स्वरोजगार के अवसरों का सृजन:35 फीसदी अनुदान के साथ बिजनेस के लिए 25 लाख लोन

सूरजपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

खादी और ग्रामोद्योग बोर्ड द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों में स्वरोजगार के अवसरों का सृजन कर ग्रामीण अर्थव्यवस्था को सुदृढ़ बनाने व स्वरोजगार को बढ़ावा देने की दिशा में दो योजनाएं संचालित की जा रही है, जिससे परियोजना लागत पर 35 प्रतिशत अनुदान राशि उपलब्ध कराना है। प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम भारत सरकार द्वारा प्रायोजित योजना है, जिसके अंतर्गत विनिर्माण क्षेत्र जैसे-दोना पत्तल निर्माण, पशुचारा, दूध डेयरी प्रोडक्ट, मसाला उद्योग आदि के लिए अधिकतम राशि 25 लाख तक, सेवा क्षेत्र जैसे ब्यूटी पार्लर, सैलून, साइकिल रिपेयरिंग, मोबाइल रिपेयरिंग, कंप्यूटर फोटो कॉपी, ऑटो रिपेयरिंग आदि के लिए अधिकतम राशि 10 लाख तक का ऋण बैंकों के माध्यम से प्रदान किया जाता है।

बैंक द्वारा स्वीकृत परियोजना लागत पर सामान्य वर्ग के पुरुष हितग्राहियों को 25 प्रतिशत और अन्य सभी वर्गों व महिलाओं को 35 प्रतिशत अनुदान राशि प्रदान किया जाता है। इसी तरह मुख्यमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम राज्य शासन द्वारा प्रायोजित योजना है, जिसके लिए विनिर्माण क्षेत्र के लिए अधिकतम राशि 3 लाख और सेवा क्षेत्र के लिए अधिकतम राशि 1 लाख तक का ऋण बैंकों के माध्यम से प्रदान किया जाता है। बैंकों द्वारा स्वीकृत परियोजना लागत पर अनुदान जाति, अनुसूचित जनजाति व अन्य पिछड़ा वर्ग के हितग्राहियों को 35 प्रतिशत अनुदान राशि प्रदान की जाती है।

खबरें और भी हैं...