हादसा / गुड़गांव में 2 कंपनियों में आग, गुड़गांव, फरीदाबाद व दिल्ली तक के दमकल गाड़ियों को बुलाना पड़ा

गुड़गांव. सेनिटाईजर बनाने वाली कंपनी में लगी आग। गुड़गांव. सेनिटाईजर बनाने वाली कंपनी में लगी आग।
X
गुड़गांव. सेनिटाईजर बनाने वाली कंपनी में लगी आग।गुड़गांव. सेनिटाईजर बनाने वाली कंपनी में लगी आग।

  • खेड़कीदौला स्थित कंपनी की आग पर काबू पाने में लगे आठ घंटे

दैनिक भास्कर

May 24, 2020, 05:00 AM IST

गुड़गांव. गुड़गांव के खेड़की दौला स्थित सेनीटाइजर व परफ्यूम बनाने वाली फैक्ट्री के गोदाम में शनिवार सुबह करीब 9 बजे  आग लग गई। देखते ही देखते तेज हवा के साथ आग की भयंकर लपटें निकलने लगी। करीब आठ घंटे बाद शाम 5 बजे तक भी आग नहीं बुझाई जा सकी है। दमकल की कई गाड़ियां आग बुझाने में जुटी रही, लेकिन अब तक सफलता नहीं मिल पाई है।

जिला फायर ऑफिसर ईशम सिंह ने बताया कि आग को काबू करने के लिए 9.30 बजे से प्रयास किए जा रहे हैं। शाम 5 बजे तक आग पर काबू नहीं हो पाया है। ईशम सिंह ने शाम 5 बजे बताया कि अभी दो घंटे तक आग पर काबू पाए जाने की उम्मीद है। बेसमेंट में अधिक हीट होने के कारण बेसमेंट की आग बुझाने में परेशानी हो रही है।

वहीं शनिवार दोपहर बाद करीब 2 बजे बजघेड़ा स्थित एक पेपर फिल्टर बनाने वाली कंपनी में आग लग गई। गुड़गांव की सभी गाड़ियां खेड़की दौला की आग बुझाने में व्यस्त होने के कारण बजघेड़ा की कंपनी में काफी देर तक दमकल विभाग की गाड़ियां नहीं पहुंचने आग ने भीषण रूप धारण कर लिया। ऐसे में दिल्ली, नोएडा व फरीदाबाद से भी गाड़ियां बुलानी पड़ी, लेकिन शाम 6 बजे तक तक भी आग बुझाई नहीं जा सकी।
कंपनी के आसपास 10 मकानों को खाली कराना पड़ा
खेड़कीदौला स्थित स्टेला नामक कंपनी जो सेनेटाइजर व परफ्यूम आदि बनाने वाली कंपनी में सुबह 9 बजे आग की लपटें निकलने लगी। आग से बचाने के लिए कंपनी में काम कर रहे 80 से अधिक कर्मचारियों को सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया। वहीं कंपनी के साथ बने दस मकानों को भी खाली कराना पड़ा है। आग पर काबू पाने की कोशिश जारी है। दोनों आगजनी में अभी तक कोई जनहानि नहीं हुई, वहीं आर्थिक नुकसान का पता बाद में चलेगा। सूचना पर फैक्ट्री प्रबंधन से जुड़े लोग मौके पर पहुंच गए।

फायर ऑफिसर ईशम सिंह ने बताया कि गुड़गांव की 25 से अधिक दमकल गाड़ियों को आग पर काबू पाने के लिए बुलाना पड़ा। कंपनी का एक ब्लॉक पूरी तरह जल गया, जबकि दूसरे ब्लॉक को सुरक्षित बचा लिया गया है। एक ब्लॉक के बेसमेंट से आग लगी, जो फर्स्ट फ्लोर व सैकेंड फ्लोर में रॉ मैटेरियल, कैमिकल, खाली प्लास्टिक के डिब्बे व कागज आदि में आग लगी तो बुझने का नाम नहीं लिया। वहीं भीषण गर्मी के साथ तेज हवा ने भी आग पर काबू पाने में काफी परेशानी खड़ी कर दी।

कंपनी के कर्मचारियों ने बताया कि दोपहर 12 बजे के आसपास गोदाम में लगी आग पर तकरीबन काबू पा लिया गया था। लेकिन इस बीच दमकल की गाड़ियों में पानी खत्म हो गया। गाड़ियां पानी भर लौटीं तो आग और भड़क चुकी थी। दूसरी समस्या आसपास पानी भरने की सुविधा नहीं होने के चलते काफी दूर से पानी भरकर लाना पड़ा।
बजघेड़ा में पेपर फिल्टर बनाने वाली कंपनी में लगी भीषण आग
शनिवार दोपहर करीब एक बजे बजघेड़ा स्थित एक पेपर फिल्टर बनाने वाली कंपनी में भी आग लग गई। आग की सूचना दमकल विभाग को दी गई, लेकिन 25 गाड़ियां खेड़की दौला स्थित स्टेला कंपनी में लगी आग पर काबू पाने में लगी हुई थी। ऐसे में फरीदाबाद, नोएडा व दिल्ली के दमकल विभाग की गाड़ियां बुलानी पड़ी। देर शाम तक आग पर काबू नहीं पाया जा सका। फायरमैन सुनील ने बताया कि गाड़ियां नहीं पहुंच पा रही हैं, यहां पर पानी की सख्त जरूरत है। कंपनी का शैड जलकर गिर चुका है, लेकिन अभी फरीदाबाद से और गाड़ियां बुलाई गई हैं।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना