• Hindi News
  • Local
  • Delhi ncr
  • Faridabad
  • Mafia Is Causing Crores Of Damage To The Government By Depositing Road Tax On Fake Receipt, Vehicles Are Being Confiscated As Soon As They Go To UP Rajasthan

फर्जीवाड़े का खेल:फर्जी रसीद पर रोड टैक्स जमा कर सरकार को करोड़ाें का नुकसान पहुंचा रहे माफिया, यूपी-राजस्थान जाते ही गाड़ियां की जा रही जब्त

फरीदाबाद2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
फरीदाबाद से पलवल की सीमा तक नेशनल हाईवे और बाईपास रोड पर फर्जी रसीद काटकर अपनी जेब भरने में लगे हैं। - Dainik Bhaskar
फरीदाबाद से पलवल की सीमा तक नेशनल हाईवे और बाईपास रोड पर फर्जी रसीद काटकर अपनी जेब भरने में लगे हैं।

परिवहन विभाग की लचर व्यवस्था से टैक्स माफिया वाहन चालकों से रोड टैक्स जमा करने के नाम पर राज्य सरकार को करोड़ों का राजस्व नुकसान पहुंचा रहे हैं। रोजाना सैकड़ों वाहन चालक इन माफियाओं के चंगुल में फंसकर कानूनी शिकंजे में फंस रहे हैं लेकिन टैक्स माफियाओं के खिलाफ परिवहन विभाग कोई कार्रवाई नहीं कर पा रहा है।

फरीदाबाद से पलवल की सीमा तक नेशनल हाईवे और बाईपास रोड पर छोटी छोटी दुकानें खोलकर बैठे ये माफिया फर्जी रसीद काटकर सरकार का रोड टैक्स से अपनी जेब भरने में लगे हैं। ऐसा ही एक मामला सामने आया है। दिल्ली के संगम विहार निवासी एक कैब चालक पृथला में एक दुकान से यूपी का रोड टैक्स जमा कराया। टैक्स माफिया ने उसे फर्जी रसीद देकर चलता कर दिया। यूपी में जाते ही आरटीओ चेकिंग में वह पकड़ा गया। उसकी गाड़ी भी जब्त कर ली गयी और उसके खिलाफ धोखाधड़ी का केस भी दर्ज कर लिया गया। हैरानी की बात ये है कि पीड़ित टैक्स माफिया के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने के लिए 15 दिनों से चक्कर काट रहा है लेकिन पुलिस एफआईआर दर्ज करने को तैयार नहीं है।

टैक्स माफिया द्वारा कैब चालक को दी गई यूपी सरकार का फर्जी रसीद
टैक्स माफिया द्वारा कैब चालक को दी गई यूपी सरकार का फर्जी रसीद

ये है टैक्स चोरी का पूरा मामला

संंगम विहार दिल्ली निवासी जितेंद्र कुमार कैब चालक है। 15 जुलाई को वह सवारियों को लेकर दिल्ली से आगरा गया था। आगरा जाने से पहले उसने पृथला स्थित एक रोड टैक्स जमा कराने वाली दुकान से 120 रुपए का रोड टैक्स जमा कराया। उसके माेबाइल पर इसका टैक्स जमा होने का मैसेज भी आ गया। उसने कैब चालक को जो रसीद दी उसमें यूपी सरकार का परिवहन विभाग लिखा हुआ था। वापस आते समय मथुरा में जब आरटीओ ने कैब की जांच की तो पता चला कि वह रसीद फर्जी है। आरटीओ ने जितेंद्र कुमार कैब जब्त कर उनके खिलाफ थाने में धोखाधड़ी का केस दर्ज करा दिया। टैक्स माफिया की चोरी की ये एक बानगी है। ऐसे न जाने कितने वाहन चालकों से पैसे लेकर सरकार को नुकसान पहुंचाया जा रहा है। ये पूरा खेल परिवहन और पुलिस विभाग की लापरवाही से चल रहा है।

थाने का काट रहा चक्कर, नहीं दर्ज हो रही एफआईआर

पीड़ित कैब चालक 15 दिन से उक्त टैक्स माफिया के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने के लिए पलवल के गदपुरी थाने के चक्कर काट रहा है लेकिन पुलिस उसकी एफआईआर तक दर्ज नहीं की। पीड़ित का आरोप है कि टैक्स माफिया और गदपुरी थाने के पुलिसकर्मी आपस में मिले हैं। पुलिस की मौजूदगी में टैक्स माफिया उसके साथ गाली गलौज और देख लेने की धमकी देता है लेकिन पुलिस उसके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं करती।

परिवहन मंत्री मूलचंद शर्मा
परिवहन मंत्री मूलचंद शर्मा

परिवहन मंत्री ने दिया आदेश, दर्ज करो एफआईआर

फर्जीवाड़े का ये मामला जब परिवहन मंत्री मूलचंद शर्मा के सामने आया तो उन्होंने गदपुरी थाना प्रभारी शिव अरचन को फोन कर तुरंत एफआईआर दर्ज करने और उसकी जानकारी उन्हें देने का आदेश दिया है। मंत्री ने कहा कि सरकार का टैक्स चुराने वालों को बख्शा नहीं जाएगा। ऐसे जितने माफिया इस धंधे में शामिल हैं उनके खिलाफ सख्त कानूनी कार्रवाई की जाएगी। मंत्री ने बताया कि इस तरह के फर्जीवाड़े के दो मामले में रेवाड़ी के बावल थाना और पलवल के होडल थाना में वर्ष 2020 में एफआईआर दर्ज कराई गयी है। थाना प्रभारी गदपुरी शिव अरचन ने बताया कि मंत्री जी के आदेश पर आरोपी के खिलाफ एफआईआर दर्ज की जा रही है।

इन राज्यों के लिए जमा करते हैं टैक्स

बता दें कि फरीदाबाद से पलवल तक नेशनल हाईवे के किनारे और बाईपास रोड के किनारे करीब 150 से 200 लोग राजस्थान, हरियाणा, यूपी राज्य का ऑनलाइन रोड टैक्स जमा करने के लिए छोटी छोटी दुकानें खोल रखी हैं। जानकारों की मानें तो रोजाना दिल्ली-फरीदाबाद से 50 हजार कमर्शियल वाहन चालक राजस्थान और यूपी आते जाते हैं। ऐसे में ये माफिया रोड टैक्स की फर्जी रसीद देकर हरियाणा सरकार को राजस्व का नुकसान पहुंचा रहे हैं और वाहन चालकों को भी कानूनी पिजड़े में फंसा रहे है। उधर फरीदाबाद के एआरटीए जितेंद्र गहलावत ने कहा कि इन लोगों की जांच की जाएगी। गड़बड़ी मिलने पर सख्त कार्रवाई की जाएगी।