पॉल्यूशन को कम करने के लिए जद्दोजहद:दिल्ली में वाहनों की एन्ट्री बंद करने के आदेश से गुड़गांव में भी कम होगा पॉल्यूशन

गुरुग्राम2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • दिल्ली बॉर्डर पर जाम लगने की संभावना
  • 22 नवंबर तक केवल जरूरी सामान के वाहन ही कर सकेंगे दिल्ली में एन्ट्री

दिल्ली सरकार की ओर से दिल्ली में जरूरी वस्तुओं के वाहनों को छोड़ अन्य सभी तरह के कमर्शियल वाहनों की एन्ट्री बंद करने के आदेश जारी कर दिए हैं। ऐसे में दूसरे राज्यों व गुड़गांव से दिल्ली में जाने वाले वाहनों की संख्या कम हो जाएगी। जिससे गुड़गांव में भी पॉल्यूशन का स्तर कम होने की उम्मीद है। हालांकि गुड़गांव में बुधवार को एयर क्वालिटी इंडेक्स कम होकर 344 दर्ज किया गया। इसके अलावा मानेसर में भी पॉल्यूशन का स्तर कम होकर 336 रहा। यह स्थिति भी बहुत खराब स्थिति की श्रेणी में आती है, जिससे लंबे समय तक एक्सपोजर रहने से सांस लेने में परेशानी होने का खतरा बना रहता है। इसके अलावा गुड़गांव में बढ़ते पॉल्यूशन के कारण मरीजों की संख्या भी बढ़ रही है। खासकर सांस व दमा के रोगी ओपीडी में पहुंच रहे हैं।

बढ़ते पॉल्यूशन के कारण दिल्ली के 300 किलोमीटर के दायरे में आने वाले आधे थर्मल पॉवर प्लांट आगामी 30 नवंबर तक बंद करने के आदेश जारी किए गए हैं। इसके अलावा सरकारी व निजी कार्यालयों में भी 50 फीसदी कर्मचारियों को ही ऑफिस आने की अनुमति है जबकि 50 फीसदी कर्मचारियों के लिए वर्क फ्रॉम होम मोड पर काम करने के लिए कहा गया है। इसके अलावा एनसीआर में सरकारी व प्राइवेट कंस्ट्रक्शन पर 21 नवंबर तक रोक लगा दी गई है। हालांकि रेलवे सर्विस, मेट्रो सर्विस से जुड़ी कंस्ट्रक्शन एक्टिविटी जारी रहेगी। अगर कोई व्यक्ति या संस्था सड़क किनारे कंस्ट्रक्शन से जुड़ा मलबा फेंकता हुआ पाया जाता है तो उस पर भारी जुर्माना लगाने का प्रावधान किया गया है।

दिल्ली में प्रदूषण को रोकने के लिए कमर्शियल वाहनों की एन्ट्री बंद

दिल्ली एनसीआर में बढ़ते पॉल्यूशन को देखते हुए दिल्ली में जरूरी सामान पहुंचाने वाले वाहनों के अलावा सभी तरह के वाहनों की एन्ट्री पर रोक लगा दी है। यह रोक आगामी 21 नवंबर तक जारी रहेगी। इसके अलावा 10 साल से अधिक पुराने डीजल वाहन व 15 साल से ज्यादा पुराने पेट्रोल वाहन सड़कों पर चलते मिलने पर इम्पाउंड करने के आदेश दिए गए हैं। साथ ही चीफ सेक्रेटरी स्तर के अधिकारी को पॉल्यूशन को लेकर निगरानी करेंगे। अब 22 नवंबर को आयोग के सामने कम्प्लायंस रिपोर्ट पेश करने के आदेश दिए गए हैं।

कहां कितना रहा एयर क्वालिटी इंडेक्स

गुड़गांव में बुधवार को एयर क्वालिटीइंडेक्स 344 रहा। वहीं मानेसर में 336 दर्ज किया गया। इसके अलावा दिल्ली में 375, फरीदाबाद में 378 व जींद में 387 दर्ज किया गया। हरियाणा के अलावा देश के 141 शहरों की सूची में जींद सबसे प्रदूषित शहर रहा। इससे पहले गत मंगलवार को भी जींद सबसे प्रदूषित शहर रहा था। लेकिन मानेसर में पॉल्यूशन का स्तर कम हो गया है।