35 सांसदों ने नहीं पूछे सवाल, पांच बोले ही नहीं:पीआरएस इंडिया और लोकसभा के आंकड़ों से पता चला- 15 सांसद सदन में 100% उपस्थित रहे, इनमें 11 भाजपा के

नई दिल्ली7 महीने पहलेलेखक: धर्मेंद्र सिंह भदौरिया
  • कॉपी लिंक

हम जिन सांसदों को चुनकर भेजते हैं वह कितने गंभीर हैं, यह इससे पता चलता है कि सिर्फ 15 सांसद ही लोकसभा में 100% उपस्थित रहे। वहीं, 35 सांसद ऐसे हैं जिन्होंने कोई प्रश्न नहीं पूछा। इनमें से पांच तो ऐसे हैं जिन्होंने न किसी डिबेट में हिस्सा लिया और न प्राइवेट मेंबर बिल लाए। हालांकि नौ सांसद ऐसे भी हैं, जिन्होंने 250 से ज्यादा सवाल पूछे। ये तथ्य संसद की कार्यवाही पर नजर रखने वाली संस्था पीआरएस इंडिया की स्टडी और लोकसभा के आंकड़ों में सामने आए।

17वीं लोकसभा के गठन के बाद एक जून, 2019 से 13 फरवरी, 2021 के आंकड़ों के मुताबिक, जिन सांसदों ने एक भी सवाल नहीं पूछा उनमें कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव, पूर्व अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव, भाजपा सांसद एसएस आहलूवालिया, पूर्व मंत्री राधामोहन सिंह, महेश शर्मा जैसे दिग्गज शामिल हैं।

जिन 35 सांसदों ने प्रश्न नहीं पूछे उनमें भाजपा के 17 हैं। सौ फीसदी उपस्थिति वाले 15 सांसदों में 11 भाजपा और दो-दो डीएमके, जद-यू के हैं। सबसे कम (दो फीसदी) उपस्थिति यूपी के घोषी से बसपा सांसद अतुल कुमार सिंह की रही। प. बंगाल की सीएम ममता बनर्जी के भतीजे और डायमंड हार्बर से सांसद अभिषेक बनर्जी 12% उपस्थित रहे और सिर्फ एक प्रश्न पूछा। हमीरपुर से भाजपा सांसद पुष्पेंद्र सिंह चंदेल ने सर्वाधिक 510 डिबेट में हिस्सा लिया।

सवाल न पूछने वालों में 17 भाजपा सांसद

  • भाजपा: बिश्वेस्वर तुडू मयूरभंज, दुर्गादास उईके-बैतूल, हिमांद्री सिंह-शहडोल, किशन कपूर-कांगड़ा, महेश शर्मा-नोएडा, राधामोहन सिंह-पूर्वी चंपारण, राजबहादुर सिंह-सागर, राजबीर सिंह-एटा, गुहाराम अजगाल्ली-जांजगीर चांपा, सतीश कुमार-अलीगढ़, सत्यपाल सिंह-बागपत, रमेश चंदप्पा जीगाजीनागी-बीजापुर, एसएस आहलूवालिया-दुर्गापुर, उदयराजे प्रतापसिंह महाराज भोसले-सतारा, सुनील सोरेन-दुमका, वीरेंद्र सिंह-बलिया, केसी पटेल-बलसाड।
  • तृणमूल कांग्रेस: अबू ताहिर खान-मुर्शिदाबाद, चौधरी मोहन जतुआ-मथुआपुर, शताब्दी रॉय-बीरभूमि, सुदीप बंधोपाध्याय-कोलकाता उत्तर।
  • सपा: अखिलेश यादव-आजमगढ़, मुलायम सिंह-मैनपुरी, शफीकुर्ररहमान बर्क-संभल।
  • अन्य: सोनिया गांधी (कांग्रेस), सुरेश नंदीगाम और जी. माधवी (वायएसआरसीपी), अफजाल अंसारी और अतुल कुमार सिंह (बसपा), कविथा मालथू (टीआरएस), पकौड़ीलाल (अपना दल), प्रज्जवल रेवन्ना (जेडीएस), प्रिंस राज (लोजपा), एसएस पलानीमनीक्कम (डीएमके), सुनील कुमार (जदयू)।

मां सोनिया से आगे राहुल
उपस्थिति-प्रश्न में वायनाड सांसद राहुल गांधी मां और रायबरेली सांसद सोनिया से आगे हैं। सोनिया 44% उपस्थित रहीं, लेकिन सवाल नहीं पूछा और एक डिबेट में हिस्सा लिया। वहीं, राहुल की उपस्थिति 53 फीसदी रही। उन्होंने 58 सवाल पूछे। साथ ही तीन डिबेट में शामिल हुए।

बेटे सन्नी से आगे हैं हेमा

उपस्थिति-प्रश्न पूछने में मथुरा से भाजपा सांसद हेमामालिनी बेटे और गुरदासपुर सांसद सन्नी देओल से आगे हैं। हेमा की उपस्थिति 55% रही, 23 सवाल पूछे और 12 डिबेट में हिस्सा लिया। सन्नी 33% उपस्थित रहे और एक प्रश्न पूछा।

हर सदस्य रोज दे सकते हैं 5 प्रश्न, फैसला लॉटरी से

लोकसभा की पूर्व महासचिव स्नेहलता श्रीवास्तव ने बताया, हर सांसद रोज पांच प्रश्न दे सकते हैं। ऐसे में औसतन दो हजार सवाल रोज मिलते हैं, जिनमें 250 सूचीबद्ध होते हैं, जिनका चयन लॉटरी से होता है। इनमें 20 तारांकित प्रश्न सदन में पूछे जाते हैं। 230 प्रश्न अतारांकित होते हैं और बाकी लैप्स हो जाते हैं। ऐसे में प्रश्न न पूछने का अर्थ यह नहीं कि उन्होंने सवाल नहीं पूछा।

सबसे ज्यादा सवाल एनसीपी की सुप्रिया ने पूछे

जिन नौ सांसदों ने 250 से ज्यादा सवाल पूछे उनमें पांच महाराष्ट्र से और चार भाजपा के हैं। बारामती से एनसीपी सांसद सुप्रिया सुले ने सर्वाधिक 286 प्रश्न पूछे व 4 प्राइवेट बिल पेश किए। धुले से भाजपा के सुभाष भामरे और शिरूर से एनसीपी के अमोल कोल्हे ने 277-277 सवाल पूछे। अंडमान निकोबार से कांग्रेस के कुलदीप शर्मा ने 266 सवाल किए और 379 डिबेट में हिस्सा लिया।

बलूरघाट सांसद सुकांता मजूमदार ने 263, मंदसौर सांसद सुधीर गुप्ता ने 261, जमशेदपुर के विद्युत महतो ने 261 (तीनों भाजपा), मावल से श्रीरंग बारने ने 259 व मुंबई नॉर्थ-वेस्ट से गजानन कीर्तिकर ने 255 सवाल पूछे (दोनों शिवसेना)।

ये सांसद बोले ही नहीं

  • चौधरी मोहन जतुआ-तृणमूल, अतुल कुमार सिंह-बसपा, उदयराजे भोसले-भाजपा, सुशील कुमार-जदयू, रमेश चंदप्पा-भाजपा।
  • पीएम-केंद्रीय मंत्री शामिल नहीं: प्रति सांसद सवाल करने का औसत 66 व उपस्थिति का प्रतिशत 88 है। इस अध्ययन में पीएम, लोकसभा अध्यक्ष व केंद्रीय मंत्रियों को शामिल नहीं किया गया है।

ये सांसद सदन में सौ फीसदी उपस्थित रहे

  • भाजपा: बद्रीनाथ चौधरी-अजमेर, भोलानाथ-मछलीनगर, जगदंबिका पाल-डुमरियागंज, मनोज किशोरभाई-मुंबई नार्थ ईस्ट, मोहन मंडावी-कांकेर, प्रदीप कुमार-कैराना, राजबीर सिंह दिलेर-हाथरस, रमेश कौशिक-सोनीपत, निशिकांत दुबे-गोड्‌डा, गोपाल शेट्‌टी-मुंबई उत्तर। उत्तराखंड के मौजूदा सीएम तीरथ सिंह रावत भी 100 फीसदी उपस्थित रहने वाले लोकसभा सदस्य रहे।
  • धनुष कुमार-तेनकाशी, डीएनवी सेंथिल कुमार-धरमपुरी-डीएमके, सुनील कुमार-वाल्मिकीनगर व कौशलेंद्र कुमार-नालंदा-जदयू।
खबरें और भी हैं...