पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

शहर की समाजसेवी संस्थाओं की मांग:सनफ्लैग को सरकारी अस्पताल बनाने के लिए पीएम-सीएम के नाम सौंपा ज्ञापन, आम आदमी को इलाज में सहूलियत होगी

फरीदाबाद2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

सनफ्लैग अस्पताल को सरकारी अस्पताल बनाने के लिए मंगलवार को शहर की समाजसेवी संस्थाओं ने पीएम नरेंद्र मोदी और हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर के नाम एडीसी सतवीर मान को ज्ञापन सौंपा। संस्थाओं के लोगों ने ज्ञापन में कहा है कि सनफ्लैग को सरकारी अस्पताल क्यों बनाना चाहिए। समाजसेवी जसवंत पवार ने कहा कि आज फरीदाबाद की आबादी 28 से 30 लाख के करीब पहुंचने जा रही है।

राजस्व की बात करें तो फरीदाबाद जिला दूसरे नंबर पर हरियाणा सरकार को राजस्व देता है। लेकिन यहां स्वास्थ्य क्षेत्र में सरकारी सुविधाएं नाम मात्र की हैं। शहर में आबादी बढ़ने के साथ-साथ स्वास्थ्य सुविधाएं नाम मात्र की बढ़ी हैं। जबकि प्राइवेट अस्पताल फरीदाबाद के हर कोने में फैल चुके हैं। इनमें आम आदमी अपना इलाज नहीं करा पता। क्योंकि प्राइवेट अस्पतालों की जो फीस है वह मध्यम और गरीब लोगों की पहुंच से बहुत दूर है।

समाजसेवी अभिषेक गोस्वामी ने बताया कि सनफ्लैग हॉस्पिटल की बिल्डिंग खाली पड़ी है। जो हरियाणा सरकार के अधीन है। लोगों की पहुंच के हिसाब से बिल्कुल उपयुक्त है। सुगमता की दृष्टि से यह अस्पताल फरीदाबाद मध्य और ग्रेटर फरीदाबाद के लोगों के लिए भी बहुत लाभकारी है। इसलिए हरियाणा सरकार इसे सरकारी अस्पताल बनाए। यदि वह ऐसा करती है तो फरीदाबाद के मध्यम और गरीब वर्ग को बहुत राहत मिलेगी।

यहां के अधिकांश निजी अस्पताल सरकार से सस्ती दर पर ली गई जमीन पर बने हैं। मगर उन्होंने कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर में दोनों हाथों से मरीजों को लूटा है। शासन-प्रशासन कार्रवाई के बजाय मौन होकर देखता रहा। इसलिए शहरवासियों की मांग है कि जनहित में सनफ्लैग अस्पताल को प्राइवेट या निजी हाथों में न देकर उसे सरकारी अस्पताल बनाया जाए।

खबरें और भी हैं...