• Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Gurugram
  • 460 New Cases Were Found, Five Cases Were Also Reported From Omicron, On The First Day, 66 Percent Of The Target Was Imposed On Teenagers

गुड़गांव कोरोना LIVE:460 नए केस मिले, ओमिक्रॉन के भी पांच केस सामने आए, पहले दिन लक्ष्य का 66 फीसदी किशोरों को लगाई

गुड़गांव5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
किशोरों को वैक्सीन लगाते हुए - Dainik Bhaskar
किशोरों को वैक्सीन लगाते हुए
  • गुड़गांव में कोरोना के 460 नए केस मिले, ओमिक्रॉन के भी पांच केस सामने आए, पहले दिन लक्ष्य का 66 फीसदी किशोरों को लगाई वैक्सीन
  • कोरोना के एक्टिव केस बढ़कर हुए 1825 हुए, ओमिक्रॉन के केवल दो पेशेंट एक्टिव

गुड़गांव में कोरोना संक्रमण की रफ्तार रोजाना तेज होती जा रही है। जिला में सोमवार को कोरोना के 460 नए केस मिले, जिसके साथ ही जिला में कोरोना के एक्टिव केस बढ़कर 1825 हो गए। जबकि ओमिक्रॉन के भी सोमवार को पांच नए केस मिले, लेकिन राहत इस बात की है कि अब तक मिले 39 पेशेंट में से केवल दो केस ही एक्टिव हैं। इसके अलावा सोमवार से जिला में 15 वर्ष से 18 वर्ष के बच्चों का भी वैक्सीनेशन शुरू हो गया है, जिसके साथ ही जिला के 38 वैक्सीनेशन सेंटरों पर 5656 वैक्सीनेशन किया गया। कई बच्चों ने वैक्सीनेशन को बढ़ावा देने के लिए ब्रांड एम्बेस्डर के रूप में और बच्चों को भी वैक्सीन लगवाने के लिए प्रेरित किया।

जिला में कोरोना संक्रमण की रफ्तार में रोजाना होती बढ़ोतरी से डर बढ़ता जा रहा है। पिछले तीन दिन में ही कोरोना संक्रमण के 1071 केस मिल चुके हैं। जबकि रिवकर कम हो रहे हैं। पिछले तीन दिन में केवल 186 पेशेंट रिकवर हुए हैं। इसके अलावा स्वास्थ्य विभाग ने बढ़ते संक्रमण को देखते हुए टेस्टिंग बढ़ा दी है, अब रोजाना छह हजार से अधिक लोगों के टेस्ट किए जा रहे हैं। लेकिन तीन हजार से अधिक लोगों के टेस्ट की रिपोर्ट पेंडिंग रहने से रिपोर्ट 48 घंटे में मिल पा रही है, जिससे संक्रमण को बढ़ावा मिलता है। ऐसे में अधिक से अधिक लोगों के आरटीपीसीआर की बजाय रैपिड एंटीजन टेस्ट करने चाहिए। इसके पॉजिटिव मिलने के बाद आरटीपीसीआर करने चाहिए। जिससे कि संक्रमण पर काबू पाया जा सके।

पहले दिन 15 से 18 साल के 5656 किशोरों को लगाई गई वैक्सीन

गुड़गांव में कोरोनारोधी वैक्सीनेशन के तहत जिला में 38 सेंटरों पर 15 साल से 18 साल तक के 5656 किशोरों को वैक्सीन लगाई गई। इसके अलावा कुल 26 हजार 637 डोज लगाई गई। जिनमें से 11604 पहला डोज व जबकि 11033 दूसरी डोज लगाई गई। इनमें से प्राइवेट सेंटरों पर केवल 1833 लोगों को वैक्सीन लगाई गई। हालांकि आठ हजार बच्चों को वैक्सीन लगाने का लक्ष्य रखा गया था, लेकिन 66 फीसदी लोगों को वैक्सीन लगाई गई।

खबरें और भी हैं...