पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

परेशानी:बीज व ऋण नहीं मिल रहा जो अप्रैल में शुरू हो जाता था

सुहेला11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • समितियों से उठाकर खाद का भी भंडारण कर लेते थे परंतु इस बार अभी तक न होने से किसान चिंतित

कोरोना संक्रमण के बीच लगातार लॉकडाउन रहने और खरीफ सीजन के नजदीक आने के साथ सहकारी समितियों के माध्यम से इस बार खाद बीज व कृषि ऋण का वितरण अभी तक प्रारंभ नहीं होने से किसानों को चिंता गई है। पिछले साल तक अप्रैल में ही धान बीज व नगद ऋण लेने की प्रक्रिया शुरू हो जाती थी।

इसी दौरान किसान समितियों से उठाकर खाद का भी भंडारण कर लेते थे परंतु इस बार इसके लिए अभी तक किसी प्रकार के संकेत नहीं मिल पा रहे हैंं, जो स्वाभाविक रूप से चिंता का विषय है। थनवार वर्मा, फिरंता यदु, मालिकराम वर्मा, आमाकोनी के कमलेश यदु सहित किसानों ने बताया कि उन्होंने नए कृषि ऋण के लिए आवेदन मार्च में ही सोसाइटियों में जमा कर दिया है। सब्जी की बाड़ी लगाने वाले किसानों को खाद और दवा की बार बार आवश्यकता पड़ती है परंतु वह लॉकडाउन के कारण नहीं मिल पा रही है।

किसानों ने मांग की है कि किसानों की समस्याओं का हल निकालने के लिए कम से कम सहकारी साख समितियों एवं बैंकों को कार्यालयीन दिवस में एक निश्चित अवधि के लिए खोलने की छूट दी जानी चाहिए ताकि किसानों को खरीफ फसलों की तैयारियां करने में सुविधा हो। भारतीय किसान संघ के प्रचार प्रभारी नवीन शेष ने शासन से की है कि जो किसान 31 मार्च तक ऋण पटाते है‌ लेकिन लॉकडाउन लगने से नहीं पटा पाए हैं, उनके लिए समय सीमा बढ़ाकर 30 जून करनी चाहिए। उन्होंने किसानों से आग्रह किया कि कोरोना से लड़ने की सारी जिम्मेदारी केवल सरकार की ही नहीं है बल्कि हमें भी इसके उपयुक्त व्यवहार करते हुए शासन प्रशासन को सहयोग प्रदान करना होगा।

डीजल न मिलने से हारवेस्टर, थ्रेशर, ट्रैक्टर भी नहीं चल पा रहे
इधर रबी के धान में भी बालियां भी आने लगी है तो कहीं कटाई भी हो रही है तो कहीं धान कट चुका है। ऐसे में किसानों को हारवेस्टर, थ्रेशर, ट्रैक्टर जैसे कृषि यंत्रों की आवश्यकता पड़ रही है परंतु डीजल नहीं मिल पाने के कारण इन मशीनों से काम नहीं हो पा रहा है। कृषक बालाराम वर्मा ने बताया कि वे अपना खेत में अकरस जोताई करवाना चाहते हैं परंतु ट्रैक्टरोंं को डीजल नहीं दिए जाने के कारण उनका काम अटक गया है। गौरतलब है कि किसान अब तक खरीफ फसल की तैयारी प्रारंभ कर देते हैं और आज की स्थिति में शत प्रतिशत किसान समितियों के माध्यम से ही खाद बीज और नकद ऋण लेते हैं। इसके लिए पिछली बार लिए गए ऋण को वे धान खरीदी के समय ही समायोजित करवा लेते हैं किंतु लॉकडाउन में सभी शासकीय एवं अर्धशासकीय कार्यालय बंद होने के कारण किसानों को खरीफ की तैयारी
हेतु दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव - आर्थिक स्थिति में सुधार लाने के लिए आप अपने प्रयासों में कुछ परिवर्तन लाएंगे और इसमें आपको कामयाबी भी मिलेगी। कुछ समय घर में बागवानी करने तथा बच्चों के साथ व्यतीत करने से मानसिक सुकून मिलेगा...

    और पढ़ें