पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

प्रशासन के दावे खोखले:नहीं मिल पा रही लोगों को ऑक्सीजन; BJP पार्षद बोले, पूरा सिस्टम हो चुका है फेल

फरीदाबादएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सैकड़ों लोग रात से लाइन लगाकर गैस एजेंसियों के सामने खड़े रहते हैं लेकिन उन्हें गैस नहीं मिल पा रही है। - Dainik Bhaskar
सैकड़ों लोग रात से लाइन लगाकर गैस एजेंसियों के सामने खड़े रहते हैं लेकिन उन्हें गैस नहीं मिल पा रही है।

राज्य सरकार और जिला प्रशासन लोगों का जीवन बचाने के लिए ऑक्सीजन उपलब्ध कराने का लाख दावा करे लेकिन हकीकत इसके ठीक विपरीत है। प्रशासन के सारे दावे कागजों तक ही सिमट कर रह गए हैं। लोगों को अपनों की जान बचाने के लिए आक्सीजन के लिए संघर्ष करना पड़ रहा है। सैकड़ों लोग रात से लाइन लगाकर गैस एजेंसियों के सामने खड़े रहते हैं लेकिन उन्हें गैस नहीं मिल पा रही है। अब तो खुद सत्ताधारी पार्टी के पार्षद तक प्रशासन के दावों पर सवाल उठाने लगे हैं।

दावों की हकीकत

केस नंबर एक

नंगला गांव निवासी आजाद ने बताया कि उनको अपने किसी सहयोगी के लिए आक्सीजन की जरूरत थी। वह नंगला गुजरान स्थिति सीमा गैस एजेंसी पर रात से सिलेंडर लेकर लाइन में लगे थे। मंगलवार दोपहर बारह बजे गैस देने से इंकार कर दिया गया।

केस नंबर दो

नंगला निवासी दीपक ने बताया कि उनका रिश्तेदार अस्पताल में भर्ती है। उन्हें आक्सीजन की जरूरत थी। वह सिलेंडर लेकर सीमा गैस एजेंसी रात में ही पहुंचकर लाइन में लग गए। उन्होंने बताया कि यहां सैकड़ों लोग सिलेंडर लेकर मंगलवार दोपहर तक लाइन में लगे रहे आखिर में मना कर दिया गया।

मंत्री ने गैस दिलवाने का दिया था आश्वासन

निगम के बीजेपी पार्षद महेंद्र सरपंच ने बताया कि उन्होंने सीमा गैस एजेंसी और जीएम गैस एजेंसी से लोगों को गैस दिलवाने के लिए सोमवार को बात की थी। उन्होंने मंगलवार से गैस दिलवाने का भरोसा भी दिया था। लेकिन प्रशासन ने की मनमानी के कारण लाेगों को गैस नहीं मिली। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि इस सरकार में पूरा सिस्टम फेल हो चुका है। प्रशासन गैस एजेंसियों पर कब्जा कर रखा है। किसी भी जरूरतमंद को समय पर आक्सीजन नहीं मिल पा रही है।इस बारे में प्रशासन का कोई अधिकारी बोलने को तैयार नहीं है।

खबरें और भी हैं...