विज्ञान प्रदर्शनी:नदियों की होगी सफाई, छात्रों ने बनाया उपकरण

खैरागढ़9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

बख्शी स्कूल के विज्ञान भवन परिसर में सोमवार को विज्ञान प्रदर्शनी लगाई गई। ज्यादातर उपकरण छात्रों ने विज्ञान भवन परिसर में ही स्थापित अटल टिकरिंग लैब में बनाए गए हैं। कम्प्यूटरिंग प्रोग्रामिंग, कोडिंग और तकनीक की जटिलताओं को पार करते हुए लैब प्रभारी व शिक्षक संजय श्रीवास्तव के मार्गदर्शन में छात्रों ने इन उपकरणों को तैयार किया। इसमें सर्वाधिक प्रभावी नदियों की सफाई के लिए बनाया उपकरण रहा।

छात्रों ने बताया कि पूरी तरह से सॉफ्टवेयर से ऑपरेट होने वाले इन उपकरणों का निर्माण कोडिंग से किया गया है। निर्माण में कुल 6 हजार रुपए खर्च हुए हैं। जिसे सीधे नदी में उतारा जा सकता है। यह नदी से निकलने वाले कचरे को भी पृथक करने का कार्य करेगा। छात्रों ने लैब में दो तरह के नदियों की सफाई के उपकरण तैयार किए हैं जो नदियों की निर्मलता के लिए उपयोगी उपकरण साबित हो सकते हैं। डीईओ के वी राव ने भी विज्ञान प्रदर्शनी का अवलोकन कर सराहना की।

इस दौरान प्राचार्य आर. एल. वर्मा, आशीष मिश्रा, अनुराग सिंह, किरण सिंह, राम्हिन चंद्रवंशी, पायल मढ़रिया, हिमांशु देवांगन, कुंम्भलता नेताम, विष्णु जोशी, पुकेश्वर निषाद, नरेंद्र निषाद, सौरभ सोनी, आरती साहनी, विनीता शर्मा, सुमन सहित अन्य मौजूद रहे।

उपकरण बेहद उपयोगी हैं
निर्मल त्रिवेणी महाअभियान के संस्थापक टीएसी सदस्य भागवत शरण सिंह ने प्रदर्शनी के अवलोकन के दौरान कहा कि लैब के माध्यम से प्रेरक अनुसंधान किए जा रहे हैं। खासकर नदियों की सफाई के लिए तैयार किए उपकरण बेहद उपयोगी हैं। इसके लिए लैब के प्रभारी शिक्षक व स्कूल प्रबंधन बधाई के पात्र हैं। इस दौरान समाजसेवी उत्तम दशरिया व अन्य मौजूद रहे।

कोविड में उपयोगी उपकरण भी किया प्रदर्शित

छात्रों ने इसके साथ ही कोविड की गंभीरता को देखते हुए सेंसर से चलने वाले डस्टबिन, सोशल डिस्टेंसिंग को मेंटेन करने वाले उपकरण आदि बनाए हैं। साथ ही सॉफ्टवेयर ऑपरेटेड रोबोट भी प्रदर्शनी में प्रस्तुत किया। विज्ञान भवन परिसर में बने इस लैब में तमाम तरह की आवश्यक सुविधा उपलब्ध है। हालांकि छात्रों की विज्ञान क्षमता को देखते हुए यहां अनुसंधान के लिए अत्याधुनिक उपकरणों की आवश्यकता भी है।

खबरें और भी हैं...