सूरजपुर जिले में 9700 टन यूरिया की जरूरत:यूरिया के लिए सप्ताह के भीतर लगेगी रैक

सूरजपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

मानसून को नजदीक आता देख किसान खाद का तेजी से उठाव कर रहे हैं और प्रशासन के दावों के बीच भी किसानों को पर्याप्त खाद नहीं मिल रही है। इस बीच जिला विपणन अधिकारी, मार्कफेड ने जानकारी दी है कि जिला सूरजपुर में खरीफ सीजन 2022 के लिए 23 हजार मीट्रिक टन रासायनिक खाद का लक्ष्य रखा है, जिसके विरुद्ध 7301 टन खाद का भंडारण हो चुका है। इनमें से जिले की आदिम जाति सेवा सहकारी समितियों में 4755 टन खाद का भंडारण कराया जा चुका है।

यूरिया 9700 टन के विरुद्ध 5160 टन (56 प्रतिशत), डीएपी 3400 टन के विरुद्ध 1945 टन (57 प्रतिशत), एनपीके 6800 के विरुद्ध 90 टन (1 प्रतिशत) प्राप्त हुई है। जिला सहकारी बैंक से प्राप्त जानकारी अनुसार जिले की आदिम जाति सेवा सहकारी समितियों में पूर्व वर्ष के स्टॉक को मिलाकर कुल 9822 मीट्रिक टन रासायनिक खाद उपलब्ध थी, जिसमें से 4238 मीट्रिक टन खाद कीमत 8 करोड़ और 24 करोड़ नकद ऋण कुल 32 करोड़ का ऋण का वितरण जिले के 10836 किसानों को किया जा चुका है और वर्तमान में समितियों में 4747 मीट्रिक टन खाद उपलब्ध है, जिसमें से यूरिया 4284 मीट्रिक टन, डीएपी 137 टन, एनपीके 95 टन व अन्य खाद 229 टन उपलब्ध है। जिला विपणन कार्यालय से प्राप्त जानकारी अनुसार आगामी एक सप्ताह में यूरिया व डीएपी के लिए खाद कंपनियों की रैक लगने वाली है, जिससे कि खाद की पर्याप्त मात्रा में आपूर्ति होने की संभावना है।

कलेक्टर इफ्फत आरा ने किसानों से उपलब्धता अनुसार जल्दी रासायनिक खाद का उठाव करने का आग्रह किया है, ताकि और खाद आने पर समितियों के गोदामों में भंडारण कराया जा सके। जिला सहकारी बैंक, आदिम जाति सेवा सहकारी समितियों के अमले और कृषि विभाग के अमले को किसानों को समितियों से जल्दी खाद उठाव कराने के संबंध में कार्यवाही करने निर्देशित भी किया है।

खबरें और भी हैं...