भाजपा का आरोप:पीएम आवास के 16 लाख मकान राज्यांश के अभाव में लैप्स

सूरजपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में केंद्र सरकार के आठ वर्ष पूरे होने पर आयोजित प्रेसवार्ता में प्रदेश प्रवक्ता अनुराग सिंहदेव ने कहा कि केंद्र की मोदी सरकार सेवा सुशासन व गरीब कल्याण के मूलमंत्र से चल रही है। केंद्र सरकार कोरोना के वैश्विक महामारी काल में भी सेवा कार्य में सतत् लगी रही। वहीं छत्तीसगढ़ के परिपेक्ष्य में स्पष्ट रूप से कहा कि आज केंद्र सरकार ने राज्यांश 32% से 42 प्रतिशत कर राज्य सरकारों को मजबूत करने का काम किया है।

आज छत्तीसगढ़ में नेशनल हाइवे पर बड़े पैमाने पर काम प्रगति पर है। केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी के छत्तीसगढ़ प्रवास में नौ हजार दो चालीस करोड़ के कार्यों का शिलान्यास व लोकार्पण किया गया। सिंहदेव ने आरोप लगाया कि प्रदेश की भूपेश सरकार छत्तीसगढ़ की जनता के साथ धोखा कर रही है। आज प्रदेश में पिछले तीन वर्षों में प्रधानमंत्री आवास योजना के 16 लाख मकान राज्य सरकार के राज्यांश के अभाव में लैप्स होने से गरीब परिवार के पक्के मकान का सपना अधूरा रह गया। इस दौरान भाजपा जिलाध्यक्ष बाबूलाल अग्रवाल, प्रदेशकार्यसमिति सदस्य भीमसेन अग्रवाल, पूर्व जिलाध्यक्ष अजय गोयल, राजेश अग्रवाल, भूलन सिंह, शशि तिवारी, संदीप अग्रवाल, राजेश्वर तिवारी, सुरेंद्र राजवाड़े, किशन देवांगन, संस्कार अग्रवाल मौजूद रहे।

प्रदेश को 33सौ करोड़ का हुआ नुकसान : सिंहदेव
सिंहदेव ने कहा कि जल जीवन मिशन योजना से प्रदेश मे केंद्र सरकार ने 15 हजार करोड़ की राशि स्वीकृत हुई थी, लेकिन सरकार की लेट-लतीफी व अदूरदर्शिता के कारण हर घर नल-जल के काम में छत्तीसगढ़ अंतिम पायदान पर है। इससे छत्तीसगढ़ प्रदेश को 33 सौ करोड़ का नुकसान हो रहा है। आयुष्मान योजना प्रदेश में दम तोड़ रही है, जबकि इस योजना की शुरुआत प्रधानमंत्री ने दंतेवाड़ा से किया था।

नई रेल लाइन की जल्द मिलेगी सौगात: सिंहदेव
सिंहदेव ने कहा कि राज्य सरकार के कुप्रबंधन के कारण समितियों में यूरिया डीएपी उपलब्ध नहीं रहता, जबकि खुले बाजार में व्यापारी यूरिया की बिक्री कर रहे होते हैं, जबकि केंद्र सरकार ने किसानों को सशक्त बनाने व कृषि को लाभ का काम बनाने कृषि बजट में 38%की बढोतरी की है। केंद्र सरकार ने पिछले आठ सालों में तीन लाख 25 हजार किमी सड़क निर्माण की स्वीकृति दी है।

खबरें और भी हैं...