निर्दयता:शादी के छह महीने बाद ही बैंक महिला अधिकारी की हत्या, भाई ने दर्ज कराया दहेज हत्या का केस

फरीदाबाद4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पांच माह की गर्भ से थी महिला, पति ने लिंग परीक्षण करवाने का दबाव बनाया। - Dainik Bhaskar
पांच माह की गर्भ से थी महिला, पति ने लिंग परीक्षण करवाने का दबाव बनाया।

छह माह पहले हिंदू रीति रिवाज से शादी करने वाली महिला बैंक अधिकारी की ससुरालियों द्वारा दहेज के लिए हत्या करने का मामला सामने आया है। मृतका पांच माह के गर्भ से थी। मृतका के भाई की शिकायत पर महिला छांयसा थाना पुलिस ने केस दर्ज कर लिया है। आरोप है कि पति मृतका से लिंग परीक्षण का दबाव बना रहा था। मना करने पर उसकी हत्या कर दी गई। थाना प्रभारी कुलदीप का कहना है कि मृतका के ससुर जयकिशोर को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है।

पलवल के गांव जल्हाका निवासी चरण सिंह ने पुलिस को दी शिकायत में कहा है कि उन्होंने अपनी बहन ममता (26) की शादी 06 दिसंबर 2020 को गांव जवा निवासी जय किशोर के बेटे अजय के साथ की थी। अजय आईएमटी में किसी कंपनी में नौकरी करता है। जबकि ममता सेक्टर 15 स्थित एक निजी बैंक में सहायक मैनेजर के पद पर कार्यरत थी। वह पांच माह की गर्भवती भी थी।

स्विफ्ट कार दी थी, अब मांग रहे थे फारचूनर

चरण सिंह का कहना है कि उन्होंने बहन की शादी में स्विफ्ट कार दी थी। शादी के 15-20 दिन के बाद से ही लड़के पक्ष वालों ममता को दहेज के लिए परेशान करने लगे। आरोप है कि अजय और उसका परिवार ममता से फारचूनर कार और लड़की के नाम पुस्तैनी जमीन बेचकर नकद पैसे लाने के लिए दबाव बनाते रहते थे।

लिंग परीक्षण कराने का दबाव बनाने का आरोप

चरण सिंह ने बताया कि ममता एमएससी पास थी। उसके गर्भवती होने के बाद पति अजय, उसकी माता सुनीता, पिता जयकिशोर, बहन सपना व जीजा मनोज ने पेट मे पल रहे बच्चे के लिंग जांच करवाने के लिए दबाव बनाते थे। ममता ऐसा करने से मना करती थी। उनका कहना है कि पति हमेशा ये कहता रहता था कि उसे लड़की नहीं चाहिए। मृतका के भाई का आरोप है कि पति व उसके परिजनों ने शुक्रवार शाम करीब 3.30 बजे ममता की हत्या कर दी। उनका ये भी कहना है कि मृतका का शनिवार को जवां गांव में अंतिम संस्कार भी नहीं करने दिया। एंबुलेंस में दो घंटे तक शव बाहर पड़ा रहा। आखिर में पलवल ज्ल्हाका गांव में ले जाकर उसका अंतिम संस्कार किया गया। पुलिस ने केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

खबरें और भी हैं...