• Hindi News
  • Local
  • Delhi ncr
  • Faridabad
  • Dengue And Malaria Patients Are Increasing Rapidly In The City, The Corporation Administration Is Unable To Provide Petrol And Diesel For Fogging In 40 Wards

फरीदाबाद में बड़ी लापरवाही:शहर में तेजी से बढ़ रहे डेंगू और मलेरिया के मरीज, निगम प्रशासन 40 वार्डों में फॉगिंग कराने के लिए नहीं दे रहा पा रहा पेट्रोल-डीजल

फरीदाबाद2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
फाइल 15 दिनों से अफसरों के टेबल पर घूम रही है। - Dainik Bhaskar
फाइल 15 दिनों से अफसरों के टेबल पर घूम रही है।

औद्योगिकी नगरी में जगह जगह जलभराव के चलते मच्छरों का प्रकोप तेजी से बढ़ रहा है। डेंगू और मलेरिया के केस लगातार बढ़ रहे हैं। बीके अस्पताल की इमरजेंसी में रोजाना 80 से अधिक केस बुखार पीड़ित के आ रहे हैं। डेंगू वार्ड मरीजों से भर गया है लेकिन शहर में फॉगिंग कराने वाला नगर निगम अभी तक नींद में सो रहा है। जानकर हैरानी होगी कि शहर के 40 वार्डो में फॉगिंग के लिए निगम प्रशासन पेट्रोल डीजल तक उपलब्ध नहीं करा पा रहा है।

पेट्रोल डीलज उपलब्ध कराने की फाइल 15 दिनों से निगम अधिकारियों के एक टेबल से दूसरे टेबल पर घूम रही है लेकिन कोई अधिकारी उस पर अनुमति नहीं दे रहा है। मामला मीडिया में आने के बाद निगम कमिश्नर यशपाल यादव ने कहा कि ये गंभीर मामला है। फाइल को जल्द देखकर जो भी सामान की जरूरत होगी उसे उपलब्ध कराया जाएगा। निगम सूत्रों की मानें जो कर्मचारी वार्डों में किसी न किसी से मदद मांगकर एक दो स्थानों पर फॉगिंग कर किसी तरह खानापूर्ति करने में लगे हैं।

डेंगू के मरीजों का आंकड़ा सौ के पार पहुंचा
नगर निगम प्रशासन की लापरवाही के चलते डेंगू और मलेरिया के मरीजों की संख्या में तेजी से इजाफा हो रहा है। सरकारी अस्पताल से लेकर निजी अस्पतालों के ओपीडी बुखार पीड़ितों से भरे पड़े हैं। बीके अस्पताल में रोजाना 80 से 100 मरीज बुखार के पहुंच रहे हैं। आंकड़ों की मानें तो बीके अस्पताल में अब तक डेंगू के मरीजों का आंकड़ा 109 को पार कर गया है। जबकि मलेरिया के सात मरीज अस्पताल में भर्ती किए गए हैं।

फॉगिंग करने की फाइल फोटो
फॉगिंग करने की फाइल फोटो

निगम की है फॉगिंग कराने की जिम्मेदारी
बारिश के बाद जलभराव के चलते पैदा होने वाले मच्छरों के प्रकोप को रोकने की जिम्मेदारी नगर निगम की है। हर साल नगर निगम फॉगिंग मशीन से एनआईटी फरीदाबाद, ओल्ड फरीदाबाद और बल्लभगढ़ के सभी 40 वार्डों में फॉगिंग कराता है। लेकिन इस बार फॉगिंग के लिए निगम कर्मचारी पेट्रोल और डीजल के लिए भटक रहे हैं। निगम प्रशासन पेट्रोल और डीजल तक उपलब्ध नहीं करा पा रहा है।

रोजाना 60 ली. पेट्रोल और 300 लीटर डीजल की है जरूरत
नगर निगम सूत्रों की मानें तो तीनों जोन में छोटी बड़ी दस फॉगिंग मशीन उपलब्ध है। इनमें चार बड़ी व छह छोटी मशीन है। बड़ी मशीन को चलाने के लिए ऑटो अथवा ट्रैक्टर ट्रॉली की जरूरत पड़ती है। जबकि छोटी मशीनों को बाइक से ही काम चलाया जाता है। इन मशीनों को चलाने के लिए रोजाना करीब 60 लीटर पेट्रोल और 300 लीटर डीजल की जरूरत है। लेकिन फाइल 15 दिनों से अफसरों के टेबल पर घूम रही है। अभी तक पेट्रोल डीजल के लिए फाइल अप्रूव नहीं हो पायी।

नगर निगम के डिप्टी मेयर मनमोहन गर्ग
नगर निगम के डिप्टी मेयर मनमोहन गर्ग

पूरा सदन बैठा है शांत

जनता की नुमाइंदगी करने वाला नगर निगम भी इस मामले को लेकर शांत बैठा है। कोई भी पार्षद फॉगिंग कराने के लिए बोलने को तैयार नहीं है। पार्षद से लेकर मेयर तक सब शांत बैठे हैं। डिप्टी मेयर मनमोहन गर्ग का कहना है कि कमिश्नर से बात हो गयी है। एक दो दिन में समस्या का समाधान हो जाएगा।

खबरें और भी हैं...