पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बिगड़ रहे हालात:कोरोना से गुड़गांव में बिगड़ती जा रही स्थिति; 24 घंटे में 17 की मौत, सात दिन में 91 लोगों ने तोड़ा दम

गुड़गांवएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • संक्रमण से मौत के मामले तोड़ रहे रिकॉर्ड, अब तक जिले में हुई मौतों का आंकड़ा बढ़कर 567 पहुंचा

गुड़गांव में कोरोना संक्रमण अधिक जानलेवा होता जा रहा है। शुक्रवार को जिला में रिकॉर्ड 17 लोगों ने दम तोड़ दिया। जिससे अब तक जिला में हुई मौतों का आंकड़ा बढ़कर 567 तक पहुंच गया। पिछले सात दिन में ही 91 लोगों की मौत हो चुकी है।

इसके अलावा अप्रैल महीने भी 112 लोगों की मौत कोरोना संक्रमण से हुई हैं। जबकि पिछले 37 दिन में ही 203 लोगों की मौत हुई हैं। वहीं कोरोना संक्रमण के केस व कोरोना से हुई मौतों के मामले में केन्द्र सरकार ने भी राज्य सरकार से गुड़गांव की रिपोर्ट मांगी है।

गुड़गांव हरियाणा में सबसे अधिक कोरोना संक्रमण से प्रभावित जिला है, जिसमें अब तक डेढ लाख से अधिक पॉजिटिव केस मिल चुके हैं। प्रदेश के सीएम मनोहर लाल द्वारा व्यवस्था की जिम्मेवारी लेने के बाद भी स्थिति में सुधार नहीं हो रही है। गुड़गांव में अब तक 1310403 लोगों की टेस्टिंग की जा चुकी है। जिनमें से अब तक 150219 पॉजिटिव केस मिल चुके हैं। ऐसे में जहां ओवरऑल 12 फीसदी पॉजिटिविटी रेट है, जबकि अप्रैल व मई में पॉजिटिविटी रेट 40 फीसदी से अधिक हो गया है।

हालांकि राहत की बात है कि जिला में अब तक 1.10 लाख लोग कोरोना से जंग जीत चुके हैं। शुक्रवार को बेशक 17 लोगों की कोरोना से मौत हो गई, लेकिन मई महीने में दूसरे दिन नए केस के मुकाबले रिकवर होने पेशेंट की संख्या अधिक रही। शुक्रवार को जहां 3588 नए केस मिले वहीं 4253 पेशेंट रिकवर होकर घर लौट गए।

सरकारी आंकड़ों से कहीं अधिक हो रही मौतें

गुड़गांव में अप्रैल महीने में जहां रिकॉर्ड में केवल 112 मौतें दर्ज हुई, जबकि जिला में कोविड प्रोटोकॉल से 1350 डेडबॉडी जलाई गई। इसी तरह मई महीने के सात दिन में 91 लोगों की मौत रिकॉर्ड दर्ज की गई हैं, जबकि कोविड प्रोटोकॉल से 850 लोगों की मौत हो चुकी है। यह आंकड़े बेशक चौकाने वाले हैं, लेकिन वास्तव में शमशान घाट की स्थिति भयावह बनी हुई है। शमशान घाटों में भी 10 घंटे तक की वेटिंग से डेडबॉडी जलाई जा रही हैं।

खबरें और भी हैं...