पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कोरोना काल में कार्डियोलॉजिस्ट की सलाह:मधुमेह और ब्लड प्रेशर को नियंत्रण में रख कोरोना से बच सकते हैं हृदय रोगी

फरीदाबाद2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
डॉ. गुप्ता ने कहा कि हृदय रोगी तनावमुक्त रहने के लिए योग, मेडिटेशन को बढ़ा दें। - Dainik Bhaskar
डॉ. गुप्ता ने कहा कि हृदय रोगी तनावमुक्त रहने के लिए योग, मेडिटेशन को बढ़ा दें।

इस समय जिले में रोज 1500 से अधिक कोरोना के मरीज आ रहे हैं। ऐसे में अन्य बीमारियों के साथ हृदय रोग की समस्या से जूझ रहे लोगों की तकलीफ काफी बढ़ गई है। वह जल्द कोरोना संक्रमण की चपेट में आ रहे हैं। एशियन अस्पताल के कार्डियोलॉजिस्ट डॉक्टर ऋषि गुप्ता ने जागरुकता सेमिनार में ऐसे मरीजों को सावधानी बरतने की सलाह दी है। उन्होंने लोगों को जागरूक करते हुए कहा कि कोरोना का संक्रमण तेजी से बढ़ रहा हैं। ऐसे में हृदय रोगी बाहर न निकलें। यदि बहुत जरूरी हो तो पूरी सावधानी बरतते हुए निकले। मधुमेह व ब्लड प्रेशर को नियंत्रण में रखें।

कोरोना की दूसरी लहर बेहद खतरनाक है

उन्होंने कहा कोरोना की दूसरी लहर बेहद खतरनाक है। यह पहली लहर के मुकाबले तेजी से लोगों को अपनी चपेट में ले रहा है। खासकर युवा वर्ग इसकी चपेट में अधिक आ रहा है। नया स्ट्रेन फेफड़ों के साथ हृदय को भी नुकसान पहुंचा रहा है। ऐसे में लोगों को जागरूक होने की जरूरत है। खासकर हृदय रोगियों को विशेष सावधानी बरतने की जरूरत है। उन्होंने कहा फेफड़े से हार्ट जुड़ा रहता है। ऐसे में कोरोना होता है तो गंभीर होने की संभावना अधिक रहता है। क्योंकि हार्ट के साथ-साथ फेफड़े कमजोर हो जाते हैं। इससे मरीज को संभालना मुश्किल हो जाता है।

उन्होंने कहा कोरोना संक्रमण से हृदय रोगी को डरने की नहीं बल्कि सचेत रहने की जरूरत है। नियमित दवाओं का सेवन करने के साथ-साथ रोगी को चाहिए कि वह योग व व्यायाम को भी दिनचर्या में शामिल करे। मरीज कोरोना का अधिक भय न रखें। नियमित दवा लें।

तनावमुक्त रहने के लिए योग, मेडिटेशन करें

डॉ. गुप्ता ने कहा कि हृदय रोगी तनावमुक्त रहने के लिए योग, मेडिटेशन को बढ़ा दें। लॉकडाउन के कारण इस समय घर में बैठे लोगों की कैलोरी बढ़ रही होगी। ऐसे में उन्हें अपनी डाइट को बदलना होगा। घर के अंदर ही व्यायाम करें जिससे शुगर और बीपी कंट्रोल में रहे। उन्होंने कहा कोरोना के कारण हार्ट अटैक पड़ने के चांस कम हैं। ऐसे मामले अभी देखने को नहीं मिले हैं। खासकर हार्ट पेशेंट को तो बिल्कुल भी नही। उनको अपना ज्यादा ख्याल रखना चाहिए। दवा हमेशा समय पर लेनी चाहिए। इसके साथ किसी बात का तनाव न लें। कोरोना वायरस संबंधी गाइड लाइन का पालन कर हृदय रोगी खुद को सुरक्षित रख सकते हैं।