पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

महिलाओं ने किया नगर निगम का घेराव:एक साल से चली आ रही सीवर ओवरफ्लाे की समस्या, सैकड़ों महिलाएं निगम पहुंचकर अफसरों को घेरा, बुलानी पड़ी पुलिस

फरीदाबाद9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
नगर निगम के ऑफिस के अंदर मौजूद लोग। - Dainik Bhaskar
नगर निगम के ऑफिस के अंदर मौजूद लोग।

सीवर ओवरफ्लो की समस्या से परेशान सैकड़ों महिलाएं नगर निगम मुख्यालय पहुंची और निगम पार्षद ललिता यादव व स्थानीय विधायक नीरज शर्मा के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। निगम कमिश्नर यशपाल यादव और चीफ इंजीनियर रामजीलाल के न मिलने पर महिलाएं एडिश्नल कमिश्नर वैशाली शर्मा के कार्यालय पहुंची और जबरन गेट खोलकर अंदर घुस गई। आखिर में निगम प्रशासन को पुलिस बुलानी पड़ी। मौके पर पहुंची पुलिस ने बड़ी मुश्किल से महिलाओं को बाहर निकाला।

वार्ड नंबर पांच जीवन नगर पार्ट दो निवासी ऋचा शर्मा, मन्नू गौतम, अमित कुमार, कमलेश, सरस्वती, अनिल कुमार सिंह, मोहनलाल आदि ने बताया कि उनकी काॅलोनी में एक हजार से अधिक मकान बने हैं। यहां की आबादी करीब पांच हजार है। ये कॉलोनी 1998 में बसी थी। सरकार ने इसे वर्ष 2003 में नियमित किया था। नगर निगम ने यहां सीवरलाइन एक साल पहले डाल दी लेकिन आज तक उसे कनेक्ट नहीं किया गया। इससे बारिश के दिनों में कॉलोनी का बुरा हाल है। सीवर का पानी अब घरों में घुसने लगा है। इसको लेकर कई बार नगर निगम में शिकायत कर चुके है। लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई।

विधायक व निगम पार्षद पर लगाया अनदेखी का आरोप
स्थानीय लोगों ने वार्ड पांच की निगम पार्षद ललिता यादव और स्थानीय विधायक नीरज शर्मा पर समस्या की अनदेखी करने का आरोप लगाते हुए निगम मुख्यालय पहुंचकर जमकर विरोध प्रदर्शन किया। लोगों ने कहा कि इस समस्या को लेकर लोग निगम पार्षद और विधायक से कई बार मिल चुके हैं लेकिन दोनों एक दूसरे की जिम्मेदारी बताकर पल्ला झाड़ लेते हैं। ऐसे में यहां के लेाग कहां जाएं।

नगर निगम मुख्यालय में कमिशनर से मिलने पहुंची जीवननगर की महिलााएं
नगर निगम मुख्यालय में कमिशनर से मिलने पहुंची जीवननगर की महिलााएं

न कमिश्नर मिले और न ही चीफ इंजीनियर

सैकड़ों महिलाएं निगम मुख्यालय पहुंचकर निगम कमिश्नर यशपाल यादव से मिलने का प्रयास किया लेकिन वह आउट ऑफ स्टेशन थे। चीफ इंजीनियर के दफ्तर पहुंची तो वह भी नहीं मिले। इसके बाद नाराज महिलाएं एडिश्नल कमिश्नर वैशाली शर्मा के कार्यालय पहुंची और जबरन गेट खोलकर अंदर घुस कर खूब खरी खोटी सुनाई। हैरानी की बात ये है कि पुलिस के आने पर लोगों को बगैर किसी समाधान के वापस लौटना पड़ा।

खबरें और भी हैं...