अवसर की राजनीति:दावेदारों के दावे: पार्टी कार्यालय में रात बिताएंगे, हफ्ते में 2 दिन घर जाएंगे

राजनांदगांव15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

भाजपा जिलाध्यक्ष के लिए दौड़ तेज हो गई है। राजनांदगांव के साथ नवगठित जिले केसीजी और एमएमसी में भी जिलाध्यक्ष नियुक्त किया जाना है। इसके लेकर दावेदारों की होड़ लग गई है। भाजपा संगठन ने अगले 8 से 10 दिन में नामों का ऐलान हो जाने की बात कही है। जिलाध्यक्ष बनने के लिए दावेदार अलग-अलग दावे भी कर रहे हैं। इसमें अपने शीर्ष नेताओं को पार्टी के प्रति अपने समर्पण भाव की जानकारी दी जा रही है।

बीते दिनों पूर्व सीएम डॉ. रमन सिंह शहर प्रवास पर थे। उनके निजी निवास में भी दावेदार पहुंचे। कुछ दावेदारों ने भाजपा जिलाध्यक्ष बनने के बाद पार्टी कार्यालय में ही दिन-रात बिताने की बात कही। वहीं हफ्ते में सिर्फ दो दिन घर जाने का भी दावा किया। इसके अलावा रेस में बने अन्य दावेदारों की खामियां गिनाने का दौर भी जारी है।

विपक्षी दल के साथ कौन सा नेता सांठगांठ कर चल रहा है, यह तक पार्टी नेताओं के सामने रखा जा रहा है। राजनांदगांव से भाजपा जिलाध्यक्ष के लिए पूर्व जिलाध्यक्ष संतोष अग्रवाल, कोमल सिंह राजपूत, रमेश पटेल, दिनेश गांधी, राजेंद्र गोलछा, मूलचंद लोधी, रविंद्र वैष्णव और शिव वर्मा की दावेदारी है।

जातीय समीकरणों पर भी फोकस
जिलाध्यक्ष के लिए जातीय समीकरण भी अहम साबित हो सकते हैं। पार्टी इस एंगल से भी नामों की घोषणा कर सकती है। इसकी चर्चा भी संगठन में जारी है। एमएमसी में अनुसूचित जनजाति वर्ग से जिलाध्यक्ष बनना तय माना जा रहा है। मामला केसीजी और नांदगांव में फंसा हुआ है। अगर केसीजी में सामान्य वर्ग से जिलाध्यक्ष बनाया गया, तो नांदगांव में ओबीसी के दावेदार पर मुहर लग सकती है। वहीं नांदगांव में सामान्य वर्ग का जिलाध्यक्ष चुना गया तो खैरागढ़ में ओबीसी से जिलाध्यक्ष होने की संभावना पार्टी सूत्र जता रहे हैं।

...कांग्रेस विधायक से सांठगांठ
पूर्व सीएम से मुलाकात करने नए गठित जिले खैरागढ़-गंडई-छुईखदान से भी टीम पहुंची। जिन्होंने पूर्व सीएम को बताया कि केसीजी से भाजपा जिलाध्यक्ष के लिए दावेदारी कर रहे एक नेता की कांग्रेस विधायक से सांठगांठ है। वह भीतर से कांग्रेस विधायक के साथ मिलकर काम कर रहा है और अब भाजपा से जिलाध्यक्ष की दावेदारी में उतर गया है। ऐसे व्यक्ति को जिम्मेदारी देने के बारे में सोचना भी पार्टी के लिए नुकसान है। शिकायत करने वालों ने उक्त दावेदार का विरोध किया है।

केसीजी व एमएमसी से इन नेताओं के नाम आए हैं
नवगठित जिले केसीजी से भाजपा जिलाध्यक्ष के लिए महामंत्री सचिन सिंह बघेल, उपाध्यक्ष वीरेंद्र जैन, छुईखदान मंडल अध्यक्ष प्रेम नारायण चंद्रकार, जिपं सदस्य घम्मन साहू, अनिल अग्रवाल की चर्चा है। पार्टी सूत्रों ने मुताबिक केसीजी में पार्टी पूर्व विधायक कोमल जंघेल को भी जिलाध्यक्ष की जिम्मेदारी सौंप सकती है। इधर एमएमसी में जिला भाजपा मंत्री नम्रता सिंह का नाम सबसे आगे है।

खबरें और भी हैं...