पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कोरोना से निटपने की तैयारी:औद्योगिक क्षेत्रों में चलाया जाएगा रैपिड टेस्ट का विशेष अभियान, ताकि श्रमिकों को सुरक्षित रखा जा सके

फरीदाबादएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
डीसी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए इंसीडेंट कमांडरों और स्वास्थ्य अधिकारियों को निर्देश दिए। - Dainik Bhaskar
डीसी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए इंसीडेंट कमांडरों और स्वास्थ्य अधिकारियों को निर्देश दिए।

फरीदाबाद के इंडस्ट्रियल इलाके में काम करने वाले मजदूरों काे सुरक्षित रखने के लिए कोरोना टेस्ट किया जाएगा। इसके लिए इलाके में कैंप लगाए जांएंगे। इसमें मजदूरों के रैपिड एंटीजन टेस्ट किए जाएंगे, ताकि ज्यादा से ज्यादा मजदूरों की जांच की जा सके। साथ ही सैंपल की रिपोर्ट 24 घंटे में उपलब्ध कराने पर जोर दिया जा रहा है।

डीसी यशपाल यादव ने बताया कि उन्होंने इस संबंध में जिला श्रम आयुक्त को निर्देश दिए हैं कि वह इस कार्य में स्वास्थ्य विभाग का सहयोग करें। उन्होंने ने कहा कि सभी इंसीडेंट कमांडर अपने-अपने क्षेत्रों में यह सुनिश्चित करें कि जितने भी कोविड-19 पॉजिटिव मरीज सामने आ रहे हैं, उनमें प्रत्येक की कांटैक्ट ट्रेसिंग अवश्य हो। उन्होंने कहा कि सभी सैंपल बेहतर ढंग से लिए गए और जिन्हें भी जरूरत हो उन्हें तुरंत मेडिकल सहायता उपलब्ध करवाई जाए।

मेडिकल किट उपलब्ध कराई जाए
यादव ने कहा कि होम आइसोलेटेड मरीजों को ऑक्सीमीटर सहित सभी जरूरी मेडिकल किट उपलब्ध करवाई जाएं। हमें पूरे सिस्टम को लेकर कार्य करना है और इसके लिए एक दैनिक कार्य शैली विकसित करनी है। उन्होंने कहा कि हमें शॉर्टकट अपनाने की वजह लोगों को रूटीन में बेहतर स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध करवानी है।

24 घंटे में उपलब्ध हो रिपोर्ट
डीसी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए इंसीडेंट कमांडरों और स्वास्थ्य अधिकारियों से कहा कि हमारा सबसे पहला टारगेट कोविड-19 पॉजिटिव मरीजों की कांटेक्ट ट्रेसिंग करना है। ज्यादा से ज्यादा लोगों की जांच करवानी है। डीसी ने सीएमओ से कहा कि हमें टेस्टिंग रिपोर्ट को 24 घंटे के अंदर लेकर आना है। प्रत्येक सरकारी व प्राइवेट टेस्टिंग लैब में यह पता करें कि आखिर देरी कहां से हो रही है। उन्होंने कहा कि अगर मशीन व आदमियों की संख्या बढ़ाने की आवश्यकता है तो यह कार्य भी किया जाएगा।