पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कोरोना का कहर:जिले में 8 बच्चों को अनाथ कर गया कोरोना, बाल कल्याण विभाग के पास पहुंची रिपोर्ट

गुड़गांव2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
गुड़गांव. कोरोना से अनाथ बच्चों के रहने के लिए यहां की जाएगी व्यवस्था। - Dainik Bhaskar
गुड़गांव. कोरोना से अनाथ बच्चों के रहने के लिए यहां की जाएगी व्यवस्था।

गुड़गांव में कोरोना महामारी के कारण अनाथ हुए 8 बच्चों की सूची जिला प्रशासन ने तैयार कर ली है। रिपोर्ट अनुसार जिले में 8 बच्चों के माता-पिता दोनों की मृत्यु कोरोना के कारण हुई है। जिले में 20 बच्चे ऐसे हैं, जिनके माता या पिता में से किसी एक की मृत्यु हुई है। इस संबंध में बाल कल्याण विभाग के पास रिपोर्ट पहुंच गई है।

वहीं जिला प्रशासन की ओर से प्रदेश सरकार की ओर से ऐसे बच्चों की सहायता के लिए नियमानुसार तैयारी की जा रही है। जबकि जिला में अब तक कुल 919 लोगों की मौत कोरोना से हो चुकी है। कोविड-19 महामारी के दौरान अनाथ हुए बच्चों के लिए प्रदेश सरकार बाल सेवा योजना की घोषणा कर चुकी है।

इस योजना के तहत कोरोना संक्रमण की वजह अनाथ हुए बच्चों को सरकार हर महीने 2500 रुपए की आर्थिक मदद 18 साल तक देगी। इसके अलावा हर साल 12 हजार रुपए भी इन बच्चों को अन्य खर्चों के लिए दिए जाएंगे। जिन बच्चों के देखभाल करने वाला परिवार का कोई सदस्य नहीं है, उनकी देखभाल बाल देखभाल संस्थान करेंगे और बाल देखभाल संस्थान को 1500 रुपए प्रति बच्चा प्रति महीना 18 वर्ष तक सहायता भी सरकार द्वारा प्रदान की जाएगी।

यह राशि अवधि जमा के रूप में बैंक खाते में डाल दी जाएगी और 21 वर्ष की आयु होने पर बच्चे को मैच्योरिटी राशि दे दी जाएगी। गुड़गांव में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा भी अप्रैल व मई महीने में तेजी से बढ़ा। अप्रैल महीने में जहां 59919 लोग पॉजिटिव मिले, वहीं मई महीने में यह आंकड़ा 57012 रहा।

ऐसे में अब तक मिले कुल 180749 पॉजिटिव केस में से करीब 60 फीसदी से अधिक पॉजिटिव केस इन दो महीने में ही मिले। वहीं मौतों की बात करें तो अप्रैल महीने में कुल 112 लोगों की मौत हुई, जबकि मई महीने में 343 लोगों की मौत हो गई थी। जबकि जिला में कोरोना से अब तक 919 लोगों की मौत हो चुकी है।

अनाथ बच्चों के लिए बनकर चिल्ड्रन होम तैयार

कोरोना से अनाथ हुए बच्चों के लिए सेक्टर-15 पार्ट-2 में चिल्ड्रन होम तैयार किया गया है। इसमें दस साल तक के लड़के व 18 साल से कम आयु की लड़कियां रखी जाएंगी। जिला बाल कल्याण अधिकारी वीरेंद्र यादव ने बताया कि अनाथ हुए बच्चों की सूचना मिलने के साथ ही बच्चों को इस चिल्ड्रन होम में रखा जाएगा। यहां कैमरे से लेकर खाने तक की व्यवस्था कर दी गई हैं।

पिछले 24 घंटे में छह नए केस मिले, दो लोगों ने दम तोड़ा

जिला में कोरोना संक्रमण की रफ्तार बेशक कम हो गई है, लेकिन मौतों का आंकड़ा कम नहीं हो रहा है। शुक्रवार को भी जिला में छह नए केस मिले, जबकि सात पेशेंट रिकवर होकर घर लौट गए। वहीं इसके साथ ही एक्टिव केस का आंकड़ा कम होकर 90 रह गया है, जिनमें से अब मात्र 4 पेशेंट ही अस्पतालों में एडमिट हैं।

खबरें और भी हैं...