कोविड अस्पताल ने भी खड़े किए हाथ:ESI मेडिकल कॉलेज ने नए मरीजों की भर्ती पर लगाई रोक, गेट के बाहर लगाया बोर्ड, भगवान भरोसे मरीजों का जीवन

फरीदाबाद7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
गेट के बाहर लगाया बोर्ड। - Dainik Bhaskar
गेट के बाहर लगाया बोर्ड।

कोरोना के सितम ने पूरी सरकारी मशीनरी के फेल कर दिया है। अब मरीजों का जीवन सिर्फ भगवान भरोसे है। जानकर हैरानी होगी कि जिला का सबसे बड़ा कोविड अस्पताल ईएसआई मेडिकल कॉलेज अब मरीजों को एडमिट करना बंद कर दिया है। इसके के लिए कॉलेज प्रबंधन ने गेट के बाहर बोर्ड भी लगा दिया। प्राइवेट अस्पताल पहले से ही फुल हो चुके हैं, ऐसे में अंदाजा लगाया जा सकता है कि महामारी किस तरह हाबी हो चुकी है। वहीं दूसरी ओर 24 घंटे में 7 मरीजों की मौत हो गई, जबकि 1560 नए केस सामने आए हैं। इस दौरान 1079 मरीज ठीक होकर अपने घर पहुंच चुके हैं। दूसरी ओर बेड मैनेजमेंट के नोडल अधिकारी ने सभी सरकारी और प्राइवेट अस्पतालों को नोटिस जारी कर बेड की संख्या और वहां भर्ती मरीजों की जानकारी मांगी है। बेहतर होगा कि घरों से बाहर न निकले और मामूली लक्ष्ण होने पर डॉक्टर की सलाह पर दवा लेना शुरू कर दें।

कोविड अस्पताल में मरीजों की एंट्री की गई बंद

जिस रफ्तार से फरीदाबाद में कोरोना के केस आ रहे हैं, उसे देखते हुए जिले के प्राइवेट अस्पताल पहले ही बेड न होने की बात कर रहे हैं। लेकिन सरकार द्वारा कोविड अस्पताल के लिए चिन्हित किए गए एनआईटी तीन स्थित ईएसआई मेडिकल कॉलेज में भी बेड फुल हो चुके हैं। कॉलेज प्रबंधन ने नए मरीजों को भर्ती करने से मना कर दिया है। कॉलेज प्रबंधन ने गेट के बाहर नोटिस लगाकर कहा है कि हम क्षमा प्रार्थी हैं। आईसीयू बेड और ऑक्सीजन बेड आज की तारीख में नहीं है। असुविधा के लिए खेद है।

50 ऑक्सीजन बेड और बढ़ाए जा रहे

मेडिकल काॅलेज के डीन डॅा. असीम दास का कहना है कि उनका अस्पताल 500 बेड का है। जिसमें से 200 बेड ऑक्सीजन युक्त है। यहां दो सौ से अधिक मरीज भर्ती किए गए हैं। इसके अलावा आईसीयू और वेंटिलेटर भी फुल हैं। अब हमारे पास मरीजों को भर्ती करने के लिए जगह नहींं है। सरकार से निर्देश मिलने के बाद 50 ऑक्सीजन युक्त बेड और बढ़ाए जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि अस्पताल में सिर्फ बिना ऑक्सीजनयुक्त बेड ही उपलब्ध हैं। ऐसे में अब गंभीर मरीजों की भर्ती नहीं की जा रही है

अस्पतालों से बेड उपलब्धता की मांगी रिपोर्ट

मरीजों को बेड उपलब्ध कराने के लिए बनाए गए नोडल अधिकारी एंव बल्लभगढ़ नगर निगम के ज्वाइंट कमिश्नर नवदीप नैन ने सभी सरकारी और प्राइवेट अस्पतालों को नोटिस जारी कर उनके यहां उपलब्ध बेड की जानकारी देने का आदेश दिया है। सभी अस्पतालों को नोटिस जारी कर पूछा गया है कि उनके यहां कितने मरीज किस किस हालत में भर्ती हैं। कितने बेड अभी खाली हैं। कितने मरीज अभी बेड के लिए वेटिंग में हैं। साथ ही हर दिन डिस्चार्ज होने वाले मरीजों की सूची हर दिन उपलब्ध कराने को कहा है।

24 घंटे में सात की मौत, 1560 नए केस आए

गुरुवार को सात मरीजों की मौत हो गई जबकि 1560 नए केस सामने आए। इस दौराना 1079 मरीज ठीक होकर घर पहुंच गए। अब जिले में एक्टिव केसों की संख्या बढ़कर 11890 तक पहुंच गयी है। जबकि रिकवरी दर घटकर 82.6 फीसदी तक आ गयी।

कोरोना फाइल फैक्ट

फरीदाबाद में कोरोना: कुल 665068 सैंपल

निगेटिव -590465

पॉजिटिव-71334

रिपोर्ट पेंडिंग-3269

ठीक हुए- 58941

अस्पताल में आइसोलेट-1720

घर में आइसोलेट-10170

कोरोना से मौत-503

खबरें और भी हैं...