तीसरी लहर के लिए गुड़गांव तैयार:गुड़गांव के सरकारी अस्पतालों के 500 बेड के लिए पिछले एक साल में लगाए जा चुके हैं 11 ऑक्सीजन प्लांट

गुड़गांव17 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
प्रधानमंत्री का संबोधन सुनते अधिकारी । - Dainik Bhaskar
प्रधानमंत्री का संबोधन सुनते अधिकारी ।
  • कोरोना की दूसरी लहर में ऑक्सीजन खत्म होने के कारण 9 लोगों की हुई थी मौत
  • सीएमओ बिरेन्द्र यादव बोले- अब सरकारी अस्पतालों के लिए ऑक्सीजन पर्याप्त

गुरुग्राम जिले को ऑक्सीजन उत्पादन के क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनाने के लिए 2650 लीटर प्रति मिनट की क्षमता वाले दो पीएसए ऑक्सीजन संयत्रों की गुरुवार को विधिवत रूप से शुरुआत की गई। ये दोनों संयंत्र अलग अलग अस्पतालों में स्थापित गए हैं। नागरिक अस्पताल में पीएम केयर्स फंड से स्थापित 1000 लीटर क्षमता वाले पीएसए संयंत्र का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वर्चुअल माध्यम से जिलावासियों को समर्पित किया है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का मुख्य कार्यक्रम उत्तराखंड के ऋषिकेष स्थित अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में आयोजित था। वहां से उन्होंने देश के विभिन्न राज्यों व केंद्र शासित प्रदेशों में पीएम केयर्स फंड से स्थापित प्रेशर स्विंग एडजॉर्प्शन (पीएसए) ऑक्सीजन संयंत्रों का उद्घाटन वर्चुअल माध्यम से किया। इनमें गुरुग्राम जिला के सेक्टर 10 स्थित नागरिक अस्पताल में स्थापित पीएसए संयंत्र भी शामिल था। इसके साथ ही आज गुरुग्राम नगर निगम की मेयर मधु आजाद द्वारा सेक्टर-38 स्थित ताऊ देवीलाल स्टेडियम में स्थापित पीएसए संयंत्र का भी शुभारंभ किया गया।

वहीं सीएमओ डा. बिरेन्द्र यादव ने बताया कि अब सरकारी अस्पतालों के सभी 500 बेड के लिए पर्याप्त ऑक्सीजन रोजाना जनरेट हो सकेगी। जबकि एक साल पहले तक गुड़गांव के किसी भी अस्पताल में ऑक्सीजन प्लांट नहीं था और पूरी तरह सिलेंडरों पर ही पेशेंट निर्भर रहते थे।

कोरोना की दूसरी लहर में ऑक्सीजन की हुई थी भारी किल्लत,9 लोगों की हुई थी मौत
गुड़गांव में कोरोना की दूसरी लहर के दौरान तेजी से बढ़े मरीजों को ऑक्सीजन पर्याप्त नहीं मिल पाई थी। जिससे ऑक्सीजन के लिए लोगों को लाइनों में लगकर लंबा इंतजार करना पड़ा था। इसके अलावा जिला के प्राइवेट अस्पतालों में ऑक्सीजन खत्म होने से नौ लोगों की मौत हो गई थी। इसके अलावा दूसरी लहर के दौरान ऑक्सीजन की कालाबाजारी के मामले भी काफी सामने आए थे। जहां तय रेट से चार से पांच गुणा रेट में ऑक्सीजन सिलेंडर बेचे गए थे। जिला प्रशासन व पुलिस द्वारा भी कालाबाजारी करने को लेकर कई लोगों को भारी मात्रा में सिलेंडरों के साथ गिरफ्तार भी किया गया था।

गुड़गांव ऑक्सीजन उत्पादन में आत्मनिर्भता की ओर अग्रसर: डीसी
डीसी डा. यश गर्ग ने बताया कि ऑक्सीजन प्लांट के शुरू होने से गुरुग्राम जिला अब ऑक्सीजन उत्पादन में आत्मनिर्भर होने की ओर अग्रसर है। उन्होंने बताया कि नागरिक अस्पताल सेक्टर 10 में स्थापित एक हजार लीटर प्रति मिनट की क्षमता वाले संयंत्र के शुरू होने से 100 बेड पर 24 घंटे निर्बाध गति से ऑक्सीजन की सप्लाई हो सकेगी। वहीं ताऊ देवीलाल स्टेडियम के ऑक्सीजन प्लांट में आपात स्थिति में सिलेंडर भरने की भी सुविधा उपलब्ध है। इसके साथ ही स्टेडियम में स्थापित अस्थाई हेल्थ सेंटर में मौजूद करीब 300 बेडों पर भी निरंतर ऑक्सीजन सप्लाई की जा सकेगी। उन्होंने कहा कि ऑक्सीजन प्लांटों की स्थापना से कोरोना से मुकाबले और अन्य गंभीर रोगों के उपचार में मदद मिलेगी।

इन अस्पतालों में स्थापित किए गए हैं ऑक्सीजन प्लांट
​​​​​​​गुड़गांव के नागरिक अस्पताल में अब तक तीन ऑक्सीजन प्लांट स्थापित हो चुके हैं। इसके अलावा ईएसआईसी के सेक्टर-9 अस्पताल में दो ऑक्सीजन प्लांट, मानेसर में दो ऑक्सीजन प्लांट, पटौदी अस्पताल में एक, सोहना अस्पताल में एक ऑक्सीजन प्लांट स्थापित किया गया है। वहीं ताऊ देवीलाल स्टेडियम स्थित अस्थाई अस्पताल में दो ऑक्सीजन प्लांट लगाए गए हैं।

खबरें और भी हैं...