पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

ददसिया रैनीवेल में गड़बड़ी:दो दिन से डेढ़ दर्जन इलाकों में पानी का संकट

फरीदाबाद13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
फरीदाबाद. रैनीवेल इन्हीं से शहर को पानी की सप्लाई की जाती है। - Dainik Bhaskar
फरीदाबाद. रैनीवेल इन्हीं से शहर को पानी की सप्लाई की जाती है।

बिजली निगम की लापरवाही के चलते औद्योगिक क्षेत्रों के साथ-साथ आवासीय क्षेत्रों में पानी का संकट पैदा हो गया है। शहर को पानी सप्लाई करने वाली रैनीवेल में गड़बड़ी पैदा होने से शहर के करीब डेढ़ दर्जन सेक्टरों और कॉलोनियों में दो दिन से पानी का संकट है। हैरानी की बात यह है कि फरीदाबाद महानगर विकास प्राधिकरण (एफएमडीए) के अधिकारी और कर्मचारी गड़बड़ी ठीक करने में जुटे हैं लेकिन मंगलवार शाम तक पानी की सप्लाई शुरू नहीं हो पाई थी। ऐसे में लोगों को प्राइवेट टैंकरों से पानी मंगाकर काम चलाना पड़ा।

उधर औद्योेगिक क्षेत्र आईएमटी में बिजली सप्लाई ठप होने से 36 घंटे तक 350 से अधिक इंडस्ट्री बंद रहीं। बारिश के कारण रैनीवेल की लाइन में गड़बड़ी पैदा हो गई। इससे सोमवार से कई क्षेत्रों में पानी की आपूर्ति ठप हो गई। रैनीवेल लाइन बंद होने से सेक्टर 14, 15, 16, 19, 28, 29, 21ए, बी, सी, डी, सेक्टर 48 समेत डबुआ कॉलोनी, पर्वतीया कॉलोनी, सारन, जवाहर कॉलोनी, एसजीएम नगर समेत दर्जनभर से अधिक काॅलोनियों में पानी की सप्लाई बंद हो गई। इन इलाकों में रैनीवेल की लाइन नंबर छह से पानी की सप्लाई आती है। इससे रोज करीब 50 एमएलडी पानी की सप्लाई होती है।

एफएमडीए के चीफ इंजीनियर एनडी वशिष्ठ का कहना है कि रैनीवेल में बिजली की गड़बड़ी होने से दिक्कत हुई है। इसे दूर करने के लिए सोमवार शाम से ही काम चल रहा है। कुछ सामान बाहर से मंगाना पड़ता है। उन्हांेेने कहा एसडीओ के नेतृत्व में कई कर्मचारी गड़बड़ी ठीक करने में लगे हैं। फिलहाल मंगलवार शाम तक पानी की सप्लाई बहाल नहीं हो पाई थी।

लापरवाही: अधिकारियों ने किसी को सूचना तक नहीं दी
अधिकारियों की लापरवाही का आलम यह है कि दो दिन से शहर के डेढ़ दर्जन से अधिक इलाकों में पानी की सप्लाई बंद है। लेकिन निगम अधिकारियों की ओर से किसी को इसकी सूचना तक नहीं दी गई। यहां तक कि अधिकारी फोन उठाने से भी बचने का प्रयास करते रहे। गौरतलब है कि अब रैनीवेल का काम एफएमडीए देख रहा है जबकि पानी सप्लाई का काम नगर निगम के पास है। नगर निगम के एसई ओमवीर का कहना है कि रैनीवेल शुरू होने के बाद जब पानी बूस्टर पर आ जाएगा तो सप्लाई शुरू कर दी जाएगी।

आईएमटी में 36 घंटे नहीं रही बिजली
औद्योेगिक क्षेत्र आईएमटी में बिजली निगम की लापरवाही से 36 घंटे बिजली नहीं रही। इससे 350 से अधिक इंडस्ट्री ठप पड़ी रहीं। इससे नाराज उद्यमी एक्सईएन कार्यालय पहुंचे और प्रदर्शन किया। आईएमटी एसोसिएशन के प्रधान प्रमोद राणा ने कहा कि यहां करीब 750 से अधिक यूनिटें हैं। अधिकांश बड़ी इंडस्ट्री के पास जनरेटर सेट हैं लेकिन उसकी लागत इतनी आती है कि उद्योगों को भारी नुकसान होता है।

उन्होंंने कहा 350 से अधिक इंडस्ट्री मध्यम और स्माॅल हैं। यही इंडस्ट्री सबसे अधिक रोजगार देती हैं। लेकिन बिजली निगम की लापरवाही के चलते उद्योंगो को भारी नुकसान हो रहा है। राणा ने कहा रविवार आधी रात से बारिश शुरू होने के बाद से बिजली सप्लाई बंद गई। जो करीब 36 घंटे बाधित रही। उद्यमियों ने यहां की एक्सईएन उर्मिल रानी पर फोन न उठाने का आरोप लगाया। ऐसे में वे किसे समस्या बताएं। उधर एसई नरेश कुमार कक्कड़ का कहना है कि बिजली फीडर में पानी भरने से समस्या पैदा हुई है। भविष्य में इस समस्या को ध्यान में रखा जाएगा।

खबरें और भी हैं...