पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

लापरवाही:राज्य मानवाधिकार आयोग के आदेश के बाद भी नगर निगम बैंक से नहीं वसूल कर पाया टैक्स, परिसर खाली कर दूसरी जगह हो गया शिफ्ट

फरीदाबाद23 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
अधिकारी बोले अब नोटिस जारी कर वसूली की जाएगी। - Dainik Bhaskar
अधिकारी बोले अब नोटिस जारी कर वसूली की जाएगी।

नगर निगम परिसर में स्थित बैंक शाखा से बकाया प्रॉपर्टी टैक्स वसूलने के राज्य मानवाधिकार आयोग के आदेश के बाद भी निगम प्रशासन टैक्स वसूल नहीं कर पाया। बैंक बगैर टैक्स जमा कराए ही परिसर खाली कर दूसरी जगह शिफ्ट हो गया। अब अधिकारियों का कहना है कि बैंक प्रबंधन को नोटिस जारी कर टैक्स जमा करवाया जाएगा। बैंक पर करीब बीस लाख का बकाया है। जबकि ज्वॉइंट कमिश्नर एनआईटी ने इस पर करीब एक करोड़ रुपए लीज का बकाया होने का दावा किया था।

बता दें कि नगर निगम मुख्यालय के अंदर एक बैंक की शाखा थी। यह शाखा 1993 से चल रही थी। लेकिन इसने प्रॉपर्टी टैक्स जमा नहीं कराया गया। ज्वॉइंट कमिश्नर एनआईटी प्रशांत अटकान ने 26 नवंबर 2020 को बैंक शाखा को सील कर दिया था। इसके बाद बैंक अधिकारियों ने ज्वॉइंट कमिश्नर को पत्र लिखकर शाखा खोलने का अनुरोध किया तो उन्होंने मना कर दिया। इसके बाद बैंककर्मी तत्कालीन कमिश्नर यश गर्ग से मिले, उन्होंने सील खोलने के आदेश कर दिए। ज्वॉइंट कमिश्नर का कहना है कि बैंक पर करीब एक करोड़ लीज के तौर पर बकाया है। इसी आधार पर 26 नवंबर 2020 को बैंक शाखा को सील कर दिया गया था। कुछ महीने पहले बैंक का एक प्रतिनिधिमंडल नगर निगम के तत्कालीन कमिश्नर यशपाल यादव से मिला और पूरी जानकारी दी। यादव ने एडिशनल कमिश्नर, जेडटीओ हेडक्वार्टर, फाइनेंस कंट्रोलर की एक टीम गठित की और जल्द से जल्द बकाया बताने के लिए कहा। कमेटी ने बैंक पर 1993 से अब तक का करीब 14 लाख रेंट और 6 लाख बिजली का बकाया बनाकर करीब 20 लाख की रिकवरी होना बताया। इसके बाद भी निगम अधिकारी बीस लाख का बकाया वसूल नहीं कर पाए। बैंक निगम परिसर खाली कर अब नीलम बाटा रोड पर शिफ्ट हो गया। जेडटीओ सुमन का कहना है कि बैंक को नोटिस भेजकर बकाया वसूला जाएगा।

खबरें और भी हैं...