• Hindi News
  • Local
  • Delhi ncr
  • Gurgaon
  • The Family Members Of The Patient Created A Ruckus At The Residence Of The Corporation Commissioner When The Oxygen Ran Out In The Hospital

टूट रहा सब्र का बांध:अस्पताल में ऑक्सीजन खत्म होने पर मरीज के परिजनों ने निगम कमिश्नर के आवास पर किया हंगामा

गुड़गांव6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
निगम कमिश्नर की कोठी के बाहर हंगामा करते मरीजों के परिजन। - Dainik Bhaskar
निगम कमिश्नर की कोठी के बाहर हंगामा करते मरीजों के परिजन।
  • पुष्पांजलि के डाॅक्टर ने ऑक्सीजन खत्म होने की बात कहकर डिस्चार्ज करने को कहा तो परिजनों ने जताया रोष

गुड़गांव के प्राइवेट अस्पतालों में ऑक्सीजन की कमी से पीड़ितों के सब्र का बांध टूटता जा रहा है। बुधवार सुबह मरीजों के परिजनों में उस समय हड़कंप मच गया, जब सिविल लाइन स्थित पुष्पांजलि अस्पताल के डाक्टरों द्वारा ऑक्सीजन खत्म होने की बात कहकर उन्हें डिस्चार्ज के लिए कह दिया। ऐसे में मरीजों के परिजनों को कुछ नहीं उपाय मिला तो उन्होंने नजदीक स्थित नगर निगम कमिश्नर आवास के सामने प्रदर्शन शुरू कर दिया। इस दौरान उन्होंने निगम कमिश्नर विनय प्रताप सिंह से मिलने की जिद की।

लोगों ने नाराजगी जताई कि शहर के अस्पतालों में ऑक्सीजन आपूर्ति की जिम्मेवारी नगर निगम द्वारा लिए जाने के बाद से स्थिति और भी बिगड़ गई है। निगम कमिश्नर ने भरोसा दिलाया था कि अब किसी भी अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी नहीं रहने दी जाएगी। नारे लगते हुए लोग ट्रैफिक जाम करने के लिए लोग रोड पर बैठ गए।

कुछ ही देर बाद ऑक्सीजन गैस की सप्लाई पुष्पांजलि अस्पताल में पहुंचा दी गई। वहीं पुष्पांजलि के निदेशक डा. एसपी यादव ने कहा कि वे बुधवार सुबह मरीजों के परिजनों को बताया गया था कि उनके पास ऑक्सीजन के मात्र 9 सिलेंडर बचे हैं। लेकिन किसी व्यक्ति ने मरीजों के परिजनों को भड़का दिया और भड़के हुए लोग हंगामा करने लगे।

प्रशासन के झूठे दावे

दूसरी तरफ, ऑक्सीजन की आपूर्ति के बेहतर प्रबंधन के लिए दावे प्रशासन द्वारा किए जा रहे हैं। इसके लिए अलग-अलग नोडल अधिकारी भी तैनात किए गए हैं। लेकिन अभी भी अस्पतालों में प्रोपर ऑक्सीजन की सप्लाई नहीं हो रही है। गुड़गांव के सिविल लाइन स्थित पुष्पांजलि अस्पताल में ऑक्सीजन को लेकर हंगामा हुआ, यह बात अस्पताल के डाक्टर एसपी यादव ने भी मानी। इसके अलावा गुड़गांव के तीर्थराम अस्पताल में भी ऑक्सीजन की कमी को लेकर काफी समस्या हुई। खासकर मरीजों के परिजनों ने इस बारे में सोशल मीडिया पर भी शिकायत की। यही नहीं अस्पताल में एंबुलेंस लेकर पहुंचे एम्बुलेंस चालक ने भी ऑक्सीजन की कमी को बयां किया।

गत मंगलवार को भी कई अस्पतालों में हुई ऑक्सीजन की किल्लत

इससे कुछ हद तक बड़े अस्पतालों में जो पिछले दिनों ऑक्सीजन को लेकर किल्लत की समस्या सामने आई थी, वो पहले के मुकाबले कम हुई है, लेकिन बुधवार को भी कुछ अस्पतालों में इसकी दिक्कत बनी रही है। वहीं गत मंगलवार को भी सिविल लाइंस स्थित, सेक्टर-90 स्थित, खांडसा रोड स्थित और सेक्टर-84 स्थित चार निजी अस्पतालों में ऑक्सीजन की कमी रही। इन अस्पतालों में भर्ती कुछ मरीजों के परिजनों ने ट्वीट कर सरकार और प्रशासन से मदद की गुहार भी लगाई। अस्पतालों में ऑक्सीजन की कमी के कारण मरीजों के परिवार वालों को भी ऑक्सीजन सिलेंडरों का प्रबंधन करने के लिए ऑक्सीजन प्लांटों के चक्कर लगाने पड़ रहे हैं।

जिले में 3129 नए पेशेंट मिले, सात की मौत, 1566 पेशेंट रिकवर होकर लौटे

जिले में कोरोना संक्रमण की रफ्तार नहीं थम रही है। गत वर्ष जून में हुई सबसे अधिक 88 मौत का रिकॉर्ड अप्रैल में आकर टूट गया। बुधवार को सात पेशेंट की मौत के साथ ही अब अप्रैल महीने के 28 दिन में ही 89 मौत हो चुकी है। वहीं बुधवार को गुड़गांव में 3129 नए केस मिले।

हालांकि राहत की बात है कि बुधवार को 1566 पेशेंट ठीक होकर घर लौट गए। जिला में कोरोना संक्रमण नए केस तेजी से बढ़ रहे हैं। जिला में अप्रैल महीने के 28 दिन में ही 50 हजार से अधिक केस मिल चुके हैं। जबकि ठीक होने वाले पेशेंट का आंकड़ा मात्र 21 हजार है। ऐसे में लोगों को कोरोना वायरस से लोगों को सचेत रहने की जरूरत है। जबकि बुलेटिन में नए केस का आंकड़ा मात्र 2934 दिखा गया है।

मेवात में कोरोना से एक की मौत, 91 नए मामले आए

नूंह| जिले में कोरोना संक्रमण जिले में धीरे धीरे कहर बरपा रहा है। बुधवार को कोरोना से जिले में एक व्यक्ति की मौत हो गई। इसके अलावा कोरोना के 91 रिकार्डतोड़ नए केस भी सामने आए। इससे पूर्व जिले में सर्वाधिक 61 मामले सामने आए। हालांकि इस बीच 14 लोग स्वस्थ भी हुए। बुधवार को कोरोना से फिरोजपुर झिरका के 74 वर्षीय एक बुजुर्ग व्यक्ति की मौत हो गई।

खबरें और भी हैं...