पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

ऑक्सीजन की कमी से मौतों पर विवाद:केंद्र के ऑक्सीजन की कमी से नहीं हुई मौत के बयान को आप ने झूठा बताया

नई दिल्ली10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
जैन ने कहा कि दिल्ली में जिन कोरोना पीडितों की मौत उपचार के दौरान ऑक्सीजन की कमी से मौतें हुई हैं। - Dainik Bhaskar
जैन ने कहा कि दिल्ली में जिन कोरोना पीडितों की मौत उपचार के दौरान ऑक्सीजन की कमी से मौतें हुई हैं।

संसद के मॉनसून सत्र के पहले दिन केंद्रीय स्वास्थ्य राज्यमंत्री भारती प्रवीण पवार के द्वारा देश के किसी राज्‍य में ऑक्सीजन की कमी से कोई मौत नहीं होने के लिखित जवाब के बाद ऑक्सीजन से मौत को लेकर भाजपा और आम आदमी पार्टी में घमासान बयानबाजी शुरू हो गई है।

केंद्रीय स्वास्थ्य राज्यमंत्री पवार पर उनके बयान को दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया और स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने प्रेस कांफ्रेंस कर मोर्चा खोलते हुए महा झूठ बताते हुए कहा कि ऑक्सीजन के कारण दिल्ली में सैकंडों लोगों की मौत हुई। केंद्र सरकार को झूठ बोलने के बजाय मौत की जिम्मेदारी लेनी चाहिए थी।

सिसोदिया और जैन के बयानों पर भाजपा प्रवक्ता डा. संबीत पात्रा केंद्र सरकार के बचाव में मैदान में उतरते हुए कहा कि सिसोदिया और सत्येंद्र जैन राजनीति करने के बजाय यह दिखाए कि दिल्ली सरकार ने केंद्र को कहां लिखकर दिया है दिल्ली में उपचार के दौरान किसी मरीज का का मौत कोरोना से हुआ है। पात्रा ने कहा कि दिल्ली सरकार ने कोरोना से मौत को लेकर जो आंकड़ा केंद्र सरकार को भेजा है उसमें कहीं भी उल्लेख नहीं है कि दिल्ली में ऑक्सीजन के कारण किसी की मौत हुई है।

पत्रकार वार्ता में सिसोदिया ने कहा दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा कि दिल्ली और देश के कई जगहों पर ऑक्सीजन की कमी से मौतें हुईं है। ऑक्सीजन की कमी से हुई मौतों पर जिम्मेदारी लेने के बजाए, मौतों को केंद्र सरकार झुठला रही है। सिसोदिया ने केंद्र सरकार को चुनौती देते हुए कहा कि हिम्मत है तो बिना किसी अवरोध के जांच कमिटी को अपना काम करने दें। जैन ने कहा कि दिल्ली में जिन कोरोना पीडितों की मौत उपचार के दौरान ऑक्सीजन की कमी से मौतें हुई हैं।

केजरीवाल जासूसी केस के सामने आने के बाद चुप क्यों: अनिल

नई दिल्ली| दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष चौधरी अनिल कुमार ने पूर्व विधायक आदर्श शास्त्री के साथ प्रेस वार्ता कर आरोप लगाते हुए कहा कि मोदी सरकार ने पेगासस‘ स्पाइवेयर का इस्तेमाल राजनेताओं, पत्रकारों, शिक्षाविदों, नागरिक अधिकार कार्यकर्ताओं को निशाना बनाने के लिए किया है। चौधरी अनिल कुमार ने कहा कि पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की जासूसी की बात सामने आ रही है।

उन्होंने कहा कि 2019 के लोकसभा चुनाव के दौरान राहुल गांधी व उनके दो करीबी सहयोगी अलंकार सवाई और सचिन राव के नम्बरों की जासूसी हुई। उन्होंने आरोप लगाया कि मोदी सरकार द्वारा राफेल घोटाले में क्लीन चीट प्राप्त करने की मंशा से भारत के तत्कालीन मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई की भी जासूसी हुई। अनिल कुमार ने आरोप लगाया कि मोदी सरकार ने स्पाइवेयर ‘पेगासस‘ का इस्तेमाल भारत की संसद के 2019 के आम चुनावों में सेल फोन हैक करने के लिए भी किया था।

खबरें और भी हैं...