महाराष्ट्र में ओमिक्राॅन ने पसारे पैर:नगर में रोज पुणे से आ रही दो बस, अमला सतर्क नहीं

पंडरिया2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
महाराष्ट्र से बसों में पहुंच रहे लोग, जांच नहीं। - Dainik Bhaskar
महाराष्ट्र से बसों में पहुंच रहे लोग, जांच नहीं।

महाराष्ट्र में कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रान के 10 केस सामने आ चुके हैं। वहीं नगर में प्रतिदिन महाराष्ट्र के पुणे से दो बसें आ रही है। इससे क्षेत्र में कभी भी कोरोना का नया वेरिएंट दस्तक दे सकता है। यही नहीं, लखनऊ से 4 व हैदराबाद से 3 बसें प्रतिदिन नगर पहुंचती है। इसके चलते क्षेत्र का संपर्क रोजाना अन्य प्रदेशों से बना हुआ है।

मिली जानकारी के मुताबिक ब्लाक के करीब 4 हजार से अधिक लोग महाराष्ट्र, उत्तरप्रदेश, राजस्थान, गुजरात, आंध्रप्रदेश, तेलंगाना, जम्मू कश्मीर, हरियाणा सहित दीगर राज्यों में पलायन करते हैं। जो धान कटाई के समय वापस आते हैं। अभी अधिकतर गांवों में सैकड़ों लोग पलायन से लौट रहे हैं। इनका स्वास्थ्य विभाग द्वारा जांच नहीं किया जा रहा है। पलायन से लौटने वाले लोग कोरोना के नए वेरिएंट के वाहक बन सकते हैं। इससे क्षेत्र में कोरोना के बढ़ने की आशंका है।

जांच की आवश्यकता
नगर में अन्य प्रदेशों से आने वाले बसों की जांच प्रदेश अथवा जिला की सीमा में किया जाना चाहिए। ताकि कोरोना संक्रमण की आशंका को दूर किया जा सके। लेकिन इसे लेकर प्रशासन सजग नहीं है। बॉर्डर में जांच तो दूर बाहर से लौटने वाले लोगों की जानकारी भी प्रशासन नहीं ले रहा है। इस संबंध में पंडरिया के बीएमओ डॉ. बीएल राज का कहना है कि अनुविभागीय अधिकारी से चर्चा कर और जिले से मिले निर्देश के अनुसार बाहर से आने वाले लोगों के जांच के लिए योजना बनाई जाएगी।

डरें नहीं, टीका लगवाएं
कोविड व नए वेरिएंट ओमिक्रोन से बचाव के लिए कोविड टीकाकरण को ही कारगर माना जा रहा है। यही वजह है कि जिला प्रशासन इस दिशा में अधिक संवेदनशील होकर लोगों को शत्-प्रतिशत टीके लगवाने प्रयास कर रहा है। इसी कड़ी में कलेक्टर रमेश कुमार शर्मा ने अपनी टीम के साथ पंडरिया के कुंडा सहित आसपास के गांवों में घर-घर जाकर छूटे हुए लोगों को टीके लगवाने प्रेरित किया। उन्होंने छूटे हुए हितग्राहियों को टीके लगवाए। कलेक्टर आप लोग डरें नहीं, हम पर भरोसा करें व टीका लगवाएं।

खबरें और भी हैं...