सामाजिक मुद्दों पर मूवी:सामाजिक मुद्दों पर मूवी बनाने की लगी होड़, कोविड-19, दहेज, घरेलू हिंसा आदि समस्याओं को उठा रहे निर्माता

गुड़गांवएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
कंपनी के अध्यक्ष लाल भाटिया - Dainik Bhaskar
कंपनी के अध्यक्ष लाल भाटिया
  • फिल्म उद्योग में इन सामाजिक मुद्दों को उजागर करती हुई मूवी बनाने की पहल हो रही है

देश में रोजाना कोई न कोई महिला दहेज और घरेलू हिंसा का शिकार होकर मौत के मुंह में समा जाती है। आजकल फिल्म उद्योग में इन सामाजिक मुद्दों को उजागर करती हुई मूवी बनाने की पहल हो रही है। इन दिनों डेविड एंड गोलिआथ फ़िल्म्स कंपनी द्वारा इसी तरह की फिल्में बनाने पर जोर दिया जा रहा है।

कंपनी के अध्यक्ष लाल भाटिया का कहना है कि डेविड एंड गोलिआथ फ़िल्म्स प्रोडक्शन कंपनी अब पूरी तरह से विभिन्न तरह की कहानियों को रोचक ढंग से पेश करने में लगी है। कपनी हमेशा से ही उपेक्षित रहे समुदायों की कहानियां सामने लाने की कोशिश करती रही है। इन कोशिशों का अक्स 'एवरी 68 मिनट्स', 'सुनो ना पापा' और 'पनाह' जैसी फिल्मों में दिखाई देता है। 'अ सेपरेट स्काय' में दर्शाया गया है कि अभिव्यक्ति की आज़ादी का इस्तेमाल चुनिंदा ढंग से नहीं किया जाना चाहिए। यह फ़िल्म आमिर अज़ीज़ की कविता 'सब याद रखा जाएगा' से प्रेरित है। नागरिक संशोधन क़ानून को लेकर सवाल उठानेवाली यह फ़िल्म बंगाल की‌ ओर से बनाई गई ऐसी पहली फ़िल्म है।

भाटिया का कहना है कि तीन साल में डेविड एंड गोलिआथ फ़िल्म्स ने 36 अवार्ड्स अपने नाम किये हैं। उसे 50 से अधिक सम्मान प्राप्त हुए हैं। उसे हासिल कुछ चुनिंदा सम्मानों में कान वर्ल्ड फिल्म फेस्टिवल, 11वां दादासाहेब फिल्म फेस्टिवल 2021, कैलिफोर्निया म्यूजिक वीडियो एंड फिल्म अवॉर्ड्स, इस्तांबुल फिल्म अवॉर्ड्स 2021, वाइट यूनिकॉर्न इंटरनेशनल फ़िल्म फ़ेस्टिवल, लंदन म्यूज़िक वीडियो फ़ेस्टिवल और ग्लोबल म्यूज़िक अवॉर्ड्स का शुमार है।

भाटिया कहते हैं कि वह हमेशा से ऐसे लोगों को आगे लाने में यकीन करता रहे हैं, जो भीड़ से अलग होते हैं। अगर ऐसे लोगों को जानें-समझें तो बहुत मुमकिन है कि हममें कई तरह की समानताएं निकल आएंगी। कंपनी की ओर से लॉकडाउन के दौरान घरेलू हिंसा के ज़रिए लोगों में सामाजिक चेतना जगाने की भी कोशिश की गई है। इस फ़िल्म में बांग्ला फ़िल्मों के कई जाने-माने चेहरों ने काम किया है।

कंपनी की ओर से कोविड-19 को लेकर बनाए गये 'उम्मीद' नामक प्रेरक म्यूज़िक वीडियो ने कैलिफ़ोर्निया म्यूज़िक वीडियो ऐंड फ़िल्म अवॉर्ड्स में बेस्ट वर्ल्ड म्यूज़िक कैटीगरी का पुरस्कार हासिल किया. उनकी ओर से कोविड-19 प्रोटोकॉल के प्रति लोगों में जागरुकता फ़ैलाने के लिए जनहित में 'समझो भारतवासी' नामक एक और म्यूज़िक वीडियो भी बनाया था। इसे भारत सरकार के आयुष मंत्रालय के साथ साझा तौर पर बनाया गया था।

भाटिया का मानना‌ है कि चाहे हालात कितने भी चुनौतीपूर्ण क्यों ना हों, डेविड एंड गोलिआथ फ़िल्म्स आगे भी इसी तरह की अनूठी और रोमांच से भरपूर फ़िल्मों का निर्माण करता रहेगा।

खबरें और भी हैं...