centers, allowed to go home
X
2776 working families completed 14 days in quarantine centers, allowed to go home

  • 103 क्वरोंटाइन सेंटरों में 291 किट और 333 स्वाब टेस्ट किए गए, 4583 क्वरोटाइन की भी जल्दी होगी छुट्टी

दैनिक भास्कर

May 30, 2020, 05:00 AM IST

पलारी. कोरोना संकट के चलते लॉकडाउन होने पर अन्य राज्यों में जीने खाने गए भारी संख्या में अपने-अपने गांव लौटे श्रमिक परिवारों को पंचायत द्वारा गांवों में बनाए गए क्वारेंटाइन सेंटरों में 14 दिनों तक रखा गया था। इन सेंटरों में 14 दिनों तक रखने के बाद स्वास्थ जांच कर शुक्रवार को घर जाने दिया गया। शुक्रवार तक 2776 परिवारों को विभिन्न स्कूलों से छोड़ा गया जबकि 4583 मजदूर अभी भी क्वारेंटाइन हैं। पलारी ब्लाक के 103 क्वारेंटाइन सेंटरों में कोरोना के 291 किट व 333स्वाब टेस्ट किए गए। 
पलारी ब्लॉक में कुल 103 क्वरेंटाइन सेंटर हैं जहां देश के विभिन्न राज्यों जैसे महाराष्ट्र, हरियाणा, दिल्ली, आंध्रप्रदेश, ओडिशा, पश्चिम बंगाल, जम्मू कश्मीर, गुजरात सहित अन्य स्थानों से लौटे 7376 श्रमिक परिवारों को रखा गया है। इनकी नियमित स्वास्थ जांच स्वास्थ कर्मी, आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं, मितानिनों के माध्यम से कराई जा रही है। जिन श्रमिकों के 14 दिन पूरे हो गए उन्हें घर जाने की अनुमति दी जा रही है। वहीं स्वास्थ विभाग द्वारा क्वारेंटाइन सेंटरों में रह रहे 624 लोगों की कोरोना संबंधी परीक्षण किया गया जिसमें वे लोग शामिल हैं जिनमें या तो कोरोना के लक्षण दिखे या ऐसे लोग जो कोरोना पॉजिटिव मरीजों के संपर्क में आए थे। बाकी लोगों में कोई लक्षण नहीं दिखने पर उनकी जांच नहीं की गई।

इन क्वारेंटाइन सेंटरों में सबसे ज्यादा स्वाब और किट टेस्ट हुए
अमेरा 10 स्वाब टेस्ट, अछोली 10, छेरकाडीह में 12किट और  5 स्वाब, छेरकापुर 15 किट और 5 स्वाब, धोराभाठा 16 किट, कानाकोट 15 किट,  कोनारी में 40 किट 56 स्वााब, लक्सनपुर 10 स्वााब, मोहतरा 13 स्वाब, नागपुरा 10 किट, पलारी 26 किट और 75 स्वाब,  रामपुर 6 किट 22 स्वाब, आदि गांव शामिल हैं जहां अधिक टेस्ट किए गए और जांच के लिए रायपुर भेजे गए हैं। 

नियमित स्वास्थ्य की जांच हो रही : डॉ. निराला 
बीएमओ डॉक्टर एफआर निराला का कहना है कि उच्च कार्यालय के दिशा निर्देश पर प्रवासी मजदूरों का क्वारेंटाइन सेंटरों में नियमित रूप से सामान्य स्वास्थ जांच की जा रही है। सबसे ज्यादा उन्हीं श्रमिकों का स्वाब और किट टेस्ट किया गया जिनमें कोई लक्षण दिखे या जो लोग पाॉजिटिव मरीजों के संपर्क में रहे। वैसे हम लोगों ने सभी सेंटरों में रेन्डम टेस्ट कर लिया है ।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना