पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कोरोना वैक्सीनेशन:वैक्सीन न होने से टीकाकरण अभियान प्रभावित, कभी 18+ वालों को नहीं लगता टीका तो कभी 45+ को

फरीदाबाद2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • स्वास्थ्य केंद्रों से लोगों को लौटना पड़ रहा, शनिवार को 47 केंद्रों पर 45 प्लस वालों को ही लग पाए टीके

वैक्सीन न होने से औद्योगिक नगरी में कोरोना टीकाकरण अभियान प्रभावित हो रहा है। ऐसे में टीकाकरण कराने वालों को भी परेशान होना पड़ रहा है। अव्यवस्था का आलम यह है कि कभी 18 प्लस वालों को टीका नहीं लग पा रहा तो कभी 45 प्लस वालों को। हजारों ऐसे लोग हैं जो दूसरा टीका लगवाने के लिए भटक रहे हैं।

हर दिन स्वास्थ्य केंद्रों से लोग बगैर टीका लगवाए लौटने को मजबूर हैं। शनिवार को भी यही हाल रहा। शनिवार को जिलेभर में 47 स्वास्थ्य केंद्रों पर टीकाकरण अभियान चलाया गया। लेकिन 18 प्लस वाले वंचित रह गए। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों का कहना है कि जैसे-जैसे टीके उपलब्ध हो रहे हैं उसी आधार पर वैक्सीनेशन कार्यक्रम चलाया जा रहा है।

शुक्रवार को स्वास्थ्य विभाग ने कुल 46 सेशन आयोजित किए थे। इनमें से केवल एक-दो सेंटरों पर ही 18 प्लस वालों को टीके लग पाए। इनकी संख्या महज 546 थी। मजबूरी में लोग अधिक पैसे खर्च कर निजी अस्पतालों में टीके लगवा रहे हैं।

विभाग के आंकड़ों पर नजर डालें तो निजी अस्पतालों में कुल पांच सेशन आयोजित किए गए थे। इनमें 3110 लोगों ने वैक्सीन की पहली डोज ली। वैसे तो पूरे जिले में कुल 6817 लोगों ने वैक्सीनेशन कराया था। जिनमें 45 प्लस उम्र के लोग शामिल थे।

इनमें भी अधिकांश लोगों ने पहली डोज ली। शनिवार को स्वास्थ्य विभाग ने कुल 43 सेशन आयोजित कर टीकाकरण कार्यक्रम चलाया। कुल 4947 लोगों का वैक्सीनेशन हुआ। लेकिन 18 प्लस वालों में केवल 150 लोगों को ही टीका लगा।

सभी स्वास्थ्य केंद्रों पर 45 प्लस वालों का टीकाकरण हो पाया। जो 18 प्लस वाले टीका लगवाने पहुंचे थे उन्हें लौटना पड़ा। 45 से 60 साल उम्र के 1172 लोगों ने सरकारी स्वास्थ्य केंद्रों पर पहली डोज ली। जबकि निजी अस्पतालों में 267 लोगों ने टीका लगवाया।

अलग-अलग आयु वर्ग के लिए आ रहा है स्टॉक

वैक्सीनेशन के नोडल अधिकारी डॉ. राजेश श्योकंद का कहना है कि 18 प्लस और 45 प्लस दोनों आयु वर्ग के लिए वैक्सीन का स्टॉक अलग -अलग आता है। इसलिए स्वास्थ्य विभाग मौजूद स्टॉक के हिसाब से ही सेशन आयोजित करता है। दो दिन से 18 से 44 साल तक के उम्र के लोगों के लिए स्टॉक उपलब्ध नहीं है। इससे सरकारी स्वास्थ्य केंद्रों पर उनका टीकाकरण बंद है।

हालांकि निजी अस्पतालों में दोनों आयु वर्ग के लोगों को टीके लगाने का काम किया जा रहा है। उन्होंने बताया शनिवार को सभी 43 सेशन में 45 साल से अधिक उम्र के लोगों को ही टीका लगाया गया।

24 घंटे में एक मरीज की मौत, 37 नए केस आए

कोरोना से शनिवार को 24 घंटे में एक मरीज की मौत हो गई। जबकि 37 नए केस आए। इस दौरान 120 मरीज ठीक होकर अपने घर पहुंच गए। अब जिले में एक्टिव केसों की संख्या घटकर 511 रह गई है। जबकि जिले में संक्रमितों का आंकड़ा 99344 पहुंच गया है।

​​​​​​​सीएमओ डा. रणदीप सिंह पूनिया के अनुसार अभी तक 98122 लोग कोरोना से ठीक होकर अपने घर जा चुके हैं। अब 234 मरीज अस्पतालों में भर्ती हैं। जबकि 277 लोग होम आइसोलेशन में हैं। 118 लोग आईसीयू में और 17 लोग वेंटिलेटर पर हैं।

खबरें और भी हैं...