मौसम का मिजाज बदलने से 2 दिन गर्मी से राहत:डोंगरगढ़ में आंधी से निर्माणाधीन 2 करोड़ रुपए के स्कूल भवन की उड़ी छत

कवर्धा /राजनांदगांव /जगदलपुर3 महीने पहले

छत्तीसगढ़ के कई जिलों में गुरुवार की शाम मौसम का मिजाज बदला। तेज आंधी-तूफान के साथ कई जिलों में तेज झमाझमा बारिश हुई है। राजनांदगांव के डोंगरगढ़ में तेज आंधी की वजह से स्वामी आत्मानंद अंग्रेजी माध्यम स्कूल की छत उड़ गई। इधर, कबीरधाम में भी जमकर बारिश हुई है। बस्तर संभाग के दंतेवाड़ा समेत आस-पास के कुछ जिलों में शाम के समय तेज अंधड़ के साथ साथ बारिश हुई है। बस्तर में मौसम सुहावना हो गया है।

राजनांदगांव जिले के डोंगरगढ़ में करीब 2 करोड़ रुपए की लागत से बन रहे स्वामी आत्मानंद स्कूल की छत उड़ने से काफी नुकसान हुआ है। स्कूल के प्राचार्य ने बताया कि पोर्च एवं प्राचार्य कक्ष के साथ ही लगे कंप्यूटर कक्ष की छत के सभी टीन शेड उखड़ गए हैं। कमरों में पानी टपकते देख स्कूल के शिक्षक एवं कर्मचारियों ने आनन-फानन में कमरे में रखे पाठ्य सामग्री एवं सभी कंप्यूटर को दूसरे कमरों में सुरक्षित रख दिया है।

डोंगरगढ़ में आई आंधी ने स्कूल की छत उड़ा दी।
डोंगरगढ़ में आई आंधी ने स्कूल की छत उड़ा दी।

7 और 8 मई को ऐसा रहेगा मौसम
मौसम वैज्ञानिक एपी चंद्रा ने कहा कि दक्षिण अंडमान सागर के ऊपर चक्रवाती परिसंचरण के प्रभाव से दक्षिण अंडमान सागर और उससे लगे दक्षिणपूर्व बंगाल की खाड़ी के ऊपर एक निम्न दबाव का क्षेत्र बन गया है। इसके उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ने की संभावना है। जिससे 7 मई की शाम तक दक्षिण-पूर्व बंगाल की खाड़ी के ऊपर एक अवदाब बनकर और ज्यादा प्रबल होकर एक चक्रवाती तूफान में बदलने की संभावना बनी हुई है।

उन्होंने कहा कि इसके उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ने 8 मई की शाम तक पूर्व-मध्य बंगाल की खाड़ी के ऊपर और उत्तर में पश्चिम-मध्य बंगाल की खाड़ी तक पहुंचने की बहुत अधिक संभावना है बनी हुई है। 10 मई तक आंध्र-ओडिशा के तट में इसका प्रभाव देखने को मिल सकता है।

खबरें और भी हैं...