पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Delhi ncr
  • Faridabad
  • Greater Faridabad Call Centers Raided Update; Nine Arrested By Cm Flying Team CM Flying Team Raided Greater Faridabad And Caught Two Call Centers, Nine Arrested

फर्जीवाड़ा:सीएम फ्लाइंग टीम ने ग्रेटर फरीदाबाद में छापेमारी कर दो फर्जी कॉल सेंटर पकड़े, नौ गिरफ्तार

फरीदाबाद6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
एसआरएसटावर के पांचवी व सातवीं मंजिल पर चले रहे थे फर्जी कॉल सेंटर। - Dainik Bhaskar
एसआरएसटावर के पांचवी व सातवीं मंजिल पर चले रहे थे फर्जी कॉल सेंटर।

फरीदाबाद और गुड़गांव की सीएम फ्लाइंग टीम ने संयुक्त रूप से ग्रेटर फरीदाबाद स्थित एसआरएस टॉवर में छापेमारी कर दो फर्जी कॉल सेंटर पकड़े। फर्जी कॉल सेंटर को संचालित करने वाले दो संचालक समेत नौ लोगों को गिरफ्तार किया गया है। सीएम फ्लाइंग की टीम उनसे पूछताछ कर रही है। पुलिस के मुताबिक फर्जी कॉल सेंटर के जरिए आरोपी विदेशी नागरिकों से ठगी करते थे। पुलिस पूरे मामले की जांच कर रही है। साइबर थाना और सेक्टर 31 थाना पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है।

सीएम फ्लाइंग को सूचना मिली थी कि एसआरएस टॉवर के पांचवी मंजिल पर ग्लोवल टैकलाइफ सर्विसेज के नाम से फर्जी कॉल सेंटर चलता है। सर्विस देने के नाम पर विदेशियों से ठगी की जाती है। इसमें 22 कर्मचारी काम करते हैं। टीम ने छापेमारी कर फर्जी काल सेंटर मालिक गुरेन्दर सिंह संधु उर्फ गुरी निवासी एसजीएम नगर को गिरफतार कर लिया। उनकी निशानदेही पर आईपी एक्सटेंशन नई दिल्ली निवासी ईशान चौधरी, गुड़ृगांव सेक्टर 57 निवासी मैनेजर अंकुश व ग्रीनफील्ड निवासी विशाल को गिरफ्तार कर लिया। ये लोग अमेरिकी नागरिकों से कम्प्यूटर सिस्टम पर पोपअप के माध्यम से मैसेज भेजते है और कम्प्यूटर सिस्टम पर उपलब्ध साफ्टवेयर की वैधता समाप्त हाेने व अपडेट करने के बदले ठगी करते हैं। सेंटर मालिक गुरेंद्र सिंह से 1.13 लाख बरामद हुए हैं।

टीम ने सातवीं मंजिल पर छापेमारी कर दूसरे फर्जी कॉल सेंटर से पांच लाेगों को गिरफ्तार किया। पकड़े गए आरोपियों की पहचान राजा गार्डन ओल्ड फरीदाबाद निवासी मोहित पुत्र जोगेन्द्र सिंह, उसके पार्टनर न्यू भूड़ कॉलोनी निवासी देव वशिष्ठ पुत्र नन्दराम, ऊंचा गांव बल्लभगढ़ निवासी प्रकाश पुत्र विनोद कुमार, राजा गार्डन निवासी आसिफ पुत्र मोहम्मद तारिक और महिला टीम लीडर दीमापुर नागालैंड निवासी लीमा के रूप में हुई। ये लोग आईवीआर के माध्यम से यूएस के लोगों को वाइस मेल भेजकर व अपने पास काल मंगवा कर सोशल सिक्योरिटी नम्बर रिन्यू करने के नाम पर धोखाधड़ी करके उनसे गिफ्ट़ कार्ड के माध्यम से 100 से 500 डालर की धन राशि वसूलते थे।

खबरें और भी हैं...