पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

रोका छेका अभियान:गोठान खाली पड़ा, सड़क में मवेशियों का डेरा

सरायपाली14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

प्रदेश सरकार की रोका छेका योजना का सरायपाली नगर व ग्रामीण क्षेत्रों में बुरा हाल है। खुले में घूमने वाले पशुओं से फसलों को सुरक्षित रखने के लिए रोका छेका अभियान की शुरुआत तो की गई है, लेकिन अधिकारियों की उदासीनता और लापरवाही के चलते रोका छेका अभियान फेल हो रहा है।

योजना के तहत शहर व ग्रामीण क्षेत्र में अधिकाश पंचायतों में गोठान निर्माण किया गया है, लेकिन गोठान में मवेशी नहीं हैं, क्योंकि उनका डेरा सड़कों पर ही लगता है। शहर के बाहरी व अंदरुनी सभी रास्तों पर मवेशी बैठे रहते हैं। इससे कई बार बड़ी वाहनों से गायों की मौतें हुई हैं, तो कई बार दुपहिया चालकों को भी दुर्घटना का सामना करना पड़ता है। ऐसी योजना के क्रियान्यवन से कैसे गोधन बचेंगे और किसानों की फसलें बचेंगी। इससे किसी को भी लाभ होता नहीं दिख रहा है।

खबरें और भी हैं...