पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

निजी स्कूलों की मनमानी के खिलाफ अभिभावक एकजुट:सीएम से मांग- लाकडाउन में निजी स्कूलों की ओर से मांगी जा रही अप्रैल- मई-जून की फीस माफ की जाए

फरीदाबाद21 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
अभिभावकों ने कहा कि उनकी सीएम से मांग हैं कि उनके हित में वे शीघ्र निर्णय लें। - Dainik Bhaskar
अभिभावकों ने कहा कि उनकी सीएम से मांग हैं कि उनके हित में वे शीघ्र निर्णय लें।

हरियाणा अभिभावक एकता मंच ने रविवार को निजी स्कूलों की मनमानी के खिलाफ अभिभावकों के साथ मीटिंग की। इस दौरान निजी स्कूलों की मनमानी का विरोध करने की शपथ ली गई। मीटिंग में प्रदेशाध्यक्ष एडवोकेट ओपी शर्मा व प्रदेश महासचिव कैलाश शर्मा ने पैरेंट्स को जानकारी दी कि प्रदेश के सभी अभिभावकों की ओर से मंच ने सीएम को पत्र लिख मांग की गई है कि लाकडाउन में निजी स्कूलों की ओर से मांगी जा रही अप्रैल- मई-जून की फीस को माफ की जाए। साथ ही स्कूल खुलने पर सिर्फ बिना बढ़ाई गई ट्यूशन फीस ही ली जाए।

अभिभावकों ने कहा कि उनकी सीएम से मांग हैं कि उनके हित में वे शीघ्र निर्णय लें। क्योंकि स्कूल प्रबंधक बार-बार अभिभावकों को नोटिस भेजकर बढ़ी हुई ट्यूशन फीस, एनुअल चार्ज व अन्य फंड्स में फीस जमा करने के लिए दबाव बना रहे हैं। बच्चों के नाम काटने की धमकी दे रहे हैं। स्कूल बंद हैं। ऑन लाइन क्लास भी ठीक से नहीं चल रहीं। फिर भी वे बिना बढ़ाई गई ट्यूशन फीस मासिक आधार पर देने को तैयार हैं लेकिन स्कूल संचालक स्वीकार नहीं कर रहे।

मंच ने अभिभावकों से कहा कि वे जागरुक व एकजुट होकर सबसे पहले अपनी बात लिखित में स्कूल प्रिंसिपल या प्रबंधक से कहें। उचित कार्रवाई न होने पर या स्कूल द्वारा हरासमेंट करने पर इसकी शिकायत जिला शिक्षा अधिकारी, एफएफआरसी के चेयरमैन कम मंडल कमिश्नर , राष्ट्रीय बाल अधिकार व संरक्षण आयोग नई दिल्ली से करें। जूम मीटिंग में अभिभावक अरविंद गुप्ता, सचिन अग्रवाल, सीएस मिश्रा, कपिल खुराना, मनीष मिगलानी, संजीव गुप्ता, विश्वनाथ, असीम कुमार, निशा, मीनाक्षी खुराना, वीरेंद्र कुमार, सुनील लूथरा, शीतल खुराना, बलविंदर सिंह, स्वप्ना नायर, हेमलता जैन, काला सिंह, सतीश कुमार आदि शामिल थे।

खबरें और भी हैं...