लोक अदालत का आयोजन:राजीनामा कराकर कई परिवारों को टूटने से बचाया, अन्य मामलों का भी निराकरण

अंबागढ़ चौकी7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
व्यवहार न्यायालय में लोक अदालत लगाया गया। - Dainik Bhaskar
व्यवहार न्यायालय में लोक अदालत लगाया गया।

व्यवहार न्यायालय परिसर अंबागढ़ चौकी में शनिवार को नेशनल लोक अदालत लगाया गया। लोक अदालत में कई वर्षों से लंबित आपसी विवाद के मामले, चेक बाउंस के मामले, भरण-पोषण संबंधी मामलों को रखा गया था। लोक अदालत में न्यायिक मजिस्ट्रेट प्रथम श्रेणी एवं पीठासीन अधिकारी लोक अदालत अंबागढ़ चौकी दुलार सिंह ने उपस्थित पक्षकारों को लोक अदालत में राजीनामा के फायदों के बारे में बताया और अपने राजीनामा योग्य प्रकरणों में आपसी समझौता के माध्यम से राजीनामा व मिलजुलकर रहने की जानकारी दी। जिसके कारण न्यायालय में कई वर्षों से लंबित प्रकरणों में पक्षकारों ने आपसी सहमति से अपने प्रकरणों में राजीनामा कर अपने प्रकरण का निराकरण किए। इस नेशनल लोक अदालत में लंबित नियमित प्रकरणों, मोटर यान अधिनियम, आब.अधिनियम, भरण पोषण के मामले, चेक बाउंस संबंधी, राजस्व प्रकरणों सहित 243 प्रकरणों का निराकरण किया गया।

अलग रह रहे पति-पत्नी को मिलाया: वनांचल थाना क्षेत्र औंधी निवासी प्रार्थिया गुलशन एक्का का उसके ही पति डेविड एक्का के द्वारा मारपीट और आपसी विवाद किए जाने का मामला न्यायिक मजिस्ट्रेट दुलार सिंह के न्यायालय में लंबित था। जिस कारण उक्त दोनों दंपत्ति एक-दूसरे से अलग रह रहे थे। न्यायिक मजिस्ट्रेट ने प्रकरण में राजीनामा की संभावना को देखते हुए दोनों पति-पत्नी को तालुक विधिक सेवा समिति अंबागढ़ चौकी में उपस्थित होने की जानकारी दी गई एवं दोनों पति-पत्नी के उपस्थित होने पर शनिवार को आपसी सहमति से प्रकरण में राजीनामा कर खुशहाल एवं आपसी प्रेमपूर्वक मिलजुलकर रहने के लिए समझाया।

खबरें और भी हैं...