दुस्साहस:कब्जे के लिए काट रहे पेड़, अफसरों के पहुंचने से पहले ही फरार हो जाते हैं लोग

पंडरिया2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • वन क्षेत्र पंडरिया में पेड़ काटकर खेत बनाने का काम बेखौफ चल रहा

वन क्षेत्र पंडरिया में पेड़ों की कटाई व अतिक्रमण का कार्य रुकने का नाम नहीं ले रही है। लगातार लोग पेड़ काटकर खेत बनाने का कार्य चल रहा है। परिक्षेत्र पंडरिया पूर्व के अंतर्गत कोदवा गोड़ान सर्किल के कक्ष क्रमांक 527 में कुछ लोग बुधवार रात को वन भूमि पर कब्जा करने के लिए हरे-भरे पेड़ों की कटाई कर रहे थे।

सूचना पर वन विभाग की टीम मौके पर रवाना हुआ। लेकिन इससे पहले ही अतिक्रमणकारी वहां से भाग गए। इसी तरह कक्ष क्रमांक 525 में भी कुछ स्थानीय लोग वनभूमि पर कब्जा कर श्मशान बना रहे थे। पिछले दिनों स्थानीय वन कर्मियों ने इन लोगों को मना करते हुए समझाने का प्रयास किया। इस पर लोग विवाद पर उतारू हो गए थे। कक्ष क्रमांक 525 में यहीं के एक व्यक्ति ने जबरन हल चलाकर वन भूमि पर कब्जा भी जमा लिया है। पिछले कुछ वर्षों से कोदवागोडान के आसपास नागाड़बरा, जामुनपानी व कई गांवों मे अवैध कब्जा किया जा चुका है। इसके अलावा क्रांति जलाशय के पास भी अवैध कब्जा लगातार बढ़ रहा है। प्रतिवर्ष खेती का रकबा बढ़ रहा है और वन क्षेत्र कम होते जा रहे हैं।

ठोस कार्रवाई की जरूरत
वन भूमि पर कब्जा करने व पेड़ों की कटाई करने वालों पर कठोर कार्रवाई की जरूरत है। वन विभाग हल्की कार्रवाई कर या समझाइश देकर छोड़ देती है। इसके कारण लोगों में डर नहीं है और लगातार पेड़ों की कटाई कर रहे हैं। ऐसे अतिक्रमणकारियों के ऊपर वन संरक्षण अधिनियम के अंतर्गत कठोर कार्रवाई किया जाना चाहिए।

प्रतिदिन होती है कटाई
अतिक्रमण के साथ फर्नीचर निर्माण के लिए, जलाऊ बेचने सहित अन्य कार्यों के लिए पंडरिया के जंगलों में प्रतिदिन कटाई हो रही है। इन लकड़ियों का परिवहन भी खुलेआम कार्यालय के सामने से ही होती है, लेकिन विभाग द्वारा किसी प्रकार की कार्रवाई नहीं की जाती है। वन विभाग के एसडीओ जशवीर सिंह मरावी का कहना है कि कोदवागोड़ान सर्किल में मामले का जांच करने स्वयं जा रहा हूं। पेड़ों की कटाई होने पर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

खबरें और भी हैं...