कार्रवाई:स्कूल बसों की हुई फिटनेस जांच, 2 गाड़ियों पर लगा जुर्माना, 1 जब्त की

सुकमाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
स्कूल बसों की जांच करते यातायात विभाग एवं आरटीओ के अफसर। - Dainik Bhaskar
स्कूल बसों की जांच करते यातायात विभाग एवं आरटीओ के अफसर।

बच्चों की सुरक्षा को देखते हुए शुक्रवार को जिला परिवहन कार्यालय में स्कूली गाड़ियों की फिटनेस सहित अन्य सभी दस्तावेजों का जांच किया गया। शासन द्वारा निर्धारित 16 सुरक्षा मानक के आधार पर पुलिस यातायात विभाग, जिला परिवहन विभाग व स्कूल शिक्षा विभाग ने संयुक्त रूप से वाहन का निरीक्षण किया। जांच के दौरान सभी गाड़ियों के फिटनेस प्रमाण, टैक्सी परमिट, ड्राइवर लाइसेंस, प्रदूषण कंट्रोल प्रमाण पत्र आदि की जांच की गई।

इस दौरान 2 स्कूली गाड़ी का टैक्सी परमिट नहीं होने पर 5-5 हजार रुपए का जुर्माना भी वसूला गया। टैक्सी परमिट व फिटनेस प्रमाण नहीं होने पर एक बस को जब्त कर यातायात थाने ले जाया गया। उप निरीक्षक यातायात शंकर पाल ने वाहन चालकों व वाहन मालिकों को सुप्रीम कोर्ट द्वारा जारी निर्देशों से अवगत कराते हुए समझाइश दी। पाल व जिला परिवहन अधिकारी एसबी रावटे ने बस चालकों को सभी सुरक्षा मानकों का पूरी तरह से पालन करने कहा। उन्हें बताया कि खिड़कियों में जाली होना अनिवार्य है।

बस में 2 शिक्षकों या शिक्षिकाओं को होना जरूरी है। उन्होंने बताया कि बच्चों को घर छोड़ते समय दिशा का ध्यान रखें, घर के विपरीत ओर की सड़क में बच्चों को न उतारें, बच्चों को खुद सड़क पार करने न दें, यदि परिजन उन्हें लेने आएं तो बच्चों को परिजन को सौंपने के बाद सड़क पार करने के बाद ही बस आगे बढ़ाएं।

खबरें और भी हैं...