पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर:खोरी कॉलोनी में बुधवार को बुल्डोजर चलाने की तैयारी, नगर निगम व पुलिस अधिकारियों ने की तोड़फोड़ की निशानदेही

फरीदाबाद3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कार्रवाई शुरू करने से पहले नगर निगम और पुलिस  अफसरों ने कॉलोनी का भ्रमण किया। - Dainik Bhaskar
कार्रवाई शुरू करने से पहले नगर निगम और पुलिस अफसरों ने कॉलोनी का भ्रमण किया।

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के एक माह बाद नगर निगम व पुलिस प्रशासन ने बुधवार को खोरी कॉलोनी में बुल्डोजर चलाने की तैयारी कर ली है। सुबह छह बजे से ही कार्रवाई शुरू हो सकती है।

इसके लिए नगर निगम की 12 टीमें लगाई गई है। इनमें नौ टीम जेसीबी की हैं। इसके अलावा सात टीम पुलिस प्रशासन की है। आगजनी से निपटने के लिए पांच फायर बिग्रेड की गाड़ियां, दस एंबुलेंस को भी अलर्ट पर रखा गया है। तोड़फोड़ की कार्रवाई शुरू करने से पहले मंगलवार को नगर निगम व पुलिस के अधिकारियों ने खोरी कॉलाेनी पहुंचकर तोड़फोड़ की निशानदेही देखी और राजहंस होटल में बैठक कर योजना को शांतिपूर्वक तरीके से अंजाम देने पर चर्चा की। खास बात ये है कि तोड़फोड़ की कार्रवाई के दौरान मीडिया को कॉलोनी के अंदर जाने की इजाजत नहीं होगी। उनके लिए एक स्थान निर्धारित किया गया है। जहां से बैठकर वह तोड़फोड़ की कार्रवाई को देख सकेंगे।

सुबह छह बजे पहुंचकर देखी निशानदेही

मंगलवार की सुबह करीब छह बजे नगर निगम कमिश्नर डॉ गरिमा मित्तल और डीसीपी अंशु सिंगला पुलिस फोर्स के साथ खोरी बस्ती के अंदर पहुंची और निशानदेही का काम देखा। निगम व पुलिस अधिकारियों ने पूरी कॉलाेनी के प्रवेश व निकासी रास्ते को देखकर किसी के बाहर से आने पर रोक लगाने के भी आदेश दिए। निगम सूत्रों ने बताया कि पूरी कॉलोनी को सात जोन में बांटकर तोड़फोड़ की कार्रवाई काे अंजाम दिया जाएगा। कॉलोनी में एक साथ कार्रवाई नहीं होगी।

तोड़फोड़ की कार्रवाई के लिए तैयार जेसीबी की टीम
तोड़फोड़ की कार्रवाई के लिए तैयार जेसीबी की टीम

शाम चार बजे किया मॉकड्रिल

नगर निगम में तैनात सभी 9 जेसीबी को सूरजकुंड स्थित हेलीपेड पर इकट्ठा कर मॉकड्रिल किया गया ताकि कार्रवाई के दौरान किसी प्रकार की परेशानी न हो। जेसीबी चालकों को रात में हेलीपैड पर ही रुकने को कहा गया ताकि बुधवार तड़के तोड़फोड़ की कार्रवाई शुरू की जा सके। तोड़फोड़ की कार्रवाई को अंजाम देने के लिए निगम की जो 12 टीम बनाई गई है, उनमें नौ जेसीबी की टीम हैं। इन टीमों के साथ जेई, एसडीओ और एक्सईएन की भी ड्युूटी लगाई गई है।

पूरी कार्रवाई को रखा जा रहा गोपनीय

सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर खोरी कॉलाेनी को हर हाल में तोड़ा जाना है। बावजूद निगम व प्रशासनिक अधिकारी तोड़फोड़ को लेकर कुछ भी बोलने को तैयार नहीं हैं। पूरी कार्रवाई को गोपनीय रखा है। कुछ चुनिंदा निगम अधिकारियों को ही बैठकों में बुलाकर निर्देश दिए जा रहे थे। यही नहीं तोड़फोड़ की कार्रवाई के दौरान खोरी कॉलोनी में मीडिया को भी अंदर जाने की इजाजत नहीं है। ताकि जरूरत पड़ने पर पुलिस प्रशासन प्रभावित लोगों पर बल प्रयोग भी कर सके। इसके अलावा पुलिस ने मंगलवार शाम से ही ड्रोन के द्वारा शरारती तत्वों पर नजर रखना शुरू कर दिया था। पूरे इलाके में ड्रोन उड़ते नजर आ रहे थे।

तालमेल के साथ काम करने के निर्देश

निगम कमिश्नर डॉ. गरिमा मित्तल एवं डीसीपी एनआईटी डॉ. अंशुल सिंगला ने निशानदेही देखने के बाद होटल राजहंस में बैठक की। निगम कमिश्नर ने कहा कि सभी अधिकारी पूर्ण तालमेल के साथ काम करें। चूंकि सुप्रीम कोर्ट के आदेश की पालना सुनिश्चित करना है। ऐसे में किसी प्रकार की लापरवाही किसी भी विभाग से नहीं होनी चाहिए। बैठक में डीसीपी सेंट्रल मुकेश मल्होत्रा, एसडीएम बड़खल पंकज सेतिया, एसडीएम फरीदाबाद परमजीत सिंह चहल, नगर निगम के संयुक्त आयुक्त जितेंद्र कुमार, अलका चौधरी सहित सभी पुलिस व प्रशासनिक अधिकारी मौजूद थे।

कॉलोनी में सर्वे रिपोर्ट इस प्रकार है-

रिहायशी मकान- 6663

कमर्शल दुकानें- 80

टावर - 2

स्कूल- 5

इंडस्ट्री- 2

मंदिर- 23

मस्जिद- 12

चर्च - 1

172 एकड़ सरकारी जमीन पर कब्जे की ये है तस्वीर

जमीन एरिया एकड़़ में

आवासीय 57.98

कमर्शियल 0.64

िमक्स यूज 5.63

एजूकेशनल 0.38

इंडस्ट्री 0.02

वैकेंट प्लाट 13.13

पब्लिक यूिटलिटी 1.24

गौशाला 1.00

वैकेंट लैंड 18.64

फारेस्ट लैंड 38.39

वाटर बाॅडी 2.99

रोड 32.06

कुल योग 172.10 एकड़