पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

खुलासा:हथिनी की मौत से 11 दिन पहले उसी जगह पर करंट से मारा गया था भालू

पिथौराएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • करंट से हथिनी की मौत के मामले में 7 आरोपी गिरफ्तार, दो अब भी फरार

मादा हाथी के शिकार के मामले की जांच कर रही टीम के उस वक्त होश उड़ गए, जब उन्हें पता चला कि 11 दिन पहले करंट से एक नर भालू की भी मौत हुई है। आरोपियों ने 11 दिन पहले भी उसी स्थान पर करंट का तार बिछाया था, जिस स्थान पर शनिवार को हाथी की मौत हुई थी। मृत भालू को जंगल के भीतर ही झाड़ियों में छिपा दिया था। शनिवार को जब एक मादा हाथी की करंट से मौत हुई और इसमें शामिल लोगों को पकड़कर पूछताछ की गई तब जाकर मामले का खुलासा हुआ। इसके बाद वन विभाग की टीम रविवार को आरोपियों को लेकर उक्त स्थान पर पहुंची और उनकी निशानदेही पर झाड़ियों के बीच से मृत भालू के अवशेष बरामद कर लिए। डीएफओ मयंक पाण्डेय ने बताया कि आरोपियों ने 11 सितंबर को नर भालू का शिकार किया था। पकड़े जाने के बाद आरोपियों ने इस बात का खुलासा किया है। इधर, मामले में सात आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है। इसमें किशनपुर और लक्ष्मीपुर के मखियार यादव, गौरीशंकर, सहदेव, नरोत्तम साहू, सिरपत बरिहा, अमृतलाल यादव, निराकार बरिहा गिरफ्तार कर लिए गए हैं। वहीं किशनपुर निवासी अशोक बुड़ेक और जयनाथ ग्राम लक्ष्मीपुर अब भी फरार है।

जंगली सुअर के शिकार के लिए लगाया था तार
वन विभाग से प्राप्त जानकारी के अनुसार आरोपियों ने जंगली सुअर के शिकार के लिए 11केवी लाइन से बिजली का तार बिछाया था। इसी तार की चपेट में आने से शुक्रवार की रात हथिनी की मौत हो गई थी। घटना के बाद मौके पर पहुंची टीम ने जांच शुरू की। अचानकमार अभ्यारण्य से डॉग स्क्वायड प्रभारी सुरेश नवरंगे के साथ डॉग मौके पर पहुंचा। घटना स्थल से डॉग सीधे किशनपुर एवं रामपुर डीपापारा पहुंचा। यहां से शुक्रवार की रात ही 9 लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ शुरू कर दी गई थी। इसके बाद पकड़े गए ग्रामीणों ने भालू के शिकार की बात स्वीकार की। भालू के शिकार की जानकारी तत्काल उच्च अधिकारियों को दी गई। सुबह ही उच्च अधिकारी आरोपियों के साथ दोबारा जंगल में पहुंचे, जहां शिकार के बाद भालू के शव काे छिपाया गया था।

ये रही कार्रवाई करने वाली टीम
कार्रवाई डीएफओ मयंक पाण्डेय के निर्देशन में की गई। टीम में उप वनमंडलाधिकारी सीके टकरिया, सहायक वन संरक्षक यूआर बसंत, उप वनक्षेत्रपाल एमएल प्रजापति, सत्येंद्र कश्यप, वीरेंद्र बंजारे, सीताराम ध्रुव, वन रक्षक गुरुचरण मिश्रा, दिनेश शर्मा, दिनेश ठाकुर जयसिंह भोसले, दीनाराम डड़सेना, दीपक रात्रे शामिल थे। एसडीओपी सीके टिकरिया ने बताया कि वन्य प्राणी संरक्षण अधिनियम 1972 की धारा 9, 39, 50, 51 एवं भारतीय वन अधिनियम 1927 की धारा 33 के तहत कार्रवाई की गई।


सीधी बात
सीके टिकरिया, एसडीओ वन पिथौरा

आरोपियों ने करंट लगाना कबूल किया
सवाल - मादा हाथी की मौत के मामले में पकड़े गए आरोपियों का कहना है कि वे भालू के शिकार में शामिल थे हाथी के शिकार में नहीं?
- आरोपियों ने बकायदा बयान दिया है। पूछताछ के दौरान उन्होंने ही बताया है कि उन्होंने ही करंट लगाया था।
सवाल - जहां हाथी की मौत हुई, वहां से 11 केवी लाइन की दूरी करीब 1 किमी है, जबकि इतनी मात्रा में तार, शीशियां और खूंटे बरामद नहीं हुए हैं?
- अब भी मामले के दो आरोपी फरार हैं, कुछ सामान उनसे भी जब्त किया जाना है। पकड़े गए आरोपी ही बता रहे हैं कि कई सामान उन दोनों के पास है।
सवाल - फरार आरोपियों को पकड़ने के लिए क्या किया जा रहा है?
- आरोपियों की पतासाजी की जा रही है, टीम कई बार उनके घर दबिश दे चुकी है। मामले में पुलिस और साइबर सेल की मदद भी ली जाएगी। इसके लिए पुलिस विभाग से पत्राचार कर मांग की जाएगी।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आप अपने विश्वास तथा कार्य क्षमता द्वारा स्थितियों को और अधिक बेहतर बनाने का प्रयास करेंगे। और सफलता भी हासिल होगी। किसी प्रकार का प्रॉपर्टी संबंधी अगर कोई मामला रुका हुआ है तो आज उस पर अपना ध...

और पढ़ें