पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

एसीएस राजीव अरोड़ा ने डीसी व सीएमओ को दिए निर्देश:तीसरी लहर की संभावना, इसलिए सभी निजी व सरकारी अस्पतालों का ऑक्सीजन व स्वास्थ्य सेवाओं का ऑडिट कर जल्द रिपोर्ट दें

फरीदाबाद18 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • कोरोना की तीसरी संभावित लहर के दृष्टिगत स्वास्थ्य विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव अरोड़ा ने फरीदाबाद व पलवल जिला की स्वास्थ्य सेवाओं की समीक्षा की।
  • कहा प्रत्येक अस्पताल अपनी स्वास्थ्य सेवाओं में वृद्धि करे, दूसरी लहर से सबक लेने की जरूरत। 30 सितंबर तक जिले के शत-प्रतिशत लोगों को वैक्सीन लगना अनिवार्य।

स्वास्थ्य विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव (एसीएस) राजीव अरोड़ा ने कहाकि विशेषज्ञ कोरोना की तीसरी लहर की संभावना जता रहे हैं। ऐसे में हमें हर स्थिति से निपटने के लिए तैयार रहना होगा। उन्होंने जिले के सभी सरकारी व निजी अस्पतालों में स्वास्थ्य सुविधाओं की समीक्षा करते हुए डीसी जितेंद्र यादव व सीएमओ डाॅ. विनय गुप्ता को निर्देश दिए कि सभी अस्पतालों में ऑक्सीजन की व्यवस्था सहित सभी स्वास्थ्य सुविधाओं का आडिट कर उन्हें जल्द रिपोर्ट प्रस्तुत करें।

अधिक से अधिक आक्सीजन उत्पादन पर हर अस्पताल ध्यान दे

उन्होंने मीटिंग में सभी निजी अस्पतालों की समीक्षा करते हुए कहाकि प्रत्येक अस्पताल ‌अधिक से अधिक आक्सीजन उत्पादन करने वाले पीएसए प्लांट लगाए। जिन अस्पतालों में कम क्षमता के प्लांट हैं उन्हें अपग्रेड करें। इसके साथ ही सभी प्लाटों का ट्रायल रन कर यह देखें कि प्रत्येक बेड पर आक्सीजन की पर्याप्त सप्लाई हो रही है अथवा नहीं। उन्होंने निजी अस्पतालों से आईसीयू बेड, वेंटिलेटर बढ़ाने व पीकू व नीकू वार्डों में ‌बेड की संख्या बढ़ाने के निर्देश भी दिए। उन्होंने दोनों जिलों में आक्सीजन स्टोरेज व्यवस्था व सिलेंडरों के स्टाक की जानकारी भी ली। इसके साथ ही उन्होंने दोनों जिले में वेक्सीनेशन कार्यक्रम की समीक्षा करते हुए निर्देश दिए कि 30 सितंबर तक शत-प्रतिशत लोगों को वैक्सीन अवश्य लग जानी चाहिए। उन्होंने कहा दूसरी डोज निर्धारित नियमों के अनुसार ही लगानी है।

ऐसे हॉट स्पॉट चिह्नित करें जहां पिछली बार ज्यादा केस आए थे

उन्होंने फरीदाबाद के सीएमओ को निर्देश देते हुए कहा कि ऐसे स्लम क्षेत्रों के हॉट स्पॉट चिह्नित करें जहां पिछले दिनों काफी संख्या में कोविड-19 के मामले आए हैं। उन्होंने कहा हमें बेहद सतर्कता के साथ कार्य करना है और कि‌सी भी स्थिति से निपटने के लिए तैयार रहना है। उन्होंने इसके बाद फरीदाबाद व पलवल जिले के सामान्य अस्पताल, पीएचसी, सीएचसी व अन्य क्षेत्रों में सामान्य टीकाकरण व अन्य स्वास्थ्य सेवाओं की समीक्षा की। मीटिंग में मंडलायुक्त संजय जून, पुलिस कमिश्नर विकास अरोड़ा, एनआरएचएम के निदेशक प्रभजोत सिंह, डीसी फरीदाबाद जितेंद्र कुमार, डीसी पलवल कृष्ण कुमार, स्मार्ट सिटी की सीईओ डाॅ. गरिमा मित्तल, पुलिस उपायुक्त निशु सिंगला, एडीसी सतबीर सिंह मान, सीएमओ डाॅ. विनय गुप्ता, डिप्टी सीएमओ डाॅ. राजेश श्योकंद, डाॅ. रामभगत सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी व निजी अस्पतालों के संचालक मौजूद थे।