पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

निकिता तोमर हत्याकांड:CM और केंद्रीय राज्यमंत्री से मिले परिजन, सरकार के रवैए पर जताई नाराजगी; 30 से आंदोलन की चेतावनी

फरीदाबादएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
केंद्रीय राज्यमंत्री गुर्जर के सेक्टर-28 स्थित आवास पर मिलने पहुंचे निकिता के पिता मूलचंद तोमर और मामा हुकुम सिंह रावत ने बताया कि सरकार ने उनके साथ धोखा किया है। - Dainik Bhaskar
केंद्रीय राज्यमंत्री गुर्जर के सेक्टर-28 स्थित आवास पर मिलने पहुंचे निकिता के पिता मूलचंद तोमर और मामा हुकुम सिंह रावत ने बताया कि सरकार ने उनके साथ धोखा किया है।
  • परिजनों ने कहा- अब सरकार के दरवाजे पर नहीं जाएंगे बल्कि समाज के लोगों के साथ मिलकर न्याय की लड़ाई लड़ेंगे

निकिता तोमर हत्याकांड के बाद न्याय की मांग को लेकर परिजन ने मंगलवार सुबह फरीदबाद में केंद्रीय राज्यमंत्री कृष्णपाल गुर्जर से मुलाकात की। मंत्री के सामने परिजन ने अपनी समस्याएं रखीं। लेकिन सीएम और केंद्रीय राज्यमंत्री की तरफ से उन्हें कोई ठोस आश्वासन नहीं मिला। इसके बाद परिजन ने नाराजगी जताते हुए 30 जनवरी से आमरण अनशन शुरू करने की चेतावनी दी है। परिजन ने सोमवार को दिल्ली में हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्‌टर से भी मुलाकात की थी।

केंद्रीय राज्यमंत्री गुर्जर के सेक्टर-28 स्थित आवास पर मिलने पहुंचे निकिता के पिता मूलचंद तोमर और मामा हुकुम सिंह रावत ने बताया कि सरकार ने उनके साथ धोखा किया है। 3 महीने के बाद भी उन्हें न्याय नहीं मिला है। उन्होंने सोमवार शाम मुख्यमंत्री के सामने चार मांगें रखी थीं।

पहली मांग महापंचायत के दौरान जिन 37 लोगों पर मुकदमे दर्ज किए गए हैं उन्हें वापस लिया जाए। साथ ही निकिता के भाई को योग्यता अनुसार सरकारी नौकरी दी जाए। परिवार की हालत को देखते हुए आर्थिक मदद की जाए और सेक्टर दो स्थित सरकारी कॉलेज का नाम निकिता तोमर के नाम पर रखा जाए।

परिजन ने कहा- अब सरकार के दरवाजे पर नहीं जाएंगे

निकिता के पिता ने आरोप लगाते हुए कहा कि परिवहन मंत्री मूलचंद शर्मा और केंद्रीय राज्यमंत्री कृष्णपाल गुर्जर ने एक साजिश के तहत सेक्टर दो स्थित कॉलेज का नाम पूर्व केंद्रीय मंत्री सुषमा स्वराज के नाम पर रख उन्हें धोखा दिया है। परिजनों का कहना है कि अब वह सरकार के दरवाजे पर नहीं जाएंगे। बल्कि समाज के साथ मिलकर न्याय की लड़ाई लड़ेंगे, क्योंकि इस सरकार ने अभी तक सिर्फ धोखा ही दिया है।

परिजन ने यह भी कहा कि अब वह गांव-गांव जाकर समाज के लोगों से मिलेंगे और 30 जनवरी को कैंडल मार्च निकालकर आमरण अनशन शुरू करेंगे। निकिता के पिता ने न्याय न मिलने पर परिवार के साथ आत्महत्या तक करने की धमकी दी है।

क्या है निकिता तोमर हत्याकांड

26 अक्टूबर 2020 को शाम करीब पौने 4 बजे जब निकिता बल्लभगढ़ में परीक्षा देकर कॉलेज के बाहर निकली थी तो सोहना निवासी तौसीफ और रेहान ने उसे कार में अगवा करने की कोशिश की। विरोध करने पर तौसीफ ने निकिता को गोली मार दी थी। बाद में अस्पताल में इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई थी। इस समय निकिता के हत्यारोपी जेल में हैं।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- इस समय ग्रह स्थितियां पूर्णतः अनुकूल है। सम्मानजनक स्थितियां बनेंगी। विद्यार्थियों को कैरियर संबंधी किसी समस्या का समाधान मिलने से उत्साह में वृद्धि होगी। आप अपनी किसी कमजोरी पर भी विजय हासिल...

और पढ़ें